न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ट्रेनों को समय पर चलाने के लिए अब सिर्फ हर रविवार को 5 घंटे होगा रेल लाइन का मरम्मत कार्य

363

Ranchi :  ट्रेनों को समय पर चलाने के लिए अब  सिर्फ रविवार के दिन 5 घंटे रेल लाइन की मरम्मत की जायेगी.  वर्तमान में रेल लाइन की मरम्मत के लिए रोज ब्लॉक लिया जा रहा है.  इससे ट्रेनों का आवागमन प्रभावित हो रहा है.  ट्रेनें निर्धारित समय से घंटों लेट चल रही हैं. बता दें कि इसे गंभीरता से लेते हुए रेलवे बोर्ड हर रोज के ब्लॉक पर अंकुश लगाने जा रहा है. एक पॉलिसी तैयार की जा रही है, जिसके तहत हर सप्ताह एक दिन रविवार को पांच घंटे के लिए रेल लाइन की मरम्मत के लिए ब्लॉक दिया जायेगा, ताकि रोज-रोज ट्रेनों के लेट होने की परेशानी से उबरा जा सके और ट्रेनें सुचारू रूप से पूरी स्पीड के साथ तय समय पर गंतव्य तक पहुंचे.

इस पांच घंटे में ही मरम्मत का काम करना है और मैन पावर लगाना है. अब हर रविवार को ट्रैक दुरुस्त करने का काम किया जायेगा.  यह भी तय किया जायेगा कि कौन सी ट्रेन कैंसिल करनी है और कौन सी री-शिड्यूल. बता दें कि मेंटेनेंस का काम रेलवे के इंजीनियरिंग विभाग के जिम्मे है.

  रांची डिवीजन की 90 फीसदी ट्रेनें समय पर चल रही हैं

रांची रेल मंडल में 90 फीसदी ट्रेनें समय पर चल रही हैं. केवल 10 फीसदी ट्रेनें ही समय पर नहीं चल रही हैं,   जनवरी से जुलाई तक ट्रेनों के समय पर चलने की जारी रिपोर्ट में देशभर में रांची रेल मंडल को टॉप 5 में स्थान मिला है. जम्मूतवी एक्सप्रेस, झारखंड स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस, बनारस-रांची इंटरसिटी एक्सप्रेस के अलावा राजधानी ट्रेन भी लेट आ रही है.  इसका मुख्य कारण दूसरे डिवीजन में चल रहा रेल लाइन का मरम्मत कार्य या ट्रैक कंजेशन है.

इंजीनियरिंग विभाग की रुकेगी मनमानी

अब तक इंजीनियरिंग विभाग को जब चाहे, तब रेललाइन की मरम्मति के लिए ब्लॉक मिल जाया करता है. ब्लॉक क्यों लिया जा रहा है, इसके लिए विभाग की ओर से कोई कारण भी नहीं बताया जाता है. यह भी नहीं पूछा जाता है कि कितने दिन ब्लॉक चाहिए और क्यों? कहा जा रहा है कि अब इस मनमानी पर रेाक लगेगी.

यह पॉलिसी रांची डिवीजन में शुरू हो गयी है, क्योंकि देशभर में ट्रेनों के लेट होने का मुख्य कारण ब्लॉक को माना गया है.  इस फैसले से मैनपावर की बचत भी होती है : नीरज कुमार, सीनियर डीसीएम रांची डिवीजन.

  न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: