JharkhandLead NewsRanchi

लखीमपुर खीरी की घटना पर कांग्रेस ने रखा मौनव्रत

Ranchi: लखीमपुर खीरी की घटना के पीड़ितों को न्याय दिलाने औऱ केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को तत्काल बर्खास्त करने कि मांग को लेकर झारखंड प्रदेश कांग्रेस ने सोमवार को राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम के तहत राजभवन के समक्ष मौनव्रत रखा.

मौनव्रत के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा कि लखीमपुर खीरी का प्रकरण पूरा देश ही नहीं बल्कि पूरा विश्व देख रहा है. गोरखपुर से लखीमपुर तक, जो हमारे लोकतंत्र ने सफर तय किया, उससे यह स्पष्ट हो जाता है कि भाजपा का शासन सिर्फ कमजोर व्यक्ति पर चलता है. शक्तिशाली व्यक्ति के सामने वो नतमस्तक हो जाते हैं.

इसे भी पढ़ें – केंद्रीय राज्यमंत्री अन्नपूर्णा की अगुवाई में CUJ की समस्याओं को लेकर बैठक जारी, DC समेत विभिन्न अधिकारी ले रहे हैं भाग

Chanakya IAS
SIP abacus
Catalyst IAS

डायलॉग नहीं, सरकार चलाने के लिए राजधर्म जरूरी

The Royal’s
MDLM
Sanjeevani

श्री ठाकुर ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, जो बड़े-बड़े डायलॉग कहते हैं. ये समझना चाहिए कि सरकारें डायलॉग से, नारे से नहीं चलतीं, सरकार चलाने के लिए राजधर्म का निर्वाह करना पड़ता है. राजेश ठाकुर ने कहा कि मेरे साथ राज्य सरकार के दो कैबिनेट मंत्रियों के साथ कांग्रेस के नेता लखीमपुर खीरी के पीड़ितों से मिलने जाने के लिए उत्तर प्रदेश शासन को विधिवत सूचना देकर सड़क मार्ग से रवाना हुए. हमें उत्तर प्रदेश की सीमा पर ही पुलिस बल के सहारे रोक दिया गया. हमने 5 लोगों के जाने की बात कही पर इसकी भी इजाजत नहीं मिली. लेकिन प्रदेश कांग्रेस कमिटी तब तक आंदोलन करती रहेगी जब तक अन्नदाताओं को न्याय नहीं मिलता और जांच को प्रभावित कर सकनेवाले गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र की बर्खास्तगी नहीं हो जाती.

इसे भी पढ़ें – केंद्र ने हाईकोर्ट के 7 जजों का किया ट्रांसफर, पटना हाई कोर्ट जायेंगे 3 जज

अन्नदाताओं के आंदोलन को कुचलने वाले लोग अब किसानों को ही कुचलने में लगे हैं: आलमगीर

कांग्रेस विधायक दल के नेता सह ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि देश के अन्नदाताओं के आंदोलन को कुचलनेवाले लोग अब किसानों को ही कुचलने में लगे हैं. उन्होंने कहा कि भाजपानीत केंद्र सरकार हो या उत्तर प्रदेश सरकार इन्हें राजधर्म का पालन करना चाहिए.

प्रियंका और राहुल के विरोध के बाद आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी हुई

डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा जिस प्रकार से कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी व राहुल गांधी के द्वारा इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना में पीड़ितों को न्याय दिलाने की पहल की गयी, कांग्रेस पार्टी के मुखर विरोध के बाद सर्वोच्च अदालत में सरकार की किरकिरी के बाद आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी हुई है. स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि आज जिस मोड़ पर हमारा लोकतंत्र खड़ा है, यही दिख रहा है कि जब-जब कमजोर आदमी पीटा गया, तालियां बटोरी गई हैं. हमें आत्मचिंतन करना जरूरी है. सरकार से कोई उम्मीद नहीं है कि वो कोई आत्मचिंतन करे.

इसे भी पढ़ें – पंचायत चुनाव में देवघर की 50 फीसदी सीट महिलाओं के लिए होंगी आरक्षित

Related Articles

Back to top button