JharkhandMain SliderRanchi

करप्शन के मामले में मात्र 17 फीसदी ही लगाम लगा पायी राज्य सरकार

Ranchi: राज्य सरकार के कामकाज और 10 महत्वपूर्ण विषयों को लेकर अक्टूबर से दिसंबर 2018 के बीच में एक सर्वेक्षण किया गया. इस सर्वेक्षण के नतीजे बताते हैं कि रोजगार स्वास्थ्य और कानून व्यवस्था की स्थिति राज्य में खस्ताहाल है. स्वास्थ्य, रोजगार और कानून व्यवस्था को लेकर सरकार के कामकाज का प्रदर्शन औसत से भी कम रहा. वहीं शहरी क्षेत्र में करप्शन कंट्रोल के मामले में राज्य सरकार का प्रदर्शन पूरी तरह फिसड्डी रहा. इस मामले में राज्य सरकार का प्रदर्शन मात्र 17 फीसदी रहा. राज्य सरकार के द्वारा लाखों लोगों को रोजगार उपलब्ध करने के दावे किये जाते रहे हैं लेकिन 7000 हजार लोगों के बीच किया गया सर्वेक्षण सरकार के कामकाज को सिर्फ प्रोपेगंडा ही सबित करता है. यह सर्वेक्षण एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स आरए एस्टटिस्क कम्प्यूटिंग एण्ड डाटा सॉल्यूशंस प्रा. लिमिडेट के द्वारा किया गया.

इसे भी पढ़ें – अपराधियों को खोजती रह गई दो थाना की पुलिस, साढ़े 12 लाख लूट फरार हो गये शातिर लुटेरे

राज्य में रोजगार, स्वास्थ्य और कानून व्यवस्था की स्थिति

ram janam hospital
Catalyst IAS

सर्वेक्षण के आंकड़े के अनुसार राज्य में रोजगार, स्वास्थ्य और कानून व्यवस्था की स्थिति बदतर है. 5 के स्केल पर रैंकिग करने पर रोजगार को 2.11, अस्पताल-प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र (स्वास्थ्य) को 1.90, कानून-व्यव्स्था की स्थिति को 2.39 की रेटिंग मिली, जो अन्य राज्य के औसत से काफी कम है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इसे भी पढ़ें – रिम्स में भर्ती लालू यादव ने भोजन लेना शुरू किया,  स्वास्थ्य ठीक है : चिकित्सक

ग्रामीण क्षेत्र में तीन शीर्ष प्राथमिकताओं में रोजगार के अवसर लोगों को मिले इसके लिए 47 प्रतिशत लोगों ने जरूरत महसूस की, वहीं कृषि क्षेत्र में बीजों/उर्वरक के लिए कृषि सब्सिडी तक किसानों की पहुंच का स्थिति मात्र 42 प्रतिशत ही सामने आयी. वहीं कृषि कार्य के लिए बिजली की उपल्बधता मात्र 40 प्रतिशत ही बतायी गयी. इन विषयों पर राज्य सरकार के कामकाज के अकलन के नतीजे 5 के पैमाने पर मात्र 2.15, बीजों/उर्वरकों के लिए कृषि सब्सिडी 2.06 और कृषि के लिए बिजली की रेटिंग मात्र 2.09 दी, जो औसत से कम है. ग्रामीण क्षेत्र में  अस्पताल/बेहतर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर 1.90 की रेटिंग मिली. बालू और पत्थर खनन पर राज्य सरकार का प्रर्दशन मात्र 1.97 रहा, जो काफी खराब स्थिति को दिखता है.

इसे भी पढ़ें – वाराणसी में मोदी ने कार्यकर्ताओं से कहा, मैं पहले भाजपा कार्यकर्ता हूं, बाद में प्रधानमंत्री

राज्य के शहरी क्षेत्रों में सरकार की शीर्ष प्राथमिकतावाले क्षेत्र जैसे कानून व्यवस्था, बेहतर अस्पताल और रोजगार के मामले में सर्वेक्षण के नतीजे बताते हैं कि बेहतर कानून व्यवस्था के लिए इसमें सुधार की जरूरत 55 प्रतिशत लोगों के द्वारा बतायी गयी. रोजगार के बेहतर अवसर उपलब्ध हों इसके लिए 48% लोगों ने जरूरत बतायी. बेहतर अस्पताल, बेहतर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र उपलब्ध हों इसके लिए 46% लोगों ने जरूरत बतायी. राज्य सरकार के कामकाज का आकलन करते हुए 5 के पैमाने पर कानून व्यवस्था की स्थिति को 2.10 रेटिंग मिली. रोजगार के अवसर को 1.99 और अस्पताल-प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की स्थिति को 1.91 रेटिंग मिली, जो औसत से कम है. राज्य सरकार के कामकाज का आकलन करते हुए सर्वेक्षण के नतीजे यह बताते हैं कि झारखंड में शहरी क्षेत्रों में सड़कों की स्थिति की रेटिंग 1.9 है. सार्वजनिक परिवहन की स्थिति 1.94 रही. इन विषयों पर राज्य सरकार का कामकाज पूरी तरह फिसड्डी रहा.

इसे भी पढ़ें – सारदा घोटालाः CBI के समक्ष पेश नहीं हुये राजीव कुमार, सीआईडी ने पत्र भेज बताया- छुट्टी पर हैं साहब

ग्रामीण क्षेत्रों में राज्य सरकार का प्रदर्शन

राज्य सरकार के पिछले साढ़े 4 वर्षों के कामकाज का आकलन भी सर्वेक्षण रिपोर्ट से मिलता है. सर्वेक्षण रिपोर्ट के आधार पर राज्य सरकार का प्रर्दशन कुछ इस प्रकार रहा. बेहतर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने में 47%  प्रतिशत ही सफल हो पायी. वहीं कृषि क्षेत्र में बीज और अन्य सुविधा मुहैया कराने में सरकार मात्र 42% ही सक्षम हो पायी. कृषि क्षेत्र में बिजली उपलब्ध कराने की स्थिति मात्र 40% रही. बेहतर अस्पताल एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की स्थिति पर राज्य सरकार का प्रदर्शन 38% रहा. लघु खनिज संपदा जैसे बालू और पत्थर खनन में राज्य सरकार का प्रदर्शन मात्र 33% रहा. ग्रामीण क्षेत्र में कानून व्यवस्था की स्थिति में राज्य सरकार का प्रदर्शन 28% रहा. बेहतर सड़क एवं पब्लिक ट्रांसपोर्ट उपलब्ध कराने में राज्य सरकार का प्रदर्शन 27% रहा. कृषि लोन उपलब्ध कराने एवं कृषि क्षेत्र में सिंचाई के साधन मुहैया कराने में राज्य सरकार का प्रदर्शन मात्र 24% ही रहा.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में सवर्ण आरक्षण का रास्ता साफ, आय और संपत्ति का प्रमाण पत्र देंगे डीसी, एसी, एसडीओ तथा एडीएम

शहरी क्षेत्र में राज्य सरकार का कामकज

सर्वेक्षण रिपोर्ट के आधार पर रघुवर सरकार के कामकाज का आकलन अगर शहरी क्षेत्रों में देखें तो लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति पर राज सरकार का प्रदर्शन 55% रहा. रोजगार के बेहतर अवसर उपलब्ध कराने और बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने में 48% प्रदर्शन रहा. राज्य सरकार का पब्लिक ट्रांसपोर्ट उपलब्ध कराने में 42% , रोड की उपलब्धता में 40%, स्कूलिंग-शिक्षा में 35% , शुद्ध पेयजल उपल्बध करने में 34 %, ट्रैफिक कंट्रोल पर कामकाज में मात्र 30%, महिला सशक्तिकरण और सुरक्षा पर 25%  और करप्शन पर कंट्रोल के मामले में मात्र 17% ही प्रदर्शन रहा.

इसे भी पढ़ें – पश्चिम बंगाल : भाजपा ने 129 विस क्षेत्रों में लीड किया, ममता बनर्जी हाई अलर्ट मोड में

Related Articles

Back to top button