Khas-KhabarNational

#TheFamilyMan वेब सीरीज के जरिए देश विरोधी एजेंडा

श्रीनगर के लाल चौक का दृश्य. रात का समय है, कर्फ्यू लगा हुआ है. जांच एजेंसी एनआइए के दो अधिकारी चाय पीते हुए आपस में बात कर रहे हैं. महिला अधिकारी दिल्ली से गए पुरुष साथी से कहती है “हम यहां पर जुल्मों-सितम के नाम पर जश्न मना रहे हैं. स्पेशल पावर एक्ट के दम पर कश्मीरी लोगों को दबाया जा रहा है. हम उनके फोन और इंटरनेट बंद कर देते हैं.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ेंः RSS की आपत्ति, भारत विरोध व जेहाद का नया रूप है वेब सीरीज #TheFamilyMan

यहां के लोग हमारे रहमो-करम पर जी रहे हैं. किसी को खुलकर आजादी से जीने न देना अगर जुल्म नहीं है तो क्या है?” दिल्ली से गया खुफिया अधिकारी अपनी महिला सहकर्मी की इस बात से काफी प्रभावित दिखाई दे रहे हैं. महिला अधिकारी आगे कहती है, “आखिर हममें और उन मिलिटेंटों (आतंकवादियों) में फर्क क्या है?”
क्या कोई कल्पना कर सकता है कि देश की सेना को आतंकवादियों जैसा कहने का ये कारनामा हमारे ही देश के फिल्मकारों का है. जिस दृश्य की बात हमने ऊपर की है, वो हाल ही में आइ वेब सीरीज़ ‘द फेमिलीमैन’ की है. फिल्मों और टीवी धारावाहिकों के बाद भारत विरोध और जिहाद का ये बिल्कुल नया रूप है.
जनसंचार माध्यमों का बीते कुछ सालों में देशविरोधी एजेंडा चलाने के लिए भरपूर इस्तेमाल होता रहा है, अब इस कड़ी में एक नया नाम जुड़ गया है वेब सीरीज़ का. ये वो फिल्मनुमा धारावाहिक होते हैं जिन्हें अमेज़न प्राइम वीडियो, नेटफ्लिक्स जैसे मोबाइल ऐप के जरिए देखा जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंः #EconomyRecession का दलाल स्ट्रीट पर असर: शेयरखान ने अपने 400 कर्मचारियों को फर्म छोड़ने को कहा

Samford

चूंकि ये मोबाइल फोन पर देखे जाते हैं इसलिए युवा पीढ़ी के बीच में काफी लोकप्रिय होते हैं. देश विरोध ही नहीं, इन वेब सीरीज में हिंदू धर्म के खिलाफ एक प्रायोजित दुष्प्रचार साफ तौर पर देखा किया जा सकता है. वेब सीरीज सेंसर बोर्ड के तहत नहीं आतीं, इसलिए इनकी सामग्री पर कोई नियंत्रण नहीं है.

वेब सीरीज़ में गाली-गलौज और अश्लील दृश्यों की भरमार रहती है. कुछ समय पहले ‘सेक्रेड गेम्स’ और ‘घोल’ नाम से वेबसीरीज भी आइ थीं, जो सीधे-सीधे हिंदुओं से घृणा का उदाहरण हैं. ‘सेक्रेड गेम्स’ में हिंदू धर्म को एक ऐसे कल्ट के तौर पर दिखाया गया है जो धरती को नष्ट करना चाहता है.

इसे भी पढ़ेंः  पानी-पानी पटनाः भारी बारिश और जलजमाव के कारण जनजीवन प्रभावित, स्कूल बंद

‘द फेमिलीमैन’ की कहानी में सीरिया से ट्रेनिंग लेकर आए आइएसआइएस और कश्मीरी आतंकवादियों तक के मानवीय पक्षों को उभारा गया है. बताया गया है कि सभी आतंकवादी हिंदुओं, पुलिस या सेना के अत्याचार से परेशान होकर हथियार उठाने को मजबूर हुए.
देश में हर तरह मुसलमानों को दबाया और कुचला जा रहा है. उनके साथ अत्याचार हो रहा है. यह तरीका होता है जिससे आतंकवाद को सही ठहराया जाता है. आपको याद होगा कि जब बुरहान वानी नाम का आतंकवादी मारा गया था तो फौरन देश की एक तथाकथित बड़ी पत्रकार ने सोशल मीडिया पर उसकी तारीफें लिखीं.
बताया कि कैसे वो कश्मीर के युवाओं के बीच हीरो की तरह उभरा था. उसके पिता स्कूल के हेडमास्टर थे. वगैरह-वगैरह. बिल्कुल उसी तरह का महिमामंडन अब वेब सीरीज़ की मदद से किया जा रहा है. संदेश यही है कि हर आतंकवादी बुरा नहीं होता. उसकी परिस्थितयां उसे हथियार उठाने पर मजबूर कर देती हैं.
वरना उसके भी परिवार में मां, बहन और पिता होते हैं. जिनकी याद में उसका दिल तड़पता है. वो आतंकवादी होता है लेकिन प्यार करता है. यथासंभव कोशिश होती है कि प्यार करने वाली लड़की हिंदू या ईसाई हो, जो सबकुछ जानते हुए भी उसे चाहती रहती है. जब वो मारा जाता है तो लड़की उसकी याद में ‘कैंडल मार्च’ भी निकालती है.

इसे भी पढ़ेंः जानिए, बकोरिया कांड, CID जांच, #CBI जांच, पूर्व DGP डीके पांडेय और ज्वाइंट डायरेक्टर अजय भटनागर में क्या है रिश्ता

उद्देश्य यही कि आम लोगों के मन में आतंकवादियों के लिए सहानुभूति पैदा हो और आतंकवादी बनना नई पीढ़ी को ‘कूल’ और ‘फैशनेबल’ लगे.
‘द फैमिलीमैन’ के अनुसार इस्लामी आतंकवाद का सबसे बड़ा कारण 2002 के गुजरात दंगे थे. ज्यादातर आतंकवादी उसी पृष्ठभूमि में तैयार हुए. वो इसलिए आतंकवादी बने क्योंकि गुजरात दंगों में उनके किसी रिश्तेदार की मौत हुई थी.

सवाल उठता है कि इन दंगों में करीब 300 हिंदुओं की भी हत्या हुई थी. हिंदुओं के परिवार से आज तक कोई आतंकवादी क्यों नहीं निकला? गोधरा में जिन कारसेवकों को जिंदा जला दिया गया था उनके परिवार वालों ने हथियार क्यों नहीं उठाया?
अगर आतंकवादी बनने की एकमात्र वजह गुजरात दंगे हैं तो क्या उससे पहले देश में क्या इस्लामी आतंकवाद नहीं था? सवाल यह है कि वेबसीरीज बनाने वाले ये वामपंथी फिल्मकार आखिर चाहते क्या हैं? इस बात को समझने के लिए हमें पूरे राष्ट्रीय परिदृश्य को संदर्भ में लेना पड़ेगा.
अगर ध्यान से देखें तो पाएंगे कि ज्यादातर वेबसीरीज मीडिया में चल रहे समाचारों से काफी प्रभावित होते हैं. उनकी कहानी कहने को काल्पनिक होती है लेकिन उनमें ताजा घटनाक्रम को पिरोने की कोशिश की जाती है. जिस तरह का कथानक वेबसीरीज दिखा रही हैं उसकी पृष्ठभूमि मुख्यधारा मीडिया यानी अखबारों और न्यूज़ चैनलों ने तैयार की.
उदाहरण के लिए देश के किसी इलाके में एक महिला को सरेआम मारा गया. बीफ खिलाया गया और उसका कन्वर्जन करवा दिया गया. इसका वीडियो भी सोशल मीडिया में सामने आया. आरोपी मुसलमान है इसलिए मीडिया ने इस खबर पर वैसी प्रतिक्रिया नहीं दी जैसी वो तब देता अगर आरोपी हिंदू होता.
फिर भी घटना हुई है और उसे दिखाना है, इसलिए मीडिया बताएगा कि एक आदिवासी महिला को सरेआम गांव के बीच में पीटा गया. इस तरह पीड़ित महिला की पहचान तो जाहिर कर दी गई, लेकिन उसे पीटने वालों की पहचान छिपा ली गई.
इस खबर के आगे-पीछे कुछ ऐसी टिप्पणियां जोड़ दी जाएंगी, जिससे देखने वाले को लगे कि यह जातीय हिंसा का मामला है और जरूर तथाकथित अगड़ी जातियां इसके लिए दोषी होंगी. ऐसी खबर समाज में एक तरह का टकराव पैदा करेगी.
संभव है कि पीड़ित और शोषित तबकों के बहुत सारे लोग यह मानने लगें कि उन्हें जातीय पहचान के आधार पर निशाना बनाया जा रहा है. जबकि सच कुछ और ही है. इसी तरह से यह नैरेटिव बनाया गया है देश में भीड़ की हिंसा केवल मुसलमानों के खिलाफ हो रही है और हमलावर हिंदू हैं.
कोई मुसलमान कभी किसी हिंदू को नहीं सताता. वो बुरी तरह डरा हुआ है और इस देश में घुट-घुटकर जी रहा है. जबकि हिंदू भीड़ की शक्ल में घूम-घूमकर जगह-जगह मुसलमानों की जान ले रहे हैं. यहां तक कि खेल के मैदान में भी वो मुसलमानों की बेरहमी के साथ हत्या कर रहे हैं.
मुख्यधारा मीडिया के बोये इसी ज़हर की फसल को अब नेटफ्लिक्स और प्राइम वीडियो काट रहे हैं. जिस तरह से समाचारों में तथ्यों को छिपाकर लोगों को भ्रमित करने की कोशिश होती है ठीक उसी तरह की कोशिश वेब सीरीजों के निर्माता करते हैं.
‘द फेमिलीमैन’ में करीम नाम के एक छात्र को दिखाया गया है जो कॉलेज के हॉस्टल में रहता है. वह एक कार्यक्रम में आए हिंदू मेहमानों को धोखे से बीफ खिलाने की साजिश रचता है. लेकिन इसे उकसाने की कोशिश के बजाय ‘सत्याग्रह’ की तरह दिखाया गया. उनके लिए हिंदुओं की धार्मिक संवेदनाओं का कोई मतलब नहीं है.
हो सकता है इस वेबसीरीज से यह तरीका सीखकर कट्टरपंथी सोच रखने वाले कुछ लोग हिंदुओं को धोखे से गोमांस खिलाने की कोशिश करें. इस दुस्साहस के क्या परिणाम हो सकते हैं क्या कोई इसकी कल्पना कर सकता है? इसके कारण कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ी तो किसका उत्तरदायित्व होगा?

इसे भी पढ़ेंः  #UnitedNations में #PMModi के 17 मिनट :  कहा, आतंकवाद मानवता के लिए चुनौती, हमने दुनिया को युद्ध नहीं, बुद्ध दिया …

करीम नाम का यह लड़का पाकिस्तान में बैठे आतंकवादी सरगनाओं से फोन पर बात करता है. पुलिस की गाड़ी उसे रोकती है तो वो भागने लगता है. उसका एक साथी पुलिस पर गोली चलाने लगता है. जवाबी गोलीबारी में सभी मारे जाते हैं. लेकिन वेबसीरीज ने इसे भी ‘मुसलमानों पर अत्याचार’ मानते हुए दिखाया है. इस मुठभेड़ के बाद सभी सुरक्षा अधिकारी आत्मग्लानि में डूब जाते हैं. उन्हें लगता है कि उनसे गलती हो गई. पूरी कहानी ऐसे बुनी गई है कि देखकर आपको यही लगेगा कि एनआइए जैसी खुफिया एजेंसियां आतंकवादी हमलों को रोकने में नाकाम हैं. वो सिर्फ बेकसूर मुसलमानों को मार रही हैं. वेब सीरीज में आतंकवादी हमलों पर भारतीय मुसलमानों के जश्न मनाने को सही बताया गया है. राष्ट्रगान पर सिनेमाहॉल में अगर कोई खड़ा होने से इनकार करता है तो उसे भी बहुत अच्छा काम बताया गया है. यह जताया गया है कि गोमांस खाना हर भारतीय का अधिकार है, लेकिन इसे उससे छीना जा रहा है.
वेब सीरीज़ राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ ही नहीं, हमारे पारिवारिक और सामाजिक ढांचे पर भी हमला करती हैं. फेमिलीमैन में दिखाया गया है कि स्कूल जाने वाली लड़की अपने पिता के सामने गर्भनिरोधक गोलियां लेती है और जब वो स्कूल में पकड़ी जाती है तो उसके पिता उसे सही ठहराते हैं. कहते हैं कि इसमें क्या बड़ी बात है. ये कोई ड्रग्स तो है नहीं. बेटी अपने पिता के आगे गालियां देती है और पिता भी सहज रूप से बेटी के आगे गालियां देते रहते हैं. इसी तरह ‘सेक्रेड गेम्स’ में गुरु-शिष्य के संबंधों को घिनौने तरीके से दिखाया है. इसमें उपनिषदों के महावाक्य ‘अहं ब्रम्हास्मि’ को कलंकित करने की कोशिश की गई है.
यह प्रश्न मन में आता है कि ऐसी वेब सीरीज़ के पीछे किन लोगों का दिमाग है. ध्यान से देखें तो पाएंगे कि घृणा का ये पूरा उद्योग घोषित तौर पर वामपंथी और कांग्रेसी सोच वाले फिल्मकार चला रहे हैं. जिस तरह से इन वेब सीरीज़ में भारत सरकार और सुरक्षा एजेंसियों तक को खलनायक बनाकर प्रस्तुत किया जा रहा है और दूसरी तरफ आतंकवादियों का महिमामंडन, पाकिस्तान के रुख को सही ठहराना और वहां की सेना को एक जिम्मेदार सेना की तरह दिखाया जा रहा है यह समझना बहुत मुश्किल नहीं है कि वेबसीरीज़ की इन कहानियों के पीछे कुछ बड़ा षड़यंत्र है. जाहिर है इन्हें बनाने के लिए मोटी रकम भी पहुंचाई जा रही होगी. उम्मीद की जानी चाहिए कि सुरक्षा एजेंसियों की नज़र इस नए तरह के खतरे की तरफ जरूर होगा और जल्द ही इस षड़यंत्र की पूरी सच्चाई जनता के सामने आ जाएगी.

(साभार- पांचजन्य)

इसे भी पढ़ेंः सरकार के आश्वासन को टालने का बहाना मानते हैं #ParaTeachers, पढ़िये क्या कह रहे हैं

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: