न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद जैसे होंगे रांची के हालात! सीनियर मनोज की मौजूदगी में जूनियर महिमापत करेंगे अध्यक्षता

1,864

Akshay/Ravi

Ranchi: जिला हो या शहर. विकास का खाका खींचने की जिम्मेदारी एक आईएएस की ही होती है. एक ऐसा जिला जो जिला होने से ज्यादा शहर होने के लिए जाना जाता हो. वहां बैलेंस गड़बड़ाने पर विकास के पहिए की रफ्तार धीमी पड़ जाती है और ऐसा होते देखा भी गया है. लेकिन इस भूल को सुधारने की बजाय झारखंड सरकार दोहराने का काम कर रही है.

इसे भी पढ़ें: ताश के पत्तों की तरह फेंटे जा रहे अफसर, एक सप्ताह में बदल दिये गये 304 अफसर

उदाहरण धनबाद था और अब रांची भी उसी फेहरिस्त में शामिल होने जा रहा है. धनबाद और रांची दोनों शहरों की देखरेख निगम के जिम्मे होती है. अगर शहर का जिला समाहरणालय और निगम का बैलेंस गड़बड़ाता है तो इसका सीधा असर विकास पर पड़ता है.

इसे भी पढ़ें: सरकार ने किया 24 आईएएस अधिकारियों का तबादला, रांची उपायुक्त रहे मनोज कुमार रांची नगर निगम के आयुक्त बने

2006 बैच के मनोज और 2011 बैच के महिमापत

2006 बैच के आईएएस अधिकारी मनोज कुमार आठ फरवरी 2018 तक रांची के उपायुक्त थे. उनका तबादला गिरिडीह कर दिया गया था. राय महिमापत रे जो कि 2011 बैच के आईएएस अधिकारी हैं उन्हें रांची का उपायुक्त बनाया गया. अब ठीक छह महीने के बाद मनोज कुमार को दोबारा रांची वापस बुला लिया जाता है. उन्हें रांची निगम का आयुक्त पद मिला है. अब यहां के डीसी राय महिमापत रे हैं जो मनोज कुमार से पांच साल जूनियर हैं. ऐसे में रांची शहर में किसी भी काम के लिए मनोज कुमार को रांची डीसी पर निर्भर रहना होगा. यही नहीं शहर की विकास की जो भी बैठकें होंगे उसकी अध्यता भी डीसी राय महिमापत रे  करेंगे जो नगर निगम आयुक्त से काफी जूनियर हैं. ऐसे में हो सकता है कि रांची शहर के रोजमर्रा के कामों पर असर पड़े.

धनबाद में दिख चुका है असर

आज से पहले धनबाद के नगर आयुक्त राजीव रंजन थे. राजीव रंजन 2010 बैच के अधिकारी हैं. वहां के डीसी ए. डोडे 2011 बैच के आईएएस अधिकारी है. धनबाद में देखा गया है कि शहर के विकास के लिए होने वाली बैठकों में राजीव रंजन नहीं जाते थे. यह बात सभी को पता है कि राजीव रंजन को बैठकों की अध्यक्षा उनका जूनियर कर रहा है. यह खटकता था. इस बार भी चंद्रमोहन कश्यप को धनबाद निगम का आयुक्त बनाया गया है. चंद्रमोहन कश्यप 2007 बैच के अधिकारी हैं. ऐसे में वो वहां के डीसी से चार साल सीनियर हुए.

इसे भी पढ़ें – पूर्व सीएस राजबाला वर्मा हो सकती हैं JPSC की अध्यक्ष! पहले सरकार की सलाहकार बनने की थी चर्चा

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: