Lead NewsNational

नंगे पांव पद्मश्री लेने राष्ट्रपति के पास पहुंचा नारंगी बेचने वाला, तालियों से गूंजा दरबार हॉल

New Delhi : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इस मंगलवार को इस साल के पद्म पुरस्कार विजेताओं के बीच पुरस्कार का वितरण किया. इस दौरान जब कर्नाटक के नारंगी विक्रेता अपना सम्मान लेने के लिए राष्ट्रपति कि पास पहुंचे तो पूरा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा. हरेकला हजब्बा नंगे पांव और साधारण कपड़ा पहनकर राष्ट्रपति के पास पहुंचे थे.

इसे भी पढ़ें:बॉलीवुड एक्ट्रेस पूनम पांडे अस्पताल में भर्ती हुईं, पति हुआ गिरफ्तार, जानें क्या है पूरा मामला

ये काम करने के लिए मिला पुरस्कार

ram janam hospital
Catalyst IAS

राष्ट्रपति कोविंद ने हरेकला हजब्बा सामाजिक कार्य के लिए आज पद्मश्री प्रदान किया. कर्नाटक के मैंगलोर के नारंगी विक्रेता ने अपने गांव में एक स्कूल बनाने के लिए अपने व्यवसाय से पैसे बचाए.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

गांव में स्कूल नहीं होने के कारण खुद नहीं पढ़ पाये

मैंगलोर शहर से लगभग 40 किमी दूर हरेकला गांव में संतरा बेचते हैं. वह अपने व्यापार से पैसे बचाकर गांव के बच्चों के लिए स्कूल बनवाया. गांव में स्कूल नहीं होने के कारण हरकेला की पढ़ाई नहीं हो सकी थी.

इसलिए उन्होंने अपने गांव में स्कूल बनवाया. उन्होंने अपने इस प्रयास को साल 1995 में शुरू किया था. 2000 में हरेकला हजब्बा ने अपनी सारी बचत का निवेश किया और एक एकड़ जमीन पर एक स्कूल शुरू किया.

इसे भी पढ़ें:अवैध ढंग से राशन कार्ड लेने वालों को चेतावनी, 30 नवंबर तक सरेंडर करें राशन कार्ड, नहीं तो दर्ज होगी प्राथमिकी

सुषमा स्वराज और अरुण जेटली को मरणोपरांत पद्म विभूषण

आपको बता दें कि देश के सबसे बड़े सम्मान भारत रत्न के बाद देश के सर्वोच्छ नागरिक सम्मान पद्म पुरस्कार सोमवार को राष्ट्रपति भवन में बांटे गए.

पद्म पुरस्कार देने का यह कार्यक्रम राष्ट्रपति भवन के ऐतिहासिक दरबार हॉल में भव्य समारोह आयोजित किया गया. इस दौरान सुषमा स्वराज और अरुण जेटली जैसे राजनेताओं को मरणोपरांत पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया.

विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट काम करने वाले 141 लोगों को साल 2020 के लिए सोमवार को सम्मानित किया गया. मंगलवार यानी आज 2021 के लिए 119 लोगों को पद्म पुरस्कारों से सम्मानित किया जाएगा.

सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पुरस्कार सौंपा. पुरस्कार समारोह में पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू भी शामिल हुए.

इसे भी पढ़ें:बंगाल से मथुरा जा रही कृष्ण भक्तों से भरी टूरिस्ट बस चौपारण में पलटी, 75 घायल, 2 गंभीर

Related Articles

Back to top button