न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कांवरियों से भरी गाड़ी पलटने से एक की मौत, सात घायल

बिहार के गोपालगंज जिला से हैं सभी कांवरिया

294

Dumka: जरमुंडी थाना क्षेत्र के दुमका-देवघर मुख्य पथ पर बालक मध्य विद्यालय के समीप कावंरियों से भी कमांडर जीप पलट गयी. इस हादसे में घटनास्‍थल पर ही एक महिला कांवरिया शिवकुमारी देवी (55 वर्ष) की मौत हो गई. इस दुर्घटना में सात अन्य कांवरिया गंभीर रूप से घायल हो गये. बाकी कांवरिया को हल्‍की चोटें आयी है.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- जेपीएससी मुख्य परीक्षा फॉर्म भरने में छात्रों के छूट रहे पसीने, प्रज्ञा केंद्र की साइट…

नशे की हालत में जीप चला रहा था चालक

यह सड़क हादसा रविवार को देर रात में हुआ. दुर्घटना के बाद प्रशासन ने सभी घायलों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया. अस्पताल में प्राथमिक इलाज करने के बाद सभी घायलों को बेहतर इलाज के लिए रेफर कर दिया गया. मृत महिला के शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया गया. पुलिस ने चालक को हिरासत में ले लिया है और वाहन को जब्‍त कर लिया है.

जानकारी के अनुसार शुक्रवार को बिहार राज्य के गोपालगंज जिला अंतर्गत फुचका थाना क्षेत्र के श्यामपुर गांव से 17 कांवरियों का जत्था पूजा करने के लिए देवघर गया हुआ था.  रविवार की शाम सभी ने बाबा धाम और बासुकीनाथ में पूजा-अर्चना की. उसी रात सभी कांवरिया कमांडर जीप में बासुकीनाथ से दस किलोमीटर की दूरी पर स्थित सेवा शिविर में विश्राम करने के लिए जा रहे थे.

बताया जा रहा है कि कमांडर जीप का चालक नशे की हालत में गाड़ी चला रहा था. कांवरियों ने उसे कई बार गाड़ी धीमी चलाने को कहा, लेकिन उसने गति धीमी नहीं की. मोड़ पर चालक गाड़ी का नियंत्रण खो बैठा और कमांडर जीप पलट गयी.

Related Posts

इस गांव के लोग मिस्त्री को पैसा दे बनवाते हैं ट्रांसफॉर्मर, दूसरे दिन गुल हो जाती है बिजली

ग्रामीणों की मांग : विभाग या तो ट्रांसफॉर्मर ठीक कराये या नया लगाये

गंभीर रूप से घायल कांवरियों में बबलू यादव, जितेंद्र चौधरी, शीला देवी, प्रमोद साह, शांति देवी, कांति देवी और माया देवी सहित सात कावंरिया शामिल हैं.

अस्पताल के फर्श में हुआ कांवरियों का इलाज

सदर अस्पताल में बेड के अभाव में फर्श पर लिटा घायल कांवरियों का इलाज किया गया. सदर अस्पताल को मरीजों के लिए तीन सौ बेड मिला है, लेकिन यहां पर एक सौ से ज्यादा मरीज भर्ती होने के बाद हकीकत सामने आ जाती है. रविवार की रात जब घायल कांवरियों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया, तो उनके लिए अस्पताल प्रबंधन बेड उपलब्ध नहीं करवा सका. जिस कारण शांति देवी, शीला देवी, जितेंद्र चौधरी को जमीन पर लिटा कर इलाज करवाया गया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: