न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोदी विरोधियों को जवाब देने आ रही नई किताब, साढ़े चार सालों के विवादित मुद्दों का जिक्र

आर बालाशंकर ने लिखी ‘Narendra Modi: Creative Disruptor — The Maker of New India’

36

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लिखी गई एक किताब जल्द ही रिलीज होनेवाली है. कई भाषाओं में प्रकाशित होने जा रही इस किताब को आर बालाशंकर ने लिखा है. जिसका नाम है, ‘Narendra Modi: Creative Disruptor — The Maker of New India’. बालाशंकर वीकली ऑर्गेनाइजर के संपादक रह चुके हैं, इसके अलावा वह भाजपा आईटी सेल के संयोजक भी रहे हैं. माना जा रहा है कि किताब सत्तारूढ़ भाजपा की समर्थक हैं.

इसे भी पढ़ेंःएक लाख करोड़ के ऑन गोईंग प्रोजेक्ट की रफ्तार धीमी, आपूर्तिकर्ताओं…

विरोधियों को किताब के जरिए जवाब

बताया जा रहा है कि इस किताब में बालाशंकर ने पीएम मोदी के विरोधियों का जवाब दिया है. प्रधानमंत्री के रूप में उनके द्वारा उठाए गए कदमों के विरोध में उठे सवालों का जवाब किताब में देंगे. ये जानकारी किताब के लेखक के हवाले से हैं. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक बालाशंकर ने बताया कि ‘किताब में 300 पेज हैं जबकि 17 अध्याय है. इसके अलावा करीब 40 दुर्लभ और प्रासंगिक तस्वीरें भी हैं.’

अमित शाह ने लिखी भूमिका

माना जा रहा है कि ये किताब दिसंबर के पहले सप्ताह में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में लॉन्च हो सकती है. उम्मीद ये जताई जा रही है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह खुद इस बुक को लॉन्च करेंगे. पीएम मोदी पर लिखी गई किताब की खास बात यह है कि इसकी भूमिका अमित शाह ने लिखी है, जबकि केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इसका परिचय लिखा है. इसके अलावा केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने किताब पर अपने विचार लिखे हैं.

इसे भी पढ़ेंःस्टेट बोर्ड ऑफ टेक्निकल एजुकेशन का होगा झारखंड तकनीकी विश्वविद्यालय में विलय

फिलहाल किताब का अंग्रेजी वर्जन अगले महीने लॉन्च किया जाएगा. ये किताब इंग्लिश के साथ-साथ हिंदी, गुजराती, पंजाबी, मराठी, तमिल, कन्नड़ और मलयालम भाषा में भी छपेगी. लेकिन ये वर्जन बाद में छपेंगे. उम्मीद जताई जा रही है कि साल 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले एक लाख किताबें बाजार में आ जाएंगी.

विवादित मुद्दों पर विरोधियों को जवाब

बालाशंकर ने बताया कि किताब में उन सभी विवादित मुद्दों पर लिखा गया है, जो पिछले साढ़े चार सालों में उठे हैं. किताब में राष्ट्रीय सुरक्षा, अवार्ड वापसी: भारत में असहिष्णुता का डर, नोटबंदी, अल्पसंख्यक मामले, बैंक एनपीए, राफेल डील, विदेश नीति, मोदी और शाह के बीच संबंध के अलावा सामाजिक सशक्तिकरण जैसे मुद्दों पर विस्तार से लिखा गया है.

इसे भी पढ़ें- गिरफ्तार पारा शिक्षक भेजे गए जेल, लगी आठ संगीन धाराएं, रांची के बाद दूसरे जिलों के पारा शिक्षक भी…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: