न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गुंडागर्दी पर उतर आयी है रघुवर सरकार: जेवीएम

पारा शिक्षकों व मीडियार्मियों पर लाठीचार्ज को बताया बर्बरतापूर्ण कार्रवाई

76

Ranchi: झाविमो के केन्द्रीय प्रवक्ता योगेन्द्र प्रताप सिह ने कहा है कि रघुवर सरकार अब पूरी तरह गुंडागर्दी व हिटलरशाही पर उतर गयी है. राज्य स्थापना दिवस समारोह के दौरान अपने हक-अधिकार की मांग कर रहे पारा शिक्षकों व समाचार संकलन कर रहे मीडियाकर्मियों पर राज्य सरकार द्वारा कराये गये लाठीचार्ज की हम भत्सर्ना करते हैं.

इसे भी पढ़ें: स्थापना दिवस पर पारा शिक्षकों का प्रदर्शन, सीएम को काला झंडा दिखाने की कोशिश-पुलिस का लाठीचार्ज

सरकार के सलूक की निन्‍दा

बीती रात से ही कई जिलों में पारा शिक्षकों के घर पर छापामारी कर उन्हें ऐसे गिरफ्तार किया जा रहा है मानो वे शिक्षक न होकर बड़े अपराधी हों. वहीं जब आज वे अहिंसात्मक तरीके से विरोध-प्रदर्शन कर रहे थे तो उनपर लाठियां बरसाना कहां तक उचित है. सरकार ने पारा शिक्षकों, मीडियाकर्मियों व रसोईया संघ के साथ जो सलूक किया है, हमारी पार्टी इसकी घोर निन्दा करती है. भाजपा के शासनकाल में ऐसा प्रतीत हो रहा है कि अब अपना हक और अधिकार की आवाज बुलंद करना भी गुनाह है. पारा शिक्षकों की मांग कहीं से भी अनुचित नहीं है. वे तो समान काम समान वेतन की ही तो मांग करते हुए अपने स्थायीकरण की मांग कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें: इन आदिवासियों ने नहीं मनाया झारखंड का स्थापना दिवस

शराब कर्मियों को 25 हजार तो पाराशिक्षकों को समान वेतन क्‍यों नहीं

उन्‍होंने कहा कि जब छत्‍तीसगढ़़ सहित अन्य भाजपा शासित प्रदेशों में पारा शिक्षकों की सेवा स्थायी की जा सकती है तो झारखंड में क्या परेशानी है. दरअसल झारखंड सरकार की मंशा ही इनके प्रति ठीक नहीं है. यहां शराब कर्मियों को 25 हजार वेतन देने में सरकार को कोई परेशानी नहीं होती, लेकिन जो पारा शिक्षक विद्यालयों में शिक्षा की लौ जला रहे हैं, उनके लिए सरकार विभिन्न प्रकार के नियम-कानून व बजट का रोना रोने लगती है. झाविमो ने पहले भी कहा है और आज भी दुहरा रही है कि जिस दिन राज्य में बाबूलाल मरांडी की अगुवाई में झाविमो की सरकार बनी, उसके तीन माह के अंदर पारा शिक्षकों की सभी समस्या का समाधान कर दिया जायेगा. सरकार के इस बर्बरतापूर्ण कार्रवाई को लेकर पारा शिक्षकों के हर अहिंसात्मक आंदोलन में हमारी पार्टी उनके साथ है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: