JharkhandLead NewsRanchi

मनरेगा : कार्यरत मजदूरों की ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज करने में जिले नहीं दिखा रहे रूचि, डॉ.मनीष रंजन ने जतायी नाराजगी

Ranchi : मनरेगा में कार्यरत मजदूरों की ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज कराने में जिले के अधिकारी रूचि नहीं ले रहे हैं. केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा विकसित एनएमएमएस मोबाइल एप पर कार्यरत मजदूरों की उपस्थिति अपलोड करने में कोताही बरती जा रही है. जबकि विभाग ने पहले भी स्पष्ट निर्देश दिया है कि जब तक ऑनलाइन उपस्थिति एप के जरिये दर्ज नहीं की जायेगी तब तक मजदूरी भुगतान नहीं करना है. लेकिन इस कार्य की प्रगति काफी कम है.

मनरेगा से क्रियान्वित योजना स्थल पर कार्यरत मजदूरों का उपस्थिति नेशनल मॉनिटरिंग मोबाइल सिस्टम( एनएमएमएस) एप के माध्यम से मेट के द्वारा प्रतिदिन अपलोड किया जाना है,परंतु यह देखा जा रहा है कि इस दिशा में जिलों एवं प्रखंडों द्वारा आवश्यक कार्रवाई नहीं की जा रही है.

इसे भी पढ़ें : हजारीबाग: बड़कागांव और केरेडारी के रैयतों को मुआवजा देने की तैयारी में NTPC, 15 दिनों में मांगी आपत्ति

मात्र 1362 मेट अपलोड कर रहे हैं उपस्थिति विवरणी

पूरे राज्य में मात्र 1362 मेट के द्वारा उक्त एप के माध्यम से उपस्थिति विवरणी अपलोड करने का कार्य प्रारंभ किया गया है. साथ ही वैसे मस्टर रॉल,जिसमें 20 या इससे अधिक मजदूर कार्यरत हैं,उस मस्टर रॉल में निहित मजदूरों की उपस्थिति अनिवार्य रूप से एनएमएमएस एप के माध्यम से अपलोड करने का निर्देश दिया दिया गया है. लेकिन कई निर्देश के बाद भी मात्र लोहरदगा( 5), पश्चिम सिंहभूम (4),रांची (1),गिरिडीह (1),गुमला (9),रामगढ़ (2) एवं देवघर में (3) में कुल 25 मस्टर रॉल ही अपलोड किया गया है.

इसे भी पढ़ें : मुजफ्फरपुर: घर में लगी आग, गृह स्वामी समेत दो मवेशी की जलकर मौत

मात्र 30662 मस्टर रॉल अपलोड हुआ

ग्रामीण विकास सचिव डॉ.मनीष रंजन ने इस पर नाराजगी जतायी है. इसके अलावा पूरे राज्य में एनएमएमएस एप के माध्यम से विभिन्न योजनाओं का मात्र 30662 मस्टर रॉल को अपलोड किया गया है. इसमें लातेहार,साहेबगंज, पश्विमी सिंहभूम,रांची,चतरा,लोहरदगा,गोड्डा आदि जिलों में प्रगति काफी सबसे कम है. सचिव ने ऐसे में सभी जिलों को एनएएमएमएस एप के माध्यम से सभी मस्टर रॉल के साथ 20 या इससे अधिक मजदूरों वाले मस्टर रॉलों को अनिवार्य रूप से अपलोड करने का निर्देश दिया है.

इसे भी पढ़ें : PMYSY: राज्य सरकार को वित्तीय वर्ष 2020-21 का रिपोर्ट जमा करने का निर्देश, रिपोर्ट जमा नहीं करने पर केंद्र ने फंड रिलीज नहीं करने की दी चेतावनी

Related Articles

Back to top button