न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एनडीए का हिस्सा बने रहने के पक्ष में रालोसपा सांसद

42

New Delhi: भाजपा की सहयोगी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा के विपक्ष में शामिल होने के कयासों के बीच पार्टी के सांसद राम कुमार शर्मा ने मंगलवार को कहा कि वह चाहते हैं कि पार्टी सत्तारूढ़ गठबंधन में बनी रहे. सांसद ने यह भी इच्छा जताई कि कुशवाहा भी अपने पद पर बने रहें.

इसे भी पढ़ेंः18 साल में 18 घोटालों से राज्य की छवि दागदार, कई गये सलाखों के…

NDA का हिस्सा रहना चाहते हैं RLSP सांसद

सांसद शर्मा ने पीटीआई से कहा, ‘‘मैं राजग में हूं और गठबंधन में बना रहना चाहूंगा. मैं उम्मीद करता हूं कि हमारी पार्टी इसका हिस्सा बनी रहेगी.’ सांसद से पूछा गया कि अगर पार्टी के अध्यक्ष भाजपा की अगुवाई वाले राजग से अलग हो जाते हैं तो क्या पार्टी मंत दरार पड़ जाएगी, इस पर उन्होंने उम्मीद जताई कि ऐसा कुछ नहीं होगा. पार्टी के सूत्रों ने बताया कि शर्मा के अलावा पार्टी के दो विधायकों में से एक का मानना है कि उन्हें राजग में रहना चाहिए. उन्होंने हालांकि कहा कि पार्टी के अनेक नेताओं ने कुशवाहा से अपील की है कि वह रालोसपा को लोक सभा की केवल दो सीटों पर चुनाव लड़ने की भाजपा की पेशकश को स्वीकार नहीं करें.

इसे भी पढ़ेंःसरकार का दावा 2019 से 24 घंटे बिजली, पर कहां से आयेगी बिजली, पावर…

सीट बंटवारे को लेकर भी फंसा पेंच

गौरतलब है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह कह चुके हैं कि बिहार में राजग के सभी घटक दलों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई वाले जदयू को सहयोग देने के लिए कुर्बानी देनी होगी. शाह ने यह भी घोषणा की है कि भाजपा और जदयू 2019 में समान सीटों पर चुनाव लड़ेगी. रालोसपा ने 2014 में तीन सीटों पर चुनाव लड़ा था और तीनों में जीत दर्ज की थी. हालांकि पार्टी के एक सांसद अरूण कुमार ने पार्टी छोड़ कर अपनी अलग पार्टी बना ली है.

इसे भी पढ़ेंःस्थापना दिवस पर आंदोलनकारियों ने गड़बड़ी की तो सख्ती से निपटेगी…

कुशवाहा ने विपक्षी नेता शरद यादव से सोमवार को मुलाकात की थी जिसके बाद ये कयास लगाए जा रहे हैं कि नीतीश कुमार से मतभेदों और लोकसभा चुनाव में सीटों के प्रस्तावित बटवारें से नाखुश होने के कारण वह पाला बदल सकते हैं. इससे पहले बिहार में रालोसपा के दोनों विधायकों के जेडीयू में शामिल होने की चर्चा थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: