Khas-KhabarNational

आखिर क्यों जी मीडिया के मालिक सुभाष चंद्रा के बेटे को कहना पड़ा- ‘पिता ने नहीं छोड़ा है देश’

New Delhi: राज्यसभा सांसद और जी मीडिया के मालिक सुभाष चंद्रा गोयनका के भारत छोड़ने की खबरों के बीच उनके बेटे ने इस पर सफाई दी है.

पुनीत गोयनका ने ट्वीट कर कहा कि उनके पिता देश छोड़कर कहीं नहीं गये, बल्कि मुंबई में अपने घर पर है.

सवाल ये उठता है कि बीजेपी सांसद सुभाष चंद्रा के बेटे को आखिर ऐसी सफाई क्यों देनी पड़ी. दरअसल, ये पूरा मामला शुरू हुआ M Shiddharth नामक एक फेसबुक यूजर के एक फेसबुक पोस्ट से.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ेंःएक और बुरी खबर ! रेटिंग एजेंसी मूडीज ने कहाः भारतीय बैंकिंग सेक्टर सबसे असुरक्षित

The Royal’s
Sanjeevani

क्या है पूरा मामला

M Shiddharth नामक के फेसबुक यूजर ने अपने फेसबुक वॉल पर पोस्ट किया कि राज्यभा सांसद और जी टीवी के मालिक सुभाष चंद्र गोयनका 35 हजार करोड़ का घोटाला कर देश थोड़कर फरार हो गये हैं. और इसे लेकर एक प्राथमिकी भी दर्ज की गयी है.

26 सितंबर 2019 को “M Shiddharth” ने सुभाष चंद्रा गोयनका की तस्वीर को साझा करते हुए लिखा है कि “हंसता हुआ नूरानी चेहरा, हाय गज़ब, आओ अब इस में से भी देशभक्ति छान कर निकालो, वैसे कोई भरोसा नही निकाल भी दें, गज़ब भाजपा राज्य सभा सांसद और “Zee टीवी” के मालिक “सुभाष चंद्रा” देश छोड़कर कर “फरार”. FIR हुई दर्ज. “35 हजार करोड़” घोटाले का मामला.”

जिसके बाद पूरे मामले को लेकर सुभाष चंद्रा के बेटे ने दो ट्वीट कर सफाई दी कि उनके पिता ने देश नहीं छोड़ा है.

क्या कहा पुनीत गोयनका ने

सुभाष चंद्र गोयनका के बेटे पुनीत गोयनका ने सिलसिलेवार ट्वीट कर पूरे मामले को लेकर सफाई दी. अपने पहले ट्वीट में उन्होंने कहा कि, ‘मेरे संज्ञान में आया है कि कुछ शरारती तत्वों ने मेरे पिता और सांसद सुभाष चंद्र को अपमानित करने की कोशिश की. ट्विटर के माध्यम से मैं ये बताना चाहता हूं कि उन्होंने देश नहीं छोड़ा है, और वो मुंबई स्थित अपने आवास में हैं.’

इसे भी पढ़ेंःजेल से रिहा हुए पूर्व मंत्री एनोस एक्का, पारा शिक्षक हत्या मामले में HC से मिली राहत

अपने अगले ट्वीट में पुनीत गोयनका ने अपने पिता को फाइटर और देशभक्त बताते हुए लिखा कि, ‘वो एक फाइटर और देशभक्त हैं, ना की चुनौतियों से डरकर भागने वाले. मेरा ये मैसेज उनलोगों के लिए है, जिन्होंने ऐसा किया है- अपनी जिंदगी में सकारात्मक बनें.’

क्या है 35 हजार करोड़ का मसला

गौरतलब है कि सुभाष चंद्रा की एस्सेल समूह की कंपनियों पर म्यूचुअल फंड और गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों का करीब 12,000 करोड़ रुपये का कर्ज है.

जिसमें 7,000 करोड़ रुपये एमएफ कर्ज और 5,000 करोड़ रुपये एनबीएफसीज का कर्ज है. लेकिन अब बिजनेस टायकून चंद्रा के लिए कर्ज की अदायगी चुनौती बन गई है.

कर्ज ना चुकाने की स्थिति में कंपनी के शेयरों के लिक्विडेट होने का खतरा पैदा हो गया है. गौरतलब है कि एस्सेल के ऋणदाताओं ने बकाये के भुगतान के लिए 30 सितंबर तक का समय दिया था. 30 सितंबर तक एस्सेल को और 2,300 करोड़ का कर्ज चुकाना था. जो पार हो चुका है.

पिछले महीने एस्सेल ने जी में 11 प्रतिशत हिस्सेदारी इनवेस्को ओपनहाइमर को 4,224 करोड़ रुपये में बेची थी. इसके बाद उसने 6 म्यूचुअल फंडों का 2,300 करोड़ का बकाया चुकाया था.

इसे भी पढ़ेंःलेक्चरर नियुक्ति में सीबीआइ ने 59 लेक्चरर, #JPSC के अध्यक्ष, सदस्य समेत 5 पदाधिकारियों व 5 परीक्षकों पर चार्जशीट किया

Related Articles

Back to top button