न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#LockdownNow  प. बंगाल : संक्रमण के खतरे के बावजूद लॉकडाउन से पहले बाजारों में उमड़ी भीड़

1,506

Kolkata : तेजी से फैलते जा रहे कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु राज्य और केंद्र सरकारों के जागरूकता अभियानों के बावजूद लोगों में किसी तरह की सजगता देखने को नहीं मिल रही. सोमवार शाम पांच बजे पूरे राज्य में लॉकडाउन से पहले कोलकाता समेत शहरी और अर्ध शहरी क्षेत्रों के बाजारों में लोगों की भारी भीड़ उमड़ी थी.

अधिकतर लोगों ने ना तो मास्क पहन रखा था और ना ही संक्रमण से बचाव का कोई उपाय उनके पास दिख रहा था. ये सारे लोग करीब एक सप्ताह का राशन और अन्य जरूरत की चीजें एक साथ खरीदने के लिए बाजार पहुंचे थे. उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लॉकडाउन से पहले ही घोषणा कर दी है कि राज्य में लोगों की जरूरत की आवश्यक चीजों वाली दुकानें जैसे दूध, सब्जी, मीट, मछली, फल, राशन आदि की दुकानें बंद नहीं की जाएंगी.

दवा दुकान भी बंद नहीं होंगी और लोग आवश्यकता पड़ने पर कम संख्या में बाजारों में जाकर खरीदारी कर सकते हैं. बावजूद इसके लोगों में जरूरत की चीजें एकत्रित करने की होड़ ने महानगर समेत राज्यवासियों की लापरवाही को उजागर किया है.

इसे भी पढ़ेंः #CoronaViruslockdown : नीतीश ने दी राहत- राशन कार्डधारियों को एक महीने का राशन, पेंशनधारियों को तीन महीने का अग्रिम पेंशन

ऊंची कीमत पर सामानों की बिक्री का आरोप

लॉकडाउन और लोगों की जरूरतों को देखते हुए कारोबारियों ने सामानों के दाम बढ़ा दिए हैं. बताया गया है कि बाजार में मीट, मछली और सब्जियों की कीमतों में 30 से 50 फीसदी तक का उछाल आया है जिससे नागरिक काफी परेशानी में पड़े हैं. आरोप है कि राज्य सरकार द्वारा निर्धारित मूल्य से अधिक कीमत पर चीजें बेची जा रही है.

Related Posts

लॉकडाउन के बीच ममता ने दी 15 फीसदी चाय बगानों को खोलने की मंजूरी

सोशल डिस्टेंसिंग के प्रावधानों का ख्याल रखने को कहा गया

Whmart 3/3 – 2/4

महंगाई नियंत्रण के लिए राज्य सरकार द्वारा गठित टास्क फोर्स के अधिकारी रवींद्रनाथ कोले ने कहा कि अधिकांश मछलियां और सब्जियां कोलकाता के पड़ोसी जिलों से लाई जाती हैं. रविवार से रेलवे की सेवाएं बंद होने के बाद उनकी आपूर्ति बंद हो गयी है और कीमतें बढ़ी हैं.

इसे भी पढ़ेंः टेरर फंडिंग मामला: महेश, विनित और सोनू अग्रवाल को हाइकोर्ट से मिली राहत बरकरार

व्यापारियों ने मांग की है कि लॉकडाउन के दौरान ट्रेन सेवाओं को केवल विक्रेताओं के लिए शुरू किया जाना चाहिए ताकि आवश्यक चीजों की आपूर्ति की जा सके. दक्षिण कोलकाता के एक कारोबारी ने बताया कि उपनगरीय ट्रेनें लोगों और सामानों के परिवहन के लिए जीवन रेखा की तरह है.

ट्रेनों का संचालन बंद होने से आवश्यक चीजों की आपूर्ति भी बंद हो जाएगी जिससे लोगों को महंगाई का सामना करना पड़ सकता है. बाजारों में आलू की कीमत भी बढ़ा दी गयी है. कहीं  कहीं आलू 20 रुपये किलो दर से बेचे जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः #LockdownNow  लॉकडाउन की घोषणा के बाद भी राज्य के प्रमुख शहरों में खुले रहे बाजार, वाहन भी चले

न्यूज विंग की अपील


देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like