न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंडः 11 साल में सीआरपीएफ ने मार गिराये 179 नक्सली, 1888 को किया गिरफ्तार

1,320

Ranchi:  झारखंड सेक्टर के गठन से अब तक के 11 साल की अवधि सीआरपीएफ ने झारखंड में जहां 179 नक्सलियों को मार गिराया गया है और वही 1888 नक्सलियों को गिरफ्तार भी किया है.

इस दौरान 111 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण भी किया. इसके अतिरिक्त 326 नियमित हथियार, 1333 देसी हथियार, 52514 गोला-बारूद, 3254 आइईडी तथा 25000 किलोग्राम से भी अधिक विस्फोटक सामग्री जब्त की गयीं.

बता दें कि झारखंड में सीआरपीएफ लगातार नक्सलियों से लोहा ले रही है और जंगलों में नक्सलियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन भी चला रही है.

hosp3

इसे भी पढ़ेंः JAC ने अंतिम समय में आठवीं बोर्ड रिजल्ट किया कैंसिल, जवाब नहीं देना चाहते अध्यक्ष

नक्सलियों से लड़ने के लिए की गई है झारखंड में सीआरपीएफ की तैनाती

झारखंड में सीआरपीएफ की तैनाती नक्सलियों से लड़ने के लिए खास तौर पर की गयी है. वर्तमान में झारखंड सेक्टर कार्यालय के अधीन तीन परिचालन रेंज कार्यालय, दो समूह केंद्र, 20 बटालियन, दो कोबरा बटालियन और एक द्रुत कार्य बल बटालियन तैनात हैं.

झारखंड में सीआरपीएफ की तैनाती राज्य से नक्सलवाद की समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए की गयी है. इसके लिए सीआरपीएफ के द्वारा लगातार अभियान चलाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंः शोपियां जिले में मुठभेड़, सेना ने दो आतंकियों को किया ढेर

550 माओवादी से लड़ने के लिए सीआरपीएफ की 122 कंपनियां

झारखंड पुलिस का दावा है कि झारखंड में अब सिर्फ 550 माओवादी बचे हैं. लेकिन 550 माओवादियों से लड़ने के लिए भारी संख्या में सुरक्षा बल लगे हुए हैं. मिली जानकारी के अनुसार सीआरपीएफ की 122 कंपनी, आईआरबी की 5 कंपनी और झारखंड जगुआर की 40 कंपनी फोर्स लगी हुई है.

इतनी भारी संख्या में सुरक्षा बल के तैनात होने के बावजूद भी झारखंड से पूरी तरह से माओवाद का खात्मा नहीं हो पा रहा है. समय-समय पर माओवादी छोटी-बड़ी घटना को अंजाम देकर अपनी उपस्थिति भी दर्ज करवा रहे हैं.

माओवादियों के खिलाफ चल रहा डेवलपमेंट एक्शन प्लान

माओवादियों के खिलाफ झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ का संयुक्त डेवलपमेंट एक्शन प्लान चल रहा है.

जिनमें सारंडा एक्शन प्लान, सरयू एक्शन डेवलपमेंट प्लान, झुमरा एरिया डेवलपमेंट एक्शन प्लान, पारसनाथ एरिया डेवलपमेंट प्लान, चतरा एरिया डेवलपमेंट एक्शन प्लान, बानालात इंटीग्रेटेड एक्शन प्लान, गिरिडीह-कोडरमा बॉर्डरिंग एरिया डेवलपमेंट प्लान, दुमका-गोड्डा बॉर्डरिंग एरिया डेवलपमेंट प्लान, खूंटी-सरायकेला-चाईबासा बॉर्डरिंग एरिया एक्शन प्लान, सिमडेगा खूंटी बॉर्डरिंग एरिया एक्शन प्लान, जमशेदपुर एरिया एक्शन प्लान, पलामू-चतरा एरिया एक्शन प्लान व गढ़वा लातेहार-पलामू बॉर्डरिंग एरिया एक्शन प्लान.

झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ सीआरपीएफ चला रही है ऑपरेशन

झारखंड में नक्सलियों से लड़ने के लिए खास तौर पर सीआरपीएफ की तैनाती की गयी है. सीआरपीएफ के जवान झारखंड के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में नक्सलियों के खिलाफ लगातार सर्च ऑपरेशन चला रही है.

नक्सलियों के द्वारा जंगलों में छुपा कर रखे विस्फोटक और गोली को भी सीआरपीएफ के जवानों के द्वारा लगातार बरामद किया जा रहा है.झारखंड के 13 जिला अभी भी अति नक्सल प्रभावित जिलों की सूची में है.

जिनमें रांची, दुमका, खूंटी, गुमला, लातेहार, सिमडेगा, पश्चिमी सिंहभूम,गिरिडीह,पलामू, गढ़वा, चतरा, लोहरदगा और बोकारो शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंः हजारीबाग में सरेंडर कर सीपीआई को वॉकओवर तो नहीं देना चाहती कांग्रेस

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: