National

#AyodhyaHearing : अयोध्या पर फैसले से पहले ही यूपी में हलचल, 30 नवंबर तक सरकारी अफसरों की छुट्टियां रद्द

Lucknow / Ayodhya: अयोध्या विवाद मामले में आखिरी सुनवाई बुधवार की शाम खत्म हो जायेगी. दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद सुप्रीम कोर्ट की पीठ 17 नवंबर के पहले फैसला दे सकती है.

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने साफ कर दिया है कि अब इस मामले में किसी पक्ष को और वक्त नहीं मिलनेवाला है.

सुप्रीम कोर्ट के संभावित फैसले से पहले यूपी में हलचल तेज हो गयी है. प्रशासन ने अयोध्या में 10 दिसंबर तक धारा 144 लागू कर दिया है.

इसे भी पढ़ें – आखिर क्यों धनबाद के झरिया में सीएम रघुवर दास के आने से पहले पुलिस ने किया फ्लैग मार्च !

अफसरों को अपने-अपने मुख्यालय में बने रहने का दिया आदेश

राज्य सरकार ने सभी पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की छुट्टियां 30 नवंबर तक रद्द कर दी हैं. सरकार ने अपने आदेश में सभी अफसरों को अपने-अपने मुख्यालय में बने रहने का निर्देश दिया है.

इसे भी पढ़ें – #PMModi की रैली में शख्स ने ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ पर उठाये सवाल, मंच की ओर फेंके पन्ने

छुट्टी रद्द करने का कारण त्योहार बताया

अपने आदेश में सरकार ने छुट्टी रद्द करने का कारण त्योहार बताया है, लेकिन माना जा रहा है कि अगले महीने अयोध्या पर संभावित फैसले से पहले सरकार ने यह कदम उठाया है.

बता दें कि अयोध्या केस में बुधवार को आखिरी सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में जबरदस्त गहमागहमी और ड्रामा देखने को मिला.

पांच जजों की संविधान पीठ के सामने मुस्लिम पक्षकार के वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने अयोध्या से संबंधित एक नक्शा ही फाड़ दिया. दरअसल, हिंदू पक्षकार के वकील विकास सिंह ने एक किताब का जिक्र करते हुए नक्शा दिखाया था.

नक्शा फाड़ने के बाद हिंदू महासभा के वकील और धवन में तीखी बहस हो गयी. इससे नाराज चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि अगर ऐसा ही चलता रहा तो जज उठ कर चले जायेंगे.

इसे भी पढ़ें – #Nobellaureate अभिजीत बनर्जी ने कहा,  राष्ट्रवाद गरीबी जैसे मुद्दों से ध्यान भटका देता है…

Related Articles

Back to top button