JharkhandRanchi

जेपीएससी मुख्य परीक्षा फॉर्म भरने में छात्रों के छूट रहे पसीने, प्रज्ञा केंद्र की साइट फेल

 Ranchi : छठी जेपीएससी मुख्य परीक्षा के आवेदन-पत्र(फॉर्म) 13 अगस्त 2018 से भरने आरंभ हो गये हैं.  आगामी 14 सितंबर 2018 तक फॉर्म भरने के बाद अभ्यर्थियों को जेपीएससी कार्यालय जमा करने है. इन सबके बीच अभ्यर्थियों को सबसे ज्यादा परेशानी जाति एवं आवास प्रमाण-पत्र बनाने में आ रही है. प्रज्ञा केंद्र की साइट फेल होने से अभ्यर्थियों को प्रमाण-पत्र बनाने में काफी परेशानी हो रही है. पूरे प्रदेश के जिलों में प्रज्ञा केंद्र की साइट में तकनीकी खराबी आने से अभ्यर्थियों को ऑनलाइन जाति एवं आवासीय प्रमाण-पत्र बनाने में समस्या आ रही है.

इसे भी पढ़ें-    अटल जी का अस्थि कलश 22 को रांची आयेगा, झारखंड की पांच नदियों में होगा विसर्जित

बीडीओ और सीओ ऑफिस के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं

रामगढ़ के बिनोद महतो का कहना है कि आयोग ने मुख्य परीक्षा के लिए जाति एवं आवासीय प्रमाण-पत्र के लिए अलग फॉमेंट मांगा है,  इसके कारण बीडीओ और सीओ ऑफिस के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं, क्योंकि प्रज्ञा केंद्र की साइट काम नहीं कर रही है. बोकारो के कैलाश रजवार का कहना है कि जाति प्रमाण-पत्र बनाने में काफी समस्या आ रही है.  बीडीओ और सीओ ऑफिस के चक्कर लगाकर हालत खराब है. वहीं जेपीएससी के अधिकारियों की मानें तो आवेदन-पत्र में दिये फॉमेंट के अनुसार अभ्यर्थियों को जाति एवं आवासीय प्रमाण-पत्र देने हैं. वर्ष 2008 के बाद निर्गत जाति प्रमाण एवं आवासी प्रमाण-पत्र मान्य होंगे.

इसे भी पढ़ें-  नक्सलियों का उत्पात, तीन बॉक्साइट ट्रक व एक जेसीबी गाड़ी जलाया, ठेकेदार को बेरहमी से पीटा

advt

क्या कहते हैं छात्र नेता मनोज यादव

छात्र नेता मनोज यादव का कहना है कि छठी जेपीएससी मुख्य परीक्षा में 35 हजार से अधिक बाहरी लोगों को परीक्षा दिला कर नौकरी प्रदान करने की साजिश है. नये फॉर्मेंट में आयोग द्वारा जाति एवं आवासीय प्रमाण-पत्र मांगना यहां के अभ्यर्थियों को नौकरी से वंचित करने की साजिश है. ताकि अभ्यर्थी तैयारी के दिनों में केवल जाति एवं आवासीय प्रमाण-पत्र बनाने में उलझ कर रह जायें.

इसे भी पढ़ें- घाघरा में पुलिस और अर्धसैनिक बलों द्वारा किया गया था दमन : फैक्ट फाइंडिंग टीम

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button