Education & CareerJharkhandLead NewsRanchi

Ranchi University : वोकेशनल कोर्सेस का हाल बेहाल, 24 कोर्सेस में आधे से अधिक को नहीं मिले पूरे स्टूडेंट्स

Ranchi : रांची विश्वविद्यालय के अंतर्गत पीजी के सभी विभागों के साथ जोड़ कर 24 वोकेशनल कोर्सेस की शुरुआत की गयी. पर 24 वोकेशनल कोर्सेस में से एक-दो कोर्स को छोड़ कर शायद ही कोई कोर्स है जिन्हें जितनी सीट है उतने स्टूडेंट्स मिल पाते हों.

पीजी के वोकेशनल कोर्सेस को स्टूडेंट्स नहीं मिल पाने की बात लगभग हर एकेडमिक सेशन में है. इस साल स्थिति ज्यादा ख़राब है. पीजी के 24 वोकेशनल कोर्सेस में से आधे से अधिक में अधिकांश सीट खाली है. एक कोर्स ऐसा भी है जिसे एक भी स्टूडेंट्स नहीं मिला.

advt

इसे भी पढ़ेंःCorona Update: झारखंड में पाबंदियों में छूट के साथ ही मौत व मरीजों की संख्या में गिरावट

टीचर्स की कमी और फीस बड़ी वजह

रांची विवि के पीजी विभागों के अंतर्गत डिग्री, डिप्लोमा व सर्टिफिकेट स्तर पर 24 तरह के वोकेशनल कोर्स संचालित होते हैं. इसमें से कई कोर्सों में कुल सीटों में से आधे पर भी नामांकन नहीं हुआ है. दरअसल, रांची विश्वविद्यालय जिन कोर्सेस को चला रहा है वो जुगाड़ के शिक्षकों के भरोसे चल रहा है.

कॉन्ट्रेक्चुअल, घंटी आधारित शिक्षक या फिर गेस्ट लेक्चर के भरोसे क्लासेस चलाये जाते हैं. सभी कोर्स सेल्फ फाइनेंसिंग हैं. स्टूडेंट्स से जो फीस मिलती है उसी से खर्च निकाला जाता है. कोर्सेस की फीस भी महंगी है. इस वजह से स्टूडेंट्स का भरोसा नहीं बन पाता है.

इसे भी पढ़ेंःपहले व्हाट्स एप पर न्यूड होती थी लड़कियां, फिर रांची के साइबर डीएसपी का फोटो दिखा करती थी ठगी

बंद हो सकते हैं कई कोर्स

वोकेशनल कोर्सेस में एडमिशन की जैसी स्थिति है वैसे में विश्वविद्यालय को कई कोर्स बंद करने पड़ सकते हैं. नियम के मुताबिक वैसे कोर्सेस जिसमें स्टूडेंट्स की संख्या 10 से कम होगी उन कोर्सेस को बंद कर देना है.

रांची विश्वविद्यालय में एडमिशन चांसलर पोर्टल से लिया गया. लेकिन वोकेशनल कोर्सेस को इससे अलग रखा गया. इस वजह से भी इस साल नहीं के बराबर स्टूडेंट्स का एडमिशन हो पाया.

15 जून तक ले सकते हैं नामांकन

स्टूडेंट्स के एडमिशन के घटते रेश्यो को देखते हुए विवि प्रशासन ने निर्णय लिया है कि सभी वोकेशनल कोर्सेस में 15 जून तक एडमिशन लिया जाए. पर इस पर शर्त लगायी है कि जो स्टूडेंट्स आवेदन किये हैं वे ही एडमिशन ले सकेंगे.

इधर जिन वोकेशनल कोर्सों में सीटें खाली रह गयी हैं उसके को-आर्डिनेटर का कहना है कि वोकेशलन के लिए आवेदन चांसलर पोर्टल से नहीं लिया गया था.

इसलिए विवि पहले से आवेदन की शर्त हटा ले तो बची हुई सीटों पर नामांकन संभव हो सकता है. कोरोना के कारण पीजी विभाग बंद रहे. ऐसे में नामांकन नहीं हो पाया. छात्रों को एक मौका मिलना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंःJharkhand का मौसमः कल से तीन दिनों तक भारी बारिश का पूर्वानुमान, वज्रपात व तेज हवा को लेकर अलर्ट जारी

कहां खाली हैं कितनी सीटें

पीजी फिजिक्स विभाग के अंतर्गत संचालित एमएससी इन इलेक्ट्रोनिक्स एंड कम्यूनिकेशन वोकेशनल कोर्स में कुल 30 सीटें है. वर्तमान सत्र में एक भी नामांकन नहीं हुआ है. बीते सत्र में 15 छात्रों ने नामांकन लिया था. पीजी फिजिक्स में भी 180 सीटों में 40 सीटें खाली हैं.

पीजी राजनीति विज्ञान विभाग में पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन वोकेशनल के अंतर्गत संचालित होती है. इसमें 100 सीटें हैं जिसमें 26 पर नामांकन हुआ है जबकि 76 सीटें खाली है. पीजी समाजशास्त्र में मानवाधिकार कोर्स चलती है. इसमें 80 सीटों में से 9 पर नामांकन हुआ है जबकि 71 सीटें खाली है. बीते वर्ष 10 पर नामांकन हुआ था.

पीजी गृह विज्ञान के अंतर्गत फैशन डिजाइन कोर्स में 50 सीटें हैं जिसमें 6 पर नामांकन हुआ है. इसी तरह जूलॉजी के अंतर्गत संचालित इन्वायरामेंट साइंस में 40 सीटों में से 32 पर, पीजी वनस्पतिशास्त्र में संचालित एमएससी इन बायोटेक्नोलॉजी में 50 में से 43 सीटों पर नामांकन हुआ है.

पीजी संस्कृत के अंतर्गत ज्योतिर्विज्ञान में 40 में से 25 सीटों पर नामांकन हो चुका है. केवल एमसीए ऐसा कोर्स है जिसमें सभी 102 सीटों पर नामांकन हो चुका है. यह मैथ विभाग में संचालित होता है.

इसे भी पढ़ेंःजेएमएम नेता की कार पर बाइक सवार युवकों ने किया हमला, तीन लोग घायल

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: