Fashion/Film/T.VLead NewsNational

मानहानि केस में खुद के जाल में ही फंसे Salman Khan, NRI पड़ोसी के सबूतों को कोर्ट ने माना सही

पनवेल फॉर्महाउस के बगल में रहने वाले केतन कक्कड़ के खिलाफ किया था मानहानि का केस

Mumbai : बॉलीवुड के भाईजान सलमान खान मानहानि केस में फंसते हुए दिखाई दे रहे हैं. एक दीवानी अदालत ने कहा कि बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान के खिलाफ एक पड़ोसी द्वारा दिए गए बयान सही दिखाई दे रहे हैं.
अदालत ने पिछले हफ्ते खान को अंतरिम राहत देने से इनकार कर दिया था उन्होंने पनवेल में अपने फॉर्महाउस के बगल में रहने वाले केतन कक्कड़ के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया था.

इसे भी पढ़ें:Palamu : बुनियादी सुविधाओं का अभाव झेल रहे हैं बरवाही-बिसहिया के परहिया जनजाति के लोग, पहुंच पथ और पेयजल की भारी किल्लत

क्या है मामला

ram janam hospital
Catalyst IAS

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अनिल लड्ढाद ने खान की उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें कक्कड़ को उनके या उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ कोई और टिप्पणी करने से रोकने के लिए अंतरिम आदेश देने की मांग की गई थी.

The Royal’s
Sanjeevani

एनआरआई केतन कक्कड़ की मुंबई के पास रायगढ़ जिले के पनवेल में खान के फार्महाउस के बगल में एक पहाड़ी पर एक जमीन है.

इसे भी पढ़ें:महंगाई के खिलाफ कांग्रेसियों का प्रदर्शन, गैस सिलेंडरों पर माल्यार्पण कर मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी की

क्या कहना है सलमान का

सलमान खान के मानहानि वाद के मुताबिक, कक्कड़ ने एक यू-ट्यूबर को दिए साक्षात्कार में अभिनेता के खिलाफ मानहानिकारक टिप्पणी की थी. खान के वकील प्रदीप गांधी ने तर्क दिया कि कक्कड़ ने वीडियो, पोस्ट और ट्वीट में झूठे, अपमानजनक और मानहानिकारक आरोप लगाए.

वकील ने अदालत को बताया कि कक्कड़ ने खान के फार्महाउस के बगल में एक भूखंड खरीदने की कोशिश की थी, लेकिन अधिकारियों ने इस आधार पर लेनदेन रद्द कर दिया कि यह अवैध था.

कक्कड़ की ओर से पेश अधिवक्ता आभा सिंह और आदित्य प्रताप ने खान द्वारा मांगी गई राहत का विरोध करते हुए तर्क दिया कि बयान खान की संपत्ति के बारे में तथ्यों के इर्द-गिर्द घूमते हैं और मानहानि कारक नहीं हो सकते.

वकीलों ने दावा किया कि कक्कड़ ने 1996 में अपनी जमीन खरीदी थी. वह 2014 में सेवानिवृत्त हुए और वहां रहना चाहते थे, लेकिन सलमान खान और उनके परिवार की वजह से अपनी जमीन तक नहीं पहुंच सके.

इसे भी पढ़ें:रामनवमी की शोभा यात्रा पर सरकारी गाइडलाइन पर भड़का महावीर मंडल, कहा-इस्लामिक देशों में भी झारखंड की तरह इतनी पाबंदी नहीं

Related Articles

Back to top button