Main SliderRanchi

राज्यसभा चुनाव: #BJP को लग सकता है बड़ा झटका, यूपीए के पास दिख रहा 55 विधायकों का समर्थन

विज्ञापन
  • हेमंत के आवास पर हुई बैठक में यूपीए के साथ जेवीएम नेता बाबूलाल मरांडी, प्रदीप यादव, माले के विनोद सिंह, निर्दलीय सरयू राय, अमित यादव भी पहुंचे थे   
  • आरजेडी कोटे से सांसद प्रेम चंद्र गुप्ता और निर्दलीय सांसद परिमल नाथवाणी का अप्रैल में समाप्त हो रहा कार्यकाल
  • विधानसभाध्यक्ष के चुनाव में भी सीएम हेमंत सोरेन के समर्थन में आये 55 विधायक

Nitesh Ojha

Ranchi : हेमंत सोरेन के नेतृत्व में सत्ता में आयी यूपीए सरकार पूरी मजबूती के साथ अपनी एकजुटता बयां कर रही है. इसका साफ इशारा तो विधानसभा के विशेष सत्र को लेकर सोमवार देर शाम देखने को मिल गया. दरअसल मुख्यमंत्री आवास पर बुलायी गयी यूपीए विधायक दल की बैठक और सत्र में यूपीए की इकजुटता देखने को मिली.

बैठक में यूपीए के घटक दल सहित गैर बीजेपी और निर्दलीय विधायक पहुंचे थे. राजनीतिक गलियारों में इस एकता को झारखंड से खाली हो रही राज्यसभा के दो सीटों से भी जोड़कर देखा जा रहा है.

advt

गौरतलब है कि इस साल अप्रैल माह में राज्यसभा की दो सीट खाली होने वाली है. इसमें निर्दलीय चुनाव जीते सांसद परिमल नाथवानी और आरजेडी कोटे के प्रेम चंद्र गुप्ता शामिल हैं. दोनों सांसदों का कार्यकाल 9 अप्रैल 2020 को पूरा हो रहा है.

जिससे चर्चा जोरों पर है कि मजबूती से सत्ता में आयी हेमंत सरकार खाली हो रहे दोनों राज्यसभा सीट जीतकर बीजेपी को एक और झटका देने की तैयारी में है.

इसे भी पढ़ें –  NEWSWING EXCLUSIVE: ढुल्लू से रंगदारी मांगने वाले ने किया मानहानि मुकदमा, कहा – मेरी 10 करोड़ की संपत्ति हड़प ली

adv

सोमवार को दिखी यूपीए और गैर बीजेपी विधायकों की एकजुटता

बीते साल 29 दिसंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाली हेमंत सरकार को विधानसभा के पहले ही दिन 55 विधायकों का समर्थन मिला है. सत्र के दौरान विधानसभाध्यक्ष के चुनाव के मुद्दे पर यूपीए के साथ गैर बीजेपी विधायकों (कुल 55 विधायकों, जिसमें आजसू भी शामिल है.) ने सीएम हेमंत सोरेन के साथ एकजुटता दिखायी.

राज्यसभा चुनाव: #BJP को लग सकता है बड़ा झटका, यूपीए के पास दिख रहा 55 विधायकों का समर्थन
झारखंड यूपीए दल के विधायक

वहीं देर शाम सीएम आवास में बुलायी गयी बैठक में यूपीए के घटक दलों (इसमें एनसीपी के कमलेश सिंह भी शामिल है.), माले विधायक विनोद सिंह के अलावा दो निर्दलीय विधायक सरयू राय (कभी बीजेपी के कद्दावार नेता रहे अब बागी होकर पूर्वी जमशेदपुर से चुनाव जीते) और अमित यादव (बरकट्टा विधायक) भी पहुंचे थे.

इसे भी पढ़ें – #JNU: हिंसा के 5 मिनट बाद ही दो दिन पहले सर्वर रूम में हुई तोड़फोड़ पर JNUSU अध्यक्ष पर दो FIR दर्ज

अल्पसंख्यक कोटे से भेजे जाने का हो चुका है वादा

लोकसभा चुनाव के पहले ही यह बात सामने आ चुकी है कि 2020 में होने वाले राज्यसभा चुनाव में किसी अल्पसंख्यक कोटे से एक नेता को राज्यसभा भेजा जा सकता है. बीते वर्ष मार्च महीने में  जेएमएम अध्यक्ष शिबू सोरेन के आवास पर रविवार को आयोजित संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में महागठबंधन के नेताओं ने कहा था, कि 2020 के राज्यसभा चुनाव में सभी दल मिलकर अल्पसंख्यक समुदाय से जुड़े नेता को उच्च सदन भेजेंगे.

UPA
झारखंड यूपीए के विधायकों की बैठक की तस्वीर

उस दौरान कहा गया था कि इसके पीछे की मंशा यही थी कि राज्य के एक बड़े अल्पसंख्यक समुदाय को किसी भी हाल में नाराज नहीं किया जाए. ऐसा इसलिए क्योंकि झारखंड की सभी 14 लोकसभा सीटों के लिए महागठबंधन में शामिल कांग्रेस, झारखंड मुक्ति मोर्चा, झारखंड विकास मोर्चा और आरजेडी ने किसी भी अल्पसंख्यक चेहरे को चुनाव मैदान में नहीं उतारा था.

घोषणा के दौरान जेएमएम नेता वर्तमान में सीएम हेमंत सोरेन, कांग्रेस के तत्कालीन प्रदेश अध्य़क्ष डॉ अजय कुमार (अब पार्टी छोड़ चुके हैं), जेवीएम से बाबूलाल मरांडी उपस्थित थे. हालांकि नयी हेमंत सरकार में कांग्रेस में अल्पसंख्यक कोटे से आलमगीर आलम मंत्री बन चुके हैं.

HEMANT
यूपीए के विधायकों के बैठक को संबोधित करते हेमंत सोरेन

वहीं जेएमएम से हाजी हुसैन अंसारी का मंत्री बनना भी तय माना जा रहा है. जाहिर है कि 12 सदस्यीय मंत्रिमंडल में दो अल्पसंख्यक के मंत्री बनने से इन वादों पर कुछ रूकावट बन सकती है. ऐसे में सीएम हेमंत सोरेन जरूर चाहेंगे कि अल्पसंख्यक कोटे को नाराज नहीं करते हुए दोनों सीट यूपीए के ही पाले में रहे.

इसे भी पढ़ें –  #Dhanbad: आकाशकिनारी कोलियरी कांटाघर में हुई बमबाजी मामले में MLA ढुल्लू के चार समर्थक गिरफ्तार

सांसद चुनने के लिए चाहिए 28 प्राथमिक वोट

राज्यसभा में एक उम्मीदवार को चुने जाने के लिए न्यूनतम मान्य वोट चाहिए होते हैं. वोटों की गिनती सीटों की संख्या पर निर्भर करता है. इसे हम ऐसे समझ सकते हैं कि राज्य में विधायकों की कुल संख्या 81 है.

राज्यसभा
राज्यसभा

अब प्रत्येक सदस्य को राज्यसभा पहुंचने के लिए कितने विधायकों का समर्थन प्राप्त होना चाहिए, यह तय करने के लिए कुल विधायकों की संख्या को जितने सदस्य चुने जाने हैं, उसमें 1 जोड़कर विभाजित किया जाता है.

अप्रैल माह में राज्य से 2 सदस्यों का चुनाव होना है. इसमें 1 जोड़ने से यह संख्या 3 होती है. राज्य में कुल विधायकों की संख्या 81 है, तो उसे 3 से विभाजित करने पर संख्या 27 आता है. इसमें फिर 1 जोड़ने पर यह संख्या 28 हो जाती है. यानी राज्य से राज्यसभा सांसद बनने के लिए उम्मीदवार को 28 प्राथमिक वोटों की जरूरत होगी.

इसे भी पढ़ें –  #Gangster सुजीत सिन्हा गिरोह के विशाल सिंह ने वीडियो जारी कर कोल ट्रांसपोर्टरों से कहा, ‘बॉस से मैनेज करके काम करो वरना…’

 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button