BusinessLead News

शादी-विवाह के लिए खरीदना है सोना-चांदी? यही है राइट टाइम

New Delhi : यदि आपके घर में शादी है तो सोना खरीदने का यह अच्छा मौका हो सकता है. कई दिनों की तेजी के बाद सोने की कीमतों में गिरावट देखी गयी है. 7 अगस्त को सोने ने 56,200 रुपये प्रति 10 ग्राम का ऑल टाइम हाई का स्तर छुआ था, जबकि चांदी ने 77,840 रुपये प्रति किलो का स्तर छुआ था. सोना अब तक करीब 5500 रुपये प्रति 10 ग्राम गिरा है, जबकी चांदी करीब 14 हजार रुपये प्रति किलो तक गिर चुकी है.

Jharkhand Rai

राष्ट्रीय राजधानी में बुधवार को सोने के मूल्य में 357 रुपये प्रति 10 ग्राम की कमी देखने को मिली. एचडीएफसी सिक्योरिटीज के मुताबिक इस भाव कमी के बाद दिल्ली में सोने की कीमत 50,253 रुपये प्रति 10 ग्राम पर रह गयी. इससे पिछले सत्र में सोने का बंद भाव 50,610 रुपये प्रति 10 ग्राम पर रहा था.

सिक्योरिटीज के मुताबिक रुपये के मूल्य में वृद्धि और निवेशकों में मांग घटने से बुधवार को सोने के दाम में यह उल्लेखनीय गिरावट देखने को मिली. इसी तरह चांदी की कीमत भी 532 रुपये की गिरावट के साथ 62,639 रुपये प्रति किलोग्राम पर रह गयी. इससे पिछले सत्र में चांदी की हाजिर कीमत 63,171 रुपये प्रति किलोग्राम पर रही थी.

इसे भी पढ़ें: गरीब दवा के लिए काटते रहे अस्पताल के चक्कर और इधर रखी-रखी खराब हो गयीं लाखों की दवाएं

Samford

घंटे भर की मुहूर्त ट्रेडिंग में भी बढ़ा था सोना

दिवाली के दिन सोने-चांदी में शानदार बढ़त देखने को मिली थी. वैसे तो दिवाली के दिन बाजार बंद रहते हैं, लेकिन एमसीएक्स पर 1 घंटे के स्पेशल मुहूर्त ट्रेडिंग होती है, जिस दौरान लोग शगुन के तौर पर सोना-चांदी खरीदते हैं. इस दौरान की गई ट्रेडिंग को लोग बेहद शुभ मानते हैं.

इस 1 घंटे की मुहूर्त ट्रेडिंग में सोना 0.25 फीसदी यानी करीब 300 रुपये बढ़कर 51,050 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर पहुंच गया था, जबकि चांदी में 0.32 फीसदी यानी करीब 1000 रुपये की बढ़त देखने को मिली, जिसके बाद चांदी का नया भाव 63,940 रुपये प्रति किलो हो गया था.

क्या सोना कोरोना काल से पहले की स्थिति में लौट आयेगा?

कोरोना वायरस की वजह से शेयर बाजार में एक तगड़ी गिरावट देखने को मिली थी. समय बीतने के साथ-साथ शेयर बाजार उस तगड़ी गिरावट से लगातार उबर रहा है. दुनिया भर के अधिकतर शेयर बाजार कोरोना की वजह से आई गिरावट से मजबूती से लड़ते हुए रिकवर कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर सोना अपना ऑल टाइम हाई छू कर वापस आ चुका है.

अब सवाल ये उठता है कि क्या सोना भी कोरोना काल से पहले वाली स्थिति में लौट आयेगा, क्योंकि ये ट्रेंड देखा गया है कि शेयर बाजार मजबूत होता है तो सोना कमजोर होता है और इसका उल्टा भी होता है. तो क्या सोना अभी और सस्ता होगा, क्योंकि जनवरी में सेंसेक्स 41 हजार के करीब था, तब सोने की कीमत भी 41 हजार के करीब थी.

इसे भी पढ़ें: पीएम किसान सम्मान निधि योजना के नहीं मिले हैं 2000 रुपये तो इन नंबरों पर कॉल करें

67 हजार रुपये तक जा सकता है सोना

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंसियल सर्विसेज के अनुसार सोने का भाव लंबी अवधि में 65-67 हजार रुपये प्रति दस ग्राम तक जा सकता है. फर्म की रिपोर्ट में कहा गया है कि सोने की मांग तीसरी तिमाही में 30 प्रतिशत गिरने के बाद चौथी तिमाही में वापस बढ़ने की संभावना है, क्योंकि इस दौरान आभूषणों की खरीदारी में तेजी आयेगी.

रिपोर्ट में अनुमान है कि अमेरिकी चुनाव के बाद आने वाले कुछ महीने सोने की कीमत को तय करने के लिए महत्वपूर्ण होंगे और इस दौरान केंद्रीय बैंकों का रुख, कम ब्याज दर, कोविड-19 महामारी का प्रभाव और अन्य चिंताएं कीमतों को प्रभावित कर सकती हैं, हालांकि सर्राफा के लिए संभावनाएं अच्छी हैं.

इसे भी पढ़ें: ढाई महीने बाद एनटीपीसी पकरी बरवाडीह कोल माइन्स में शुरू हुआ कोयला खनन

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: