World

हांगकांग में चीन के खिलाफ रैली, हिंसक प्रदर्शन, पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े,  36  गिरफ्तार  

Hong kong  हांगकांग में प्रदर्शनकारियों की ओर से रविवार रात अधिकारियों पर लाठियों और लोहे की छड़ों से हमले किये जाने के बाद प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया, जिसके बाद 36 लोगों को गिरफ्तार किया गया.  एक प्रस्तावित प्रत्यर्पण विधेयक के खिलाफ शुरू हुए विरोध प्रदर्शनों का दायरा हाल ही में तब और व्यापक हो गया जब लोकतंत्र समर्थक आंदोलन के जरिये बीजिंग समर्थक सरकार को इसमें निशाना बनाया जाने लगा.  प्रदर्शनकारी पिछले तीन महीनों से सरकार के खिलाफ सड़कों पर हैं और इस दौरान कई बार उनके प्रदर्शन ने हिंसक रुख भी अख्तियार किया.

Sanjeevani

सुएन वान जिले में एक निकटवर्ती खेल स्टेडियम में रविवार को प्रदर्शनकारियों की एक रैली हुई.  बारिश के बीच बड़ी संख्या में लोगों ने इस रैली में हिस्सा लिया.  वहीं कट्टरपंथी प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने पुलिस को रोकने के लिए सड़क पर अस्थायी अवरोधक लगा दिये. ।रैली के बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हुई.  पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर बितर करने के लिए चेतावनी के तौर पर पहले झंडे दिखाए और फिर आंसू गैस के गोले छोड़े.

MDLM
इसे भी पढ़ें :  INX मीडिया केस : चिदंबरम को लगा फिर से झटका, SC ने खारिज की CBI रिमांड के खिलाफ याचिका

पुलिस ने सड़कों पर पानी की बौछार करने वाले वाहन भी दौड़ाये

पुलिस ने सड़कों पर पानी की बौछार करने वाले वाहन भी दौड़ाये. इस दौरान संकेतों के जरिये प्रदर्शनकारियों को यह चेतावनी दी गयी कि अगर वे नहीं हटेंगे तो जेट विमानों की तैनाती की जायेग. । इसके जवाब में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया और पुलिस के साथ उनकी हिंसक झड़प हुई. टीवी फुटेज में दिखाया गया कि पानी की धार छोड़ी गयी,  लेकिन यह शायद चेतावनी या परीक्षण के लिए था क्योंकि पानी की धार प्रदर्शनकारियों तक नहीं पहुंची.  लाठियां और लोहे की छड़ें लिए प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने अधिकारियों को सड़कों पर दौड़ाया जिसके बाद अधिकारियों ने अपने बचाव के लिए हाथों में शील्ड (बचाव कवच) ले लीं.

पुलिस ने बताया कि एक अधिकारी जमीन पर गिर पड़ा.  प्रदर्शनकारियों से घिरने के बाद उसने अपनी पिस्तौलें निकाल लीं और चेतावनी स्वरूप गोली चलाई. पुलिस ने बताया कि गैरकानूनी तरीके से एकत्रित होने, आक्रामक हथियार रखने और पुलिस अधिकारियों पर हमला करने के मामले में उन्होंने 12 वर्षीय एक बच्चे सहित 36 लोगों को गिरफ्तार किया है.  इससे पहले पुलिस ने कहा था कि बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की स्थिति में सिर्फ निगरानी कैमरों और कई नोजलों से युक्त वाहनों का इस्तेमाल किया गया.  कुछ प्रदर्शनकारियों ने कहा कि सरकार ने उनके शांतिपूर्ण आंदोलन का जवाब नहीं दिया इसलिए उन्हें हिंसक रुख अपनाना पड़ा.

इसे भी पढ़ें :  राहुल गांधी का कश्मीर जाने का फैसला गलत, थोड़ा इंतजार किया जाना चाहिए :मायावती

Related Articles

Back to top button