JharkhandRanchi

नियम कानून को ताक पर रख कर दो पद पर बने हुए हैं एडीजी अजय कुमार सिंह, होम डिपार्टमेंट ने लिया संज्ञान

Ranchi: झारखंड कैडर के आइपीएस अफसर अजय कुमार सिंह का सीआइडी एडीजी के पद से मोह भंग नहीं हो रहा है. उस पद के लिए एडीजी अजय कुमार ने नियम-कानून को भी ताक पर रख दिया. दो अप्रैल को गृह विभाग ने ट्रांसफर ऑर्डर जारी किया. इसमें सीआइडी एडीजी अजय कुमार सिंह का ट्रांसफर एडीजी स्पेशल ब्रांच में कर दिया. दो अप्रैल को ही अजय कुमार सिंह ने एडीजी स्पेशल ब्रांच के पद पर योगदान भी दे दिया. लेकिन 12 दिन बीत जाने के बाद भी एडीजी ने सीआइडी का पद नहीं छोड़ा. अजय कुमार सिंह अब तक दोनों पदों पर बने हुये हैं. जबकि ट्रांसफर ऑर्डर में कहीं भी अतिरिक्त प्रभार का जिक्र नहीं है.

इसे भी पढ़ें – हजारीबाग से आखिर कौन होगा कांग्रेस उम्मीदवार ? देर से कहीं महागठबंधन को ना हो जाये नुकसान

गृह विभाग इस मामले पर गंभीर

ram janam hospital
Catalyst IAS

अजय कुमार सिंह के दो पदों पर बने रहने के मामले को गृह विभाह ने गंभीरता से लिया है. गृह विभाग के अनुसार नियमत: अजय कुमार सिंह को दूसरे पद पर योगदान देने से पहले रिलिंक्विस करना चाहिये था. गृह विभाग ने यह भी कहा है कि दो पद पर बने रहना कहीं से भी उचित नहीं है. ऐसे में मामले पर नियम संवत कार्रवाई की जायेगी. यह गंभीर मामला है. वहीं पहले पद रिक्त रहने की स्थिति में पुलिस मुख्यालय की ओर से किसी आइपीएस को खाली पड़े पद का प्रभार दे दिया जाता था, लेकिन अब गृह विभाग ने इस परंपरा को बंद करने का निर्देश दे दिया है. गृह विभाग के अनुसार सरकार की सहमति के बाद भी किसी अफसर को अतिरिक्त प्रभार दिया जा सकेगा.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें – झारखंडः 11 साल में सीआरपीएफ ने मार गिराये 179 नक्सली, 1888 को किया गिरफ्तार

ऐसे चला घटनाक्रम

स्पेशल ब्रांच के पूर्व एडीजी अनुराग गुप्ता को दिल्ली में पदस्थापित किये जाने के बाद स्पेशल ब्रांच के एडीजी की कमान अजय कुमार सिंह को सौंपी गई. एक अप्रैल को निर्वाचन आयोग ने राज्य के मुख्य सचिव को भेज कर कहा था कि अनुराग गुप्ता, एडीजी स्पेशल ब्रांच को तत्काल प्रभाव से उनके मौजूदा कार्य से मुक्त कर दिया जाये. साथ ही उन्हें दो अप्रैल को दिल्ली के स्थानिक आयुक्त कार्यालय में रिपोर्ट करने को कहा गया. दो अप्रैल को गृह विभाग ने ट्रांसफर ऑर्डर निकाला, जिसमें सीआइडी एडीजी अजय कुमार सिंह का ट्रांसफर एडीजी स्पेशल ब्रांच में कर दिया गया.

इसे भी पढ़ें – राबड़ी देवी ने कहा,  तेज प्रताप सीधा है, विरोधी भड़का रहे हैं.  बहुत हुआ बेटा…अब वापस आ जाओ…

यहां भी अजय कुमार सिंह को हो सकती है परेशानी

दो पद पर बने रहने के कारण आइपीएस अजय कुमार सिंह को परेशानी भी हो सकती है. वजह यह है कि दो पद पर रहने के कारण महालेखाकार कार्यालय उनका पे-स्लिप भी एक्सेप्ट नहीं करेगा. क्योंकि महालेखाकार कार्यालय में पद छोड़ने और नये पद पर योगदान देने, दोनों का विवरण भेजा जाता है. ऐसी स्थिति में अजय कुमार सिंह का वेतन भी रुक सकता है.

इसे भी पढ़ें- राफेल डील के बाद फ्रांस सरकार ने अनिल अंबानी के 1200 करोड़ माफ किये  : फ्रेंच अखबार Le Monde

Related Articles

Back to top button