न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

फसल बीमा की क्षतिपूर्ति राशि दो वर्ष बाद भी नहीं हुई वितरित, किसान और कृषक मित्र करेंगे आंदोलन

2,396

Palamu : वित्तीय वर्ष 2017-18 से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की क्षतिपूर्ति राशि का भुगतान लंबित रहने से किसानों के साथ-साथ कृषक मित्रों में भारी आक्रोश है. किसानों की समस्याओं और इस मुद्दे पर आंदोलन को लेकर कृषक मित्रों ने पलामू जिले पांकी में बैठक की और इस मुद्दे पर मुखर होने का संकल्प लिया. अध्यक्षता पांकी इकाई अध्यक्ष संतोष सिंह ने की, जबकि संचालन प्रखंड कोषाध्यक्ष अयूब अंसारी ने किया. बैठक में मुख्य अतिथि के रूप से संघ के पलामू जिला अध्यक्ष रंजन दुबे उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ेंःइरफान अंसारी के बगावती तेवर, कहा ‘खुद को मार कर जेवीएम को जिंदा कर रही कांग्रेस’

चुनाव बाद करेंगे आंदोलनः रंजन 

बैठक में श्री दुबे ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2017 (खरीफ फसल) में बीमित फसलों की क्षतिपूर्ति राशि का भुगतान बीमा कंपनी द्वारा नहीं किया जा रहा है. आधे से अधिक बीमा राशि का भुगतान लंबित रखा गया है. जिले की दो पंचायतें ऐसी हैं, जिसमें नब्बे प्रतिशत किसानों का भुगतान लंबित है. ऐसे में किसानों में भारी आक्रोश है और इसका खामियाजा किसान मित्रों को झेलना पड़ रहा है. इस वित्तीय वर्ष में एक लाख के आस-पास किसानों ने अपनी फसलों का बीमा कराया था.

किसानों का गुस्सा उतरता है कृषक मित्रों पर 

उन्होंने कहा कि अधिकतर फसलों का बीमा कार्य कृषक मित्रों द्वारा किया गया है. ऐसे में किसानों को भुगतान नहीं होने पर कृषक मित्रों पर गुस्सा उतार रहे हैं. किसानों का आक्रोश झेल रहे कृषक मित्रों द्वारा इसकी शिकायत जिले के संबंधित पदाधिकारियों के साथ बीमा कंपनी के रांची ब्रांच तक की गयी है, लेकिन अब तक कृषक मित्रों को केवल आश्वासन दिया गया. ऐसे में उनका सब्र जवाब दे दिया और आंदोलन ही एक मात्र उद्देश्य रह गया है. चुनाव के बाद इस मुद्दे पर जोरदार आंदोलन चलाया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःसवालों के घेरे में आधी आबादी की सुरक्षा, दो महीने में 226 रेप-नाबालिग हुईं ज्यादा शिकार

किसान-कृषक मित्रों की समस्याएं सुनने वाले को देंगे वोट

संघ के अध्यक्ष ने कहा कि किसानों और कृषक मित्रों की सुधि लेने वाले उम्मीदवार के पक्ष में इस लोकसभा चुनाव में वोट किया जायेगा. उन्होंने कहा कि इसके लिए उम्मीदवारों को लिखित जानकारी संघ को देना होगा. कृषक मित्र 10 वर्षों से केवल 500 रुपये की प्रोत्साहन राशि पर सेवा देते आ रहे हैं.

आरटीजीएस के बाद भी नहीं हुआ भुगतान

इतना ही नहीं खरीफ फसल-2018 में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के आरटीजीएस से किए गये बीमा कंपनी को भुगतान का पैसा भी अभी तक किसानों को वापस नहीं आया है, जबकि पलामू जिले से लाखों रुपये द ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी को आरटीजीएस के माध्यम से भुगतान कर दिया गया है. गत 20 जुलाई 2018 तक जिले के 15 से 20 हजार किसानों ने प्रीमियम भरकर फसलों का बीमा कराया था. हालांकि इसके बाद सरकार की ओर से घोषणा की गयी थी कि किसानों को निःशुल्क बीमा किया जायेगा. ऐसे में किसान चारों तरफ से मारे जा रहे हैं.

बैठक में अन्य लोगों के अलावा प्रशांत कुमार सिंह, नागेंद्र सिंह, अनूप कुमार, नागेश्वर राम, सीताराम, उमेश राम, वीरेंद्र गुप्ता, अमीन खान, राजेंद्र पाठक, जितेंद्र सिंह, विनय गुप्ता, घनश्याम यादव, महेंद्र राम, सुचित शाह, शंकर यादव, उम्मत अंसारी, अवधेश कुमार, दिलेश्वर यादव भी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ेंःछह महीने से वेतन नहीं मिलने से नाराज पीएचइडी के ठेका कर्मियों ने बाधित की जलापूर्ति

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: