NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भूमि अधिग्रहण बिल को बसपा ने बताया काला कानून, विरोध में  राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

सैकड़ों की संख्या में बसपा कार्यकर्ताओं ने राजभवन के समक्ष नारेबाजी की

1,176

Ranchi: भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के विरोध में बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कुशवाहा शिवपूजन मेहता के नेतृत्व में पार्टी के नेताओं ने राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को ज्ञापन सौंपा. इस दौरान सैकड़ों की संख्या में बसपा के कार्यकर्ताओं ने राजभवन के समक्ष राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. बहुजन समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और हुसैनाबाद के विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता ने कहा की भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के विरोध में राज्यपाल के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन दिया है. ताकि झारखंडियों के ऊपर जो काला कानून लादा जा रहा है, इसे अविलंब वापस लिया जाए. अन्यथा बसपा चुप रहने वाली पार्टी नहीं है.

भूमि अधिग्रहण बिल को बसपा ने बताया काला कानून, विरोध में राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

उन्होंने कहा कि पार्टी पूरे राज्य के अंदर आंदोलन करेगी. भूमि अधिग्रहण बिल के लागू होने से पूर्व भी झारखंड में विकास कार्य अवरुद्ध नहीं था. सरकार विकास के नाम पर रोटी सेंकने का काम कर रही है. झारखंडियों को रघुवर सरकार गुमराह करने का काम कर रही है. झारखंड की जल,जंगल,जमीन और खनिज को लूटकर पूंजीपतियों को सौंपने का काम कर रही है. राज्य सरकार झारखंड को चारागाह बनाने की योजना में है. जब तक बिल वापस नहीं होता है, बसपा द्वारा विरोध जारी रहेगा.

बैरिकेडिंग पार कर आगे बढ़े बसपा कार्यकर्ता

बसपा के प्रदेश अध्यक्ष और हुसैनाबाद के विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता जब राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने गए थे. इस दौरान पार्टी के कार्यकर्ता राजभवन के पास लगे बैरिकेडिंग को पार कर आगे बढ़ने लगे. हालांकि मौके पर तैनात सुरक्षाकर्मियों के समझाने के बाद भी नहीं रूके. कोतवाली थाना प्रभारी के हस्तक्षेप के बाद प्रदर्शनकारी नेताओं को रोका गया.

 

madhuranjan_add

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Averon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: