न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
Browsing Category

JHARKHAND TRIBES

कोरोना से निजात पाने की विशेष प्रार्थना के साथ मना सरहुल

इस साल सामान्य बारिश और अच्छी फसल की उम्मीद Ranchi: कोरोना संक्रमण और सरकार के लॉकडाउन के बीच केंद्रीय सरना स्थल हतमा में शुक्रवार को सरहुल के मौके पर विशेष पूजा की गयी. केंद्रीय पाहन जगलाल ने पूजा-अर्चना संपन्न की. साथ ही विश्व…

आदिवासी परंपरा :  संताल समुदाय के लोगों ने ‘छटियर’ धार्मिक अनुष्ठान का किया आयोजन

Dumka : संताल समुदाय में जन्म से मृत्यु तक कई धार्मिक अनुष्ठान होते हैं. इसमें ‘छटियर’ महत्पूर्ण अनुष्ठान है. दुमका प्रखंड के मकरो गांव में मंझी बाबा (ग्राम प्रधान) मिस्त्री मरांडी की अध्यक्षता में संताल आदिवासी का ‘छटियर’ धार्मिक अनुष्ठान…

डाकिया योजना का लाभ लाभुकों तक कैसे पहुंचे,  हेमंत सरकार के सामने है चुनौती

Ranchi : झारखंड में विलुप्त होने के कगार पर पहुंचे आठ जनजाति समुदाय को घर बैठे अनाज (चावल) पहुंचाने की प्रक्रिया हेमंत सरकार ने जारी रखी है. वर्तमान में पूरे राज्य में आदिम जनजातियों की जनसंख्या 2.92 लाख है. राज्य में आदिम जनजातियों की…

Palamu: प्रथम आदिवासी और लोक चित्रकार शिविर में चित्रकारों को फिल्म के जरिये दिखायी गयी झारखंड की…

Palamu: झारखंड के पलामू प्रमंडल के नेतरहाट में आयोजित आदिवासी और लोक चित्रकारों के प्रथम राष्ट्रीय शिविर के चौथे दिन शाम को देश भर से आये लोक कलाकारों को झारखंड के सांस्कृतिक पर्व सोहराय के बारे में फिल्म के जरिये अवगत कराया गया.…

सांस्कृतिक वैभव का अलख जगाता हिजला मेला

Dumka: दुमका प्रखंड के सरवा पंचायत स्थित हिजला गांव में 129 वर्ष पुराने राजकीय जनजातीय हिजला मेला महोत्सव को और भी भव्य एवं आकर्षक रूप दिया गया है. 129 वर्ष पुराना यह राजकीय जनजातीय मेला है, जो झारखंड के लिए गौरव की बात है. यह मेला यहां…

राज्यपाल ने कहा-सबसे विशाल है ट्राइबल दर्शन, सीएम बोले- आदिवासी समुदायों की हैं पांच हजार…

जनजातीय दर्शन (Tribal Philosophy) पर पहली बार अंतराराष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन, राज्यपाल व सीएम ने किया संबोधित किया Ranchi : राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने शुक्रवार को कहा कि भारत में 9 प्रकार के दर्शन हैं. इन दर्शनों में ट्राइबल दर्शन…

मारांगबुरु की पूजा अर्चना के साथ शुरू हुआ आदिवासी समुदाय का सोहराय उत्सव

Bakura:  मारांगबुरु की पूजा-अर्चना के बाद आदिवासी समुदाय का सोहराय उत्सव शुरू हो गया. चार दिन चलने वाले उत्सव के तीसरे दिन धामसा मादल की गूंज के साथ आदिवासी नृत्य आकर्षण का केंद्र रहा. गौरतलब है कि इलाके में सोहराय उत्सव को एक प्रकार से…

फूड जतरा : आदिवासी खानपान के साथ पारंपरिक परिधान व वाद्ययंत्रों का किया गया प्रदर्शन

Ranchi : संगम गार्डेन मोरहाबादी में रविवार को फूड जतरा का आयोजन किया गया. इसमें आदिवासी खान-पान का प्रदर्शनी लगायी गयी व एवं आदिवासी पारम्पारिक परिधान व वाद्य यंत्रों का भी प्रदर्शन किया गया. आदिवासी खान-पान बनाने वाले दो रेस्टोरेंट के सेफ…

22 सितंबर को मोरहाबादी में ‘फूड जतरा’, #TRIBAL खान-पान को नयी पहचान देने की पहल

Ranchi : जल, जंगल, ज़मीन आदिवासी समाज की पहचान रहे हैं. साथ ही इनकी जीवनशैली और इनकी संस्कृति के ये अभिन्न अंग इनके फूड हैबिट रहे हैं. अपने फूड हैबिट  के वजह से यह समुदाय कठिन परिस्थतियों में भी वन क्षेत्र में सदियों से सरवाइव करते रहे हैं.…

पांचवीं अनुसूची आदिवासी अधिकारों की गारंटी

आज से ठीक सत्तर साल पहले संविधान-सभा में पांचवीं अनुसूची पारित करते हुए की गई बहस से समझा जा सकेगा कि आदिवासी अधिकारों के मुद्दे पर कौन कहां खड़ा था. पांचवीं अनुसूची के नाम पर फ़ैलाई जा रही उल-जलूल बातों का सच भी इसी बहस में छुपा है. गौर…