Main SliderRanchi

सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड: पांकी से बीजेपी उम्मीदवार शशिभूषण मेहता समेत सभी 6 आरोपी बरी

Ranchi : सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड में दोनों पक्षों की ओर से बहस पूरी होने के बाद इस मामले में शुक्रवार को फैसला सुनाया गया. रांची सिविल कोर्ट के जज विजय कुमार श्रीवास्तव की अदालत में सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड शुक्रवार को फैसला सुनाया गया.

Jharkhand Rai

इस मामले में मुख्य आरोपी बनाए गए पांकी के भाजपा प्रत्याशी व चुटिया स्थित ऑक्सफोर्ड स्कूल के निदेशक डॉ शशि भूषण मेहता के अलावा राजनाथ सिंह, प्रदीप कुमार पासवान, धर्मेंद्र ठाकुर, अनूज सिंह, सत्य प्रकाश शामिल को कोर्ट ने बरी कर दिया.गौरतलब है कि सभी आरोपी बेल पर हैं, जबकि अनुज कुमार सिंह एक अन्य मामले में पलामू जेल में बंद हैं.

इसे भी पढ़ें – देखें वीडियोः शशिभूषण मेहता के #BJPमें शामिल होने पर बीजेपी कार्यालय में जमकर मारपीट, वीडियो वायरल

Samford

दोनों पक्षों की सुनवाई पूरी हो गयी थी

मंगलवार को इस मामले में अदालत में दोनों पक्षों की सुनवाई पूरी हो गयी थी, उसके बाद अदालत ने फैसले की तिथि निर्धारित की थी़. बीते चार दिसंबर को शशि भूषण मेहता सहित अन्य आरोपियों के बयान अदालत में दर्ज किये गये थे.

सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड : शशिभूषण मेहता समेत सभी 6 आरोपी बरी
शशिभूषण मेहता की पेशी के दौरान की भीड़

सुचित्रा मिश्रा ऑक्सफोर्ड स्कूल की वार्डन थीं. 11 मई 2012 की रात साढ़े आठ बजे उनकी हत्या कर दी गई थी. जिसके बाद दूसरे दिन उनका शव धुर्वा डैम साइड से बरामद किया गया था. इस मामले में मृतका के भाई गोविंद पांडेय के बयान पर डॉ शशि भूषण मेहता सहित अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी.

इसे भी पढ़ें – #BJP में शामिल होने वाले हत्या के आरोपी शशिभूषण मेहता हैं 10 मामलों में आरोपी

हत्या कराने में पेशेवर अपराधी का लिया गया था सहयोग

घटना का खुलासा करते समय रांची तत्कालीन एसएसपी साकेत कुमार सिंह ने बताया था कि ऑक्सफोर्ड स्कूल की वार्डन सुचित्रा मिश्रा उर्फ माला की हत्या के लिए पलामू के पेशेवर अपराधियों का साथ लिया गया था.

स्कूल के डायरेक्टर डॉ. मेहता ने वार्डन सुचित्रा मिश्रा की हत्या करने के लिए पलामू के तरैया में रहनेवाले अनूप सिंह से पहले संपर्क साधा था. अनूप सिंह को बताया कि उसे एक महिला की हत्या करनी है. अनुज सिंह इसके लिए तैयार हो गया. अनूप सिंह ने राजनाथ सिंह, प्रदीप कुमार पासवान, धर्मेंद्र ठाकुर, अनूप सिंह और सत्य प्रकाश से संपर्क किया.

सभी हत्या करने के लिए तैयार हो गए. पहले से तय योजना के मुताबिक, 10 मई को सभी पेशेवर अपराधी रांची पहुंच गए. सभी को खादगड़ा स्थित एक होटल में ठहराया गया था. बाद में योजनाबद्ध तरीके से हत्या की वारदात को अंजाम देकर सभी पेशेवर अपराधी वहां से भाग कर पलामू चले गए थे.

पहले से तय योजना के मुताबिक दिया गया था घटना का अंजाम

सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड के खुलासे के बाद यह मामला सामने आया था कि पहले से तय योजना के मुताबिक, ऑक्सफोर्ड स्कूल के डायरेक्टर डॉ. एसबीपी मेहता उक्त अपराधियों के साथ दो अलग-अलग गाडिय़ों (सफारी और शेवरले स्पार्क) से सुचित्रा मिश्रा की खोज में निकल पड़े.

सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड : शशिभूषण मेहता समेत सभी 6 आरोपी बरी
सुचित्रा मिश्रा और शशिभूषण मेहता की फोटो

सुचित्रा उस दिन अपने दोनों बेटे अभिषेक और आशुतोष के साथ धुर्वा स्थित शहीद मैदान में सर्कस देखने गयी थी. सर्कस देखकर जब वह बाहर निकली, तो अपने दोनों बेटे अभिषेक और आशुतोष को गाड़ी से हास्टल भेज दिया.

वहीं खुद मेहता के बुलाने पर उनके पास चली गयी. मेहता ने उसे फोन कर बुलाया था. सुचित्रा मिश्रा जब डॉ. मेहता के पास पहुंची, तो उन्हें दूसरे गाड़ी में बैठा दिया था. गाड़ी के अंदर ही सुचित्रा की हत्या कर दी गयी और उसकी लाश को डैम साइड में फेंक दिया गया. लाश फेंकने से पहले उसकी कान से बाली और गले से सोने की चेन निकाल ली गयी थी, ताकि घटना को दूसरा रूप दिया जा सके.

 

कातिलों को ऑक्सफोर्ड स्कूल में नौकरी देने का दिया था आश्वासन

जानकारी के अनुसार, घटना में बाद वॉर्डन सुचित्रा मिश्रा के कातिलों के पकड़े जाने के बाद खुलासा हुआ था कि डायरेक्टर ने हत्याकांड में शामिल पांचों हत्यारों को आश्वासन दिया था कि काम हो जाने के बाद उन्हें ऑक्सफोर्ड स्कूल में विभिन्न पदों पर नौकरी दे दी जाएगी.

सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड : शशिभूषण मेहता समेत सभी 6 आरोपी बरी
रांची स्थित ऑक्सफोर्ड स्कूल

वहीं उनका हर कष्ट भी दूर कर दिया जाएगा. उन्हें सुपारी देने की बात भी कही गयी थी. कुछ अपराधियों के बीमार घरवालों के इलाज का खर्च भी देने का भरोसा दिया गया था.

इसे भी पढ़ें – सीएम के करीबी एक IAS की झारखंड छोड़ने की तैयारी की चर्चा जोरों पर!

ऐसे पहुंची थी पुलिस कातिलों तक

जिस दिन सुचित्रा मिश्रा की लाश धुर्वा पुलिस को मिली थी. उसी दिन धुर्वा के इंस्पेक्टर बीएन सिंह को गुप्त सूचना मिली थी कि इस कांड का सूत्रधार ऑक्सफोर्ड स्कूल का डायरेक्टर डॉ. एसबीपी मेहता हैं.

इसके बाद इंस्पेक्टर ने सुचित्रा के मोबाइल फोन का प्रिंट आउट निकाला, वहीं डायरेक्टर डॉ. एसबीपी मेहता के मोबाइल नंबर 8809575899 एवं 9471183874 को भी खंगाला. घटना के दिन डॉ. मेहता के मोबाइल का लोकेशन भी धुर्वा इलाके में पाया गया.

इंस्पेक्टर ने बताया कि घटना के दिन डॉ. मेहता भी दूसरी गाड़ी में हत्यारों के साथ-साथ चल रहे थे. काफी साक्ष्य जुटा लेने का बाद डॉ. मेहता को गिरफ्तार किया गया था. उन्होंने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया था.

विधवा थी वॉर्डन सुचित्रा

ऑक्सफोर्ड की वॉर्डन सुचित्रा मिश्रा के पति अवधेश मिश्रा का वर्ष 2000 में निधन हो गया था. सुचित्रा ऑक्सफोर्ड स्कूल में वॉर्डन थी. वह अपने दो बेटों अभिषेक एवं आशुतोष के साथ स्कूल में ही हास्टल में रहती थी, बड़े बेटे 18 साल के अभिषेक का एडमिशन भुवनेश्वर के इंजीनियरिंग कॉलेज में करा दी थी. अभिषेक का एडमिशन कराने में भी डॉ. मेहता की भूमिका थी.

इसे भी पढ़ें – सरकारी आदेश नहीं मानने पर निगम को लगी कड़ी फटकार, अब देगा पेयजल विभाग को 1.07 करोड़ रुपये

 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: