NEWS

रांची : हर साल 10% बढ़ रही गाड़ियां, लेकिन नहीं बढ़ी सड़कों की चौड़ाई

Ranchi : झारखंड के अलग राज्य बनने के बाद रांची में हर वर्ष 10% की दर से गाड़ियों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है, लेकिन इस दौरान सड़के ज्यादा नहीं बढ़ी हैं. राजधानी रांची में फ्लाईओवर नहीं बने हैं और ना कोई वैकल्पिक व्यवस्था हो सकी है.

सड़कों की चौड़ाई पहले के मुकाबले सिर्फ डेढ़ गुना ही बढ़ाई जा सकी है. इस वजह से शहर में जाम की समस्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है. गौरतलब है कि रांची का क्षेत्रफल 5097 वर्ग किलोमीटर है और यहां की आबादी 2914253 लाख है.

advt

राज्य गठन के बाद यहां आने जाने वाले लोगों की संख्या में भारी बढ़ोतरी हुई है. राजधानी रांची की सड़कें जाम से जूझ रही हैं. सरकार, प्रशासन, पुलिस और ट्रैफिक पुलिस एक साथ मिलकर इस समस्या का समाधान ढूंढ रहे हैं. हालांकि, कामयाबी नहीं मिल रही है.

इसे भी पढ़ें- पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन, शोक की लहर

हर वर्ष 10% की दर से बढ़ रही हैं गाडियां

जानकारी के अनुसार रांची की आबादी हर वर्ष बढ़ रही है और साथ ही गाड़ियों की संख्या भी हर साल 10 प्रतिशत की दर से बढ़ रही है. राजधानी में पिछले नौ वर्षाें में छह लाख से अधिक वाहनों का रजिस्ट्रेशन हुआ है.

जबकि, मौजूदा समय में रांची में साढ़े नौ लाख से भी ज्यादा गाड़ियों  (दोपहिया और चारपहिया) के होने का अनुमान है. वहीं, शहर में करीब 2000 वाहनों की पार्किंग की ही व्यवस्था है. ये आंकड़े इस बात का संकेत हैं कि शहर को जाम से निजात दिलाने के लिए कोई ठोस योजना बनाने की जरूरत है.

कहां कितनी बढ़ी चौड़ाई

राज्य गठन के बाद झारखंड की राजधानी रांची को बने हुए 18 साल से अधिक समय हो चुका है, लेकिन राजधानी की सड़कों की चौड़ाई पहले की तुलना में सिर्फ डेढ़ गुना ही बढ़ी है.

  • वर्ष 2000 में बरियातू रोड की चौड़ाई 7.5 मीटर वर्तमान में 14 मीटर है.
  • वर्ष 2000 में मेन रोड 10 मीटर चौड़ी थी वर्तमान ने 20 मीटर चौड़ी है.
  • वर्ष 2000 में हरमू रोड 14 मीटर चौड़ी वर्तमान में 18 मीटर.
  • वर्ष 2000 में कांके रोड 7.00 मीटर चौड़ी वर्तमान में 15 मीटर.
  • वर्ष 2000 में सरकुलर रोड 10 मीटर चौड़ी वर्तमान में 12 मीटर.
  • वर्ष 2000 में कोकर रोड 7.5 मीटर चौड़ी वर्तमान में 12 मीटर.
  • डोरंडा-बिरसा चौक रोड 13 मीटर चौड़ी वर्तमान में 22 मीटर.
  • पुरुलिया रोड 7.00 मीटर वर्तमान में 7 से 9 मीटर.
  • कचहरी रोड 12 मीटर वर्तमान में 14 मीटर.
  • बूटी मोड़-खेलगांव 7.00-8.00 मीटर वर्तमान में 9 मीटर.
  • कांटाटोली-सिरमटोली 7.00 मीटर वर्तमान में 13 मीटर चौड़ी है.

इसे भी पढ़ें- अमित शाह ने कहा, पटेल ने 630 रियासतों को भारत में मिलाया, कश्मीर का संपूर्ण विलय पीएम मोदी ने किया

शहर में बनी रहती है सड़क जाम की समस्या

राजधानी रांची के अधिकतर प्रमुख सड़कों पर आये दिन जाम की स्थिति बनी रहती है. जिनमें मेन रोड, ओल्ड एजबी रोड, सर्कुलर रोड, कचरी रोड, रातू रोड, हरमू रोड, डोरंडा समेत सभी सड़कों, चौक-चौराहों पर सुबह से रात तक जाम लगा रहता है. यहां वाहन रेंगते हुए नजर आते हैं.

इसके अलावा कांटाटोली-बहू बाजार-क्लब रोड,सर्कुलर रोड, पुरुलिया रोड, ओल्ड एचबी रोड, बरियातू रोड, हरमू रोड, हिनू रोड समेत तमाम सड़कें दिन भर जाम की स्थिति बनी रहती हैं.

कांटटोली चौक को पार करने में 15-20 मिनट समय लग जाता है. लालपुर चौक, अल्बर्ट एक्का चौक, रातू रोड न्यू मार्केट चौराहा चौक, पुरानी रांची चौक, सर्जना चौक भी दिन भर जाम ही रहते हैं.

इसे भी पढ़ें- पलामू: सतबरवा में चार वर्षीया बच्ची की पटक कर हत्या, CRPF और मनिका पुलिस पर हत्या का आरोप 

इन जगहों पर ऑटो की वजह से लगता है जाम

शहर के प्रमुख मार्ग न्यू मार्केट रातू रोड बस स्टैंड में ही ऑटो स्टैंड है. लेकिन यहां अधिकांश ऑटो और बस सड़कों पर लगे रहते हैं. जाकिर हुसैन पार्क के सामने कोई ऑटो स्टैंड नहीं है, फिर भी वहां हर दिन 150 से अधिक ऑटो सड़क पर खड़े रहते है.

यहीं हाल अलबर्ट एक्का चौक से थड़पखना जाने वाली सड़क पर भी देखने को मिलता है. जहां पैसेंजर बैठाने के लिए ऑटो वाले आधी सड़क जाम किये रहते हैं, लेकिन कोई इस बात की सूध लेने वाला तक नहीं.

अलबर्ट एक्का चौक पर फिरायालाल के सामने लाइन से ई-रिक्शा वाले पैसेंजर लेने के लिए घंटों खड़े रहते हैं. वहीं चौक की बाईं ओर मंदिर के पास भी लाइन से ई-रिक्शा और ऑटो लगे रहते हैं.

दुर्गा मंदिर के पास तो ऑटो वाले ऑटो लगाकर सो भी जाते हैं और जाम लगा रहता है. जब कोई ऑटो हटाने को बोलता है तो सभी ऑटो वाले उससे उलझ जाते हैं.

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: