JharkhandRanchi

राज्य प्रशासनिक सेवा के पांच अफसर बदले, वीरेंद्र भूषण बने गिरिडीह के कार्यपालक दंडाधिकारी

Ranchi: राज्य सरकार ने राज्य प्रशासनिक सेवा के पांच अफसरों को इधर से उधर किया है. वीरेंद्र भूषण को गिरिडीह का कार्यपालक दंडाधिकारी बनाया गया है. वे पदस्थापन की प्रतीक्षा में थे. 20 सूत्री कार्यान्यवन समिति के उपाध्यक्ष के आप्त सचिव अतुल कुमार की सेवा योजना सह वित्त विभाग को सौंप दी गयी है. बोकारो के कार्यपालक दंडाधिकारी प्रभाष कुमार दत्ता की सेवा ग्रामीण विकास विभाग को सौंप दी गयी है. रामगढ़ के कार्यपालक दंडाधिकारी राहुल शर्मा की सेवा ग्रामीण विकास विभाग को सौंपी गयी है. पदस्थापन की प्रतीक्षा में अरुण उरांव को गढ़वा का कार्यपालक दंडाधिकारी बनाया गया है. कार्मिक ने सोमवार को इसका आदेश जारी कर दिया.

इसे भी पढ़ें – कोलैप्स कर सकता है झारखंड का फाइनैंशियल सिस्टम! सिर्फ रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से 37257.7 करोड़ का कर्ज, ब्याज में अब तक चुकाये जा चुके हैं 17558.07 करोड़

राज्य प्रशानिक सेवा के चार अफसर प्रोन्नत

राज्य सरकार ने राज्य प्रशानिक सेवा के चार अफसरों को हाइकोर्ट के आदेश के आलोक में प्रोन्नति दे दी है. इसमें हरिवंश पंडित, विजय कुमार, कुंवर सिंह पाहन और परमेश्वर मुंडा शामिल हैं. इन अफसरों को अनुमंडल पदाधिकारी या उसके समकक्ष कोटि में प्रोन्नति दी गयी है. कार्मिक ने सोमवार को इसका आदेश जारी कर दिया.

इसे भी पढ़ें – करप्शन के मामले में मात्र 17 फीसदी ही लगाम लगा पायी राज्य सरकार

18 अफसरों को संयुक्त सचिव रैंक में मिली प्रोन्नति

राज्य सरकार ने राज्य प्रशासनिक सेवा के 18 अफसरों को संयुक्त सचिव रैंक में प्रोन्नति दे दी है. सोमवार को कार्मिक ने इसका आदेश जारी कर दिया. प्रोन्नति पानेवालों में प्रभाकर कुमार सिंह, ओमप्रकाश साह, रणजीत कुमार सिन्हा, कुमकुम प्रसाद, अखौरी शशांक सिन्हा, सुनील सिंह, सुनील कुमार, सुनील कुमार सिंह, विजय कुमार गुप्ता, कृष्ण कुमार सिंह, सुरेंद्र वर्मा, दीपक कुमार, गिरिजा शंकर प्रसाद, अनिलशन लकड़ा, संदीप कुमार, ओनिल क्लेमेंट, रंजीता हेंब्रम और प्रवीण कुमार शामिल हैं. वहीं राज्य प्रशासनिक सेवा के अफसर ज्ञान प्रकाश मिंज को झारखंड लोक सेवा आयोग का उप परीक्षा नियंत्रक बनाया गया है. इससे पहले वे पंचायती राज निदेशालय रांची में उपनिदेशक के पद पर पदस्थापित थे. दीपक कुमार को मानवाधिकार आयोग का सचिव बनाया गया है. इससे पहले वे राष्ट्रीय बचत निदेशालय में संयुक्त निदेशक के पद पर पदस्थापित थे.

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ने पर अड़े राहुल गांधी! सीनियर नेताओं से कहा,  ढूंढ़ लीजिए कोई ओर

Related Articles

Back to top button