न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

थायराइड की समस्या में अश्वगंधा का इस्तेमाल है फायदेमंद

ब थायरॉइड हार्मोन कम या ज्यादा होना शुरू हो जाता है तो शरीर में कई प्रकार की दिक्कतें होने लगती हैं. 

174

वर्तमान में जिस जीवनशैली में लोग जीते हैं उनमें थायराइड एक आम समस्या बनती जा रही है. थायराइड गले की एक ग्रंथि है, जो एक हार्मोन बनाती है जिसका नाम थायरोक्सिन है. यह हार्मोन चयापचय प्रक्रिया को सही रखने में मदद करता है. अगर थायराइड ग्रंथि सही से काम कर रही है तो भोजन को ऊर्जा में बदलने के काम को बेहतर तरीके से होती है. जब थायरॉइड हार्मोन कम या ज्यादा होना शुरू हो जाता है तो शरीर में कई प्रकार की दिक्कतें होने लगती हैं.

इसे भी पढ़ें : स्ट्रीट लाइट लगाने के लिए डीएफओ नहीं दे रहे सूची, कांट्रेक्टर कंपनी की बढ़ी परेशानी

थायराइड के होते हैं दो प्रकार (Types of Thyroid): 

hosp3

थायराइड के प्रकार होते है. पहला थायरोक्सिन हार्मोन हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyroidism) जिसकी कमी से बच्चों में बौनापन तथआ बड़ों में सबकटॅनेअस चरबी बढ़ जाती हैं. थायराइड (हायपरथायरोडिज्म) के दूसरे प्रकार में गण्डमाला होने का खतरा होता है.

थायरोक्सिन की निष्क्रियता के कारण हाइपोथायरायडिज्म होता हैं. आयोडीन की कमी होने के कारण थकान, सुस्ती हो जाती है. इसका अगर समय पर इलाज न कराया गया तो यह मायक्झोएडेमा पैदा करता है. इसमें स्किन और ऊतकों में सूजन की शिकायत होने लगती है.

 थायराइड के इलाज में अश्वगंधा है फायदेमंद ( Ashwagandha for Thyroid Health ) 

आयुर्वेदिक पध्दति में हर प्रकार के रोगों का उपचार है. जाने कैसे आयुर्वेद के इस्तेमाल से थायराइड का इलाज किया जा सकता हैं. इसके लिए आपको अश्वगंधा का इस्तेमाल करना होगा. अश्वगंधा के उपयोग से दोनों ही तरह के थायराइड से जा सकता है.

जाने अश्वगंधा कैसे है फायदेमंद – ( Ashwagandha Benefits in Hindi )

  • अश्वगंधा एक प्राकृतिक औषधि है. इसे शक्तिवर्धक औषधि भी कहा जाता है. अश्वगंधा के इस्तेमाल से थाइरॉइड पर नियंत्रण किया जा सकता है. इसके लिए आपको इसकी पत्तियों या जड़ों को उबाल कर पीना होगा.
  • जानकारों की माने तो अश्वगंधा कैंसर के खतरे को भी कम करने में मदद करता है. इसके लिए बस 200 से 1100 मिलीग्राम अश्वगंधा को कर चूर्ण लें. इसे चाय में डालकर रोज इस्तेमाल करें. इसमें तुलसी के पत्ते को भी ड़ाला जा सकता है.
  • हायपोथायरायडिज्म का इलाज भी अश्वगंधा की मदद से किया जाता है. इसके लिए आपको महायोगराज गुग्गुलु और अश्वगंधा को एक साथ इस्तेमाल करने की जरुरत है..
  • अश्वगंधा के नियमित इस्तेमाल से आप ऊर्जावान भी रहेंगे.
  • यह आपकी कार्यक्षमता को बढ़ाने में मदद भी करता है.
  • अश्वगंधा शरीर के हार्मोन इंबैलेंस को संतुलित भी करता है.
  • टेस्टोस्टेरोन और एण्ड्रोजन हार्मोन को बढ़ाने में अश्वगंधा काफी मददगार है.

इसे भी पढ़ें : होरा मर्डर केसः CM को बुलाने की मांग पर अड़े थे लोग, SSP के आश्वासन के बाद हटाया जाम

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: