BokaroJharkhand

राज्य में साथ-साथ पर चंदनकियारी में भाजपा और आजसू कर रहे हैं दो-दो हाथ

DK

Bokaro: भाजपा और आजसू पार्टी में अच्छी बन रही है, पर बोकारो के चंदनकियारी विधानसभा क्षेत्र में इनकी दोस्ती में दरार पड़ती दिख रही है. आनेवाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर आजसू के पूर्व विधायक उमाकांत रजक ने 25 किलोमीटर लंबी परिवर्तन यात्रा आरंभ की है.

हजारों की तादाद में अपने समर्थकों के साथ घूमते हुए उमाकांत रजक बीजेपी के वर्तमान विधायक अमर बाउरी की खामियों को गिनवा रहे हैं. साथ ही चंदनकियारी क्षेत्र के पिछड़े होने का दोष भाजपा सरकार पर मढ़ रहे हैं. वहीं मंत्री अमर कुमार बाउरी ने कहा कि उमाकांत रजक ने यहां अपना जनाधार खोया है और वह पिछले चुनाव में यहां बुरी तरह से हारे थे.

इसे भी पढ़ें – #PmModi जनसभा की तैयारी का टेंडर 6 सिंतबर को खुलेगा और प्रभात तारा मैदान में 4 तारीख से शुरू हो गया काम

भाजपा और राज्य सरकार की विफलताओं को उजागर करने के लिए उमाकांत रजक के नेतृत्व में लोगों ने “परिवर्तन पदयात्रा” में भाग लिया. रजक की पदयात्रा पटरकट्टा से शुरू होकर कई गांवों से होकर गुजरी.

पदयात्रा आयोजित करने के पीछे रजक का उद्देश्य मौजूदा भाजपा विधायक अमर बाउरी के खिलाफ अपनी मजबूती का इजहार करना था. लोगों से रूबरू होते हुए उमाकांत रजक ने वहां की जनसमस्याओं के लिए बाउरी को जिम्मेदार ठहराया.

इसे भी पढ़ें – धनबाद : बंद कमरे में बाबूलाल और हेमंत सोरेन ने की गुफ्तगू, बोले-विपक्ष को कुचलना चाहती है सरकार

उमाकांत रजक ने कहा कि पिछली बार बीजेपी के साथ आजसू ने गठबंधन में चुनाव लड़ा था और इस बार फिर आजसू ही यहां चुनाव लड़ेगी. पार्टी के अध्यक्ष सुदेश महतो की भी यही राय है. आजसू का चंदनकियारी में मजबूत जनाधार है और भाजपा इसे अस्वीकार नहीं कर सकती.

आजसू के मुख्य प्रवक्ता देवशरण भगत ने भी कहा कि आजसू 2014 विधानसभा चुनाव के पहले से बीजेपी के साथ गठबंधन धर्म का ईमानदारी से पालन कर रही है.

बीजेपी के बीच सीट समझौते में चंदनकियारी विधानसभा सीट हमारे खाते में आ गयी है और हमने चुनाव लड़ा था. इसकी समीक्षा करने का कोई सवाल ही नहीं है. चंदनकियारी में आजसू का अच्छा मतदाता आधार है.

उमाकांत रजक ने अपना जनाधार खोया हैः बाउरी

कैबिनेट मंत्री अमर बाउरी ने परिवर्तन यात्रा पर टिप्पणी करते हुए कहा कि आजसू के उमाकांत रजक पिछली बार विधानसभा चुनाव में भारी मतों से हारे थे. उन्होंने अपना जनाधार खोया है. अब जब विधानसभा चुनाव सामने है तो वह इस तरह की यात्रा निकाल कर हवा बना रहे हैं.

हम गठबंधन धर्म का पालन करते हैं अगर एनडीए के द्वारा यह सीट आजसू को जायेगी तो हम उसका समर्थन करेंगे, पर क्या अगर यह सीट भाजपा को जायेगी तो उमाकांत बीजेपी का समर्थन करेंगे? पिछले लोकसभा चुनाव में भी उन्होंने धोखा देने का काम किया था.

पिछले लोकसभा चुनाव में करीब 1,27,000 वोट भाजपा को चंदनकियारी में मिले थे. यह वोट भाजपा के बढ़ते हुए जनाधार को दिखाता है.

इसे भी पढ़ें – #INXMediaCase:  कोर्ट का पी चिदंबरम को न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश , 19 सितंबर तक रहेंगे तिहाड़ में

Advt

Related Articles

Back to top button