Ranchi

#SayNoToSingleUsePlastic : 2 अक्टूबर को सड़क से प्लास्टिक हटायेंगे झारखंड के IAS, बंटी सबकी ड्यूटी

Ranchi: दो अक्टूबर से राज्य में सिंगल यूज प्लास्टिक बैन कर दिया जायेगा. इस दिन राज्य के आइएएस अफसरों को प्रमुख चौक-चौराहों पर श्रमदान करते देखा जायेगा.

नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव की ओर से जारी पत्र में इन आइएएस अफसरों के लिये श्रमदान की जगह तय कर दी गयी है. इसके पूर्व मुख्य सचिव की ओर से भी 23 सिंतबर को दिशा-निर्देश जारी किया गया था.

इसे भी पढ़ेंःएक और बुरी खबर ! रेटिंग एजेंसी मूडीज ने कहाः भारतीय बैंकिंग सेक्टर सबसे असुरक्षित

प्रधानमंत्री के आदेशानुसार, स्वच्छता ही सेवा 2019 अभियान भी चलाया जायेगा. इस पत्र के तहत सिंगल यूज प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से लोगों को जागरूक करने के लिये पदाधिकारी श्रमदान करेंगे.

श्रमदान को लेकर जारी आदेश

इस साल महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती भी मनायी जा रही है. जहां प्लास्टिक बैन करते और स्वच्छता अभियान के तहत रांची शहर में अभियान चलाया जायेगा.

देखिये कौन से पदाधिकारी कहां श्रमदान करेंगे

पदाधिकारी पदनाम स्थान का नाम
प्रशांत कुमार सचिव, वाणिज्य कर विभाग मोरहाबादी
के रवि कुमार सचिव, उद्योग विभाग न्यूक्लियस मॉल
कृपानंद झा निदेशक, उद्योग बरियातु थाना
प्रवीणकुमारटोप्पो सचिव, परिवहन विभाग बांध गाड़ी
अबुबकरसिद्दकी निदेशक, खान विभाग कोकर चौक
अबुइमरान निदेशक, स्वच्छ भारत मिशन लोवाडीह चौक
रविरंजन विशेष सचिव, ग्रामीण विकास विभाग चुटिया थाना
सिद्धार्थत्रिपाठी नरेगा आयुक्त चुटिया थाना
राजीवकुमार अपर सचिव, ग्रामीण विकास विभाग कर्बला चौक
उमाशंकरसिंह परियोजना निदेशक शहीद चौक
अमीतकुमार निदेशक, सुडा कैलाश मंदिर
छविरंजन निदेशक, कृषि हज हाउस
उदयप्रताप निदेशक, हस्तकरघा हरमू चौक
आदित्यकुमारआनंद संयुक्त सचिव, स्कूली शिक्षा साक्षरता विभाग वार्ड कार्यालय, रांची
मृत्युंजय कुमार वर्णवाल परियोजना निदेशक, जेएसएसीएस करम चौक
दिव्यांशु झा मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी, जैपआइटी मौसीबाड़ी
सुशांत गौरव निदेशक,उच्चशिक्षा जेपी मार्केट
फैज अक अहमद मुमताज परिवहन आयुक्त बिरसा चौक
भोर सिंह यादव उत्पाद, आयुक्त राजेंद्र चौक
चितरंजन कुमार निदेशक, पशुपालन छप्पनसेठ चौक
जटा शंकर चौधरी निदेशक, माध्यमिक शिक्षा तुपूदाना चौक
गरिमा सिंह अवर सचिव, स्कूली शिक्षा साक्षरता विभाग तुपूदाना चौक

इसे भी पढ़ेंःआखिर क्यों जी मीडिया के मालिक सुभाष चंद्रा के बेटे को कहना पड़ा- ‘पिता ने नहीं छोड़ा है देश’

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close