न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

‘आप’ को नहीं मिला ‘हाथ’ का साथः केजरीवाल ने कहा-राहुल ने गठबंधन से किया इनकार

आम आदमी पार्टी से गठबंधन पर दो खेमों में बंटी हुई थी दिल्ली कांग्रेस

403

Visakhapatnam: दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के गठबंधन को लेकर आखिरी उम्मीद भी अब खत्म हो गयी है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव के लिए नयी दिल्ली में आम आदमी पार्टी (आप) के साथ गठबंधन करने से इनकार कर दिया है.

ज्ञात हो कि आप से गठबंधन को लेकर दिल्ली कांग्रेस दो खेमों में बंट गयी थी, और पार्टी ने आखिरी निर्णय राहुल गांधी पर छोड़ दिया था. अब पार्टी अध्यक्ष के इनकार के साथ ही गठबंधन की अटकलों पर विराम लग गया है.

इसे भी पढ़ेंः चतरा संसदीय सीट: बड़ा सवाल क्या चतरा में फ्रैंडली मैच खेलेगी कांग्रेस या हटेगी पीछे?

hosp3

राहुल ने गठबंधन से किया इनकार- केजरीवाल

विशाखापत्तनम हवाईअड्डे पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान ‘आप’ प्रमुख ने कहा कि उन्होंने हाल ही में गांधी से मुलाकात की थी. कांग्रेस अध्यक्ष ने आप के साथ चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया.

दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष शीला दीक्षित के उनसे संपर्क ना करने के बयान पर केजरीवाल ने कहा, ‘हमने राहुल गांधी से मुलाकात की थी. दीक्षित इतनी महत्वपूर्ण नेता नहीं हैं.’

इसे भी पढ़ेंःलोकसभा चुनाव : सारे कयासों पर डॉ अजय ने लगाया विराम, कहा, “महागठबंधन…

केजरीवाल ने गठबंधन को लेकर की थी पहल

ज्ञात हो कि केजरीवाल लोकसभा चुनाव में भाजपा को सत्ता से दूर रखने के लिए लगातार कांग्रेस से गठबंधन करने की अपील कर रहे हैं. पार्टी सूत्रों ने कहा था कि गठबंधन के मुद्दे पर दिल्ली कांग्रेस बंटी हुई है. दीक्षित और उनके तीन कार्यकारी अध्यक्ष गठबंधन का विरोध कर रहे हैं.

पार्टी के एक उच्च पदस्थ सूत्र ने हाल ही में कहा था कि दिल्ली के दीर्घकालिक परिणामों पर ध्यान देते हुए गठबंधन की संभावना कम है.

सूत्र ने कहा, ‘ बड़ा सवाल यह है कि गठबंधन के बाद आप 2020 चुनाव में कांग्रेस का मुकाबला कैसे करेगी. साथ ही, पार्टी को राजनीतिक रूप से ज्यादा फायदा नहीं होगा क्योंकि केजरीवाल द्वारा केवल 2-3 सीटों की पेशकश की जा रही है.’ कांग्रेस 2014 लोकसभा चुनाव खाता भी नहीं खोल पाई थी.

बता दें कि दिल्ली की सात लोकसभा सीटों के लिए 12 मई को मतदान होना है.

इसे भी पढ़ेंःडीके तिवारी राज्य के मुख्य सचिव बने, सुखदेव सिंह बने विकास आयुक्त, केके खंडेलवाल को वित्त का अतिरिक्त प्रभार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: