Crime NewsGiridihJharkhandLead News

रिम्स में इलाजरत इनामी माओवादी तूफान की मौत

  • शव पहुंचा पीरटांड, ग्रामीणों और परिजनों ने नक्सली मानने से किया इंकार
  • चार महीने पहले पीरटांड पुलिस ने मांझीडीह गांव से किया था गिरफ्तार

Giridih: इनामी नक्सली तूफान दा रिम्स में इलाज के दौरान मौत हो गयी. रिम्स से मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को रिम्स में उसका पोस्टमॉर्टम हुआ. गुरुवार को तूफान उर्फ राजकुमार किस्कू का शव गिरिडीह जिला स्थित उसके गांव मांझीडीह पहुंचा.

लेने के दौरान परिजनों और ग्रामीणों ने जमकर हंगामा किया. मृतक की पत्नी प्रमिला मेहरा समेत ग्रामीणों का का कहना है कि पीरटांड़ के गम्हरा गांव निवासी राजकुमार (45) नक्सली नहीं था. गिरिडीह सुदिव्य कुमार सोनू ने मामले को मुख्यमंत्री के पास उठाने का भरोसा परिजनों को दिया है. वे शव पहुंचने के बाद गांव पहुंचे थे.

काफी हंगामे के बाद शव को परिजनों ने अंतिम संस्कार के लिए लिया. मृतक के शव के मांझीडीह गांव पहुंचने से पहले ही वहां काफी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ जुट गयी थी.

इसे भी पढ़ें: एस्कॉर्ट सर्विस दिलाने के नाम पर आठ लाख रुपये की ऑनलाइन ठगी करने के सात आरोपी गिरफ्तार

चार माह पहले किया गया था गिरफ्तार

बतातें चलें कि तूफान उर्फ राजकुमार किस्कू को पीरटांड पुलिस ने चार माह पहले 14 जुलाई को पीरटांड के मांझीडीह गांव से गिरफ्तार किया था. उस समय वह समोसा दुकान चला रहा था. गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने उसे जेल भेज दिया था.

वहां एक माह पहले वह गंभीर रूप से बीमार हुआ तो जेल प्रशासन द्वारा कुछ दिन वहीं इलाज कराया गया. हालात नहीं सुधरने पर जेल प्रशासन ने तूफान को बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल भेजने के लिए पत्राचार कर सुरक्षा बल उपलब्ध कराने की मांग की.

इसे भी पढ़ें: हजारीबाग जेल में 26 कैदी मना रहे छठ महापर्व, जेल प्रशासन कर रहा मदद

जेल प्रशासन को 15 दिन बाद दिया गया सुरक्षा बल

जेल प्रशासन की मानें तो सुरक्षा बल के लिए 23 सितंबर को पत्राचार किया गया था लेकिन पुलिस बल 15 दिन लेट यानी 10 अक्टूबर को दिया गया.

इस बीच जेल प्रशासन ने तूफान को इलाज के लिए सदर अस्पताल भेजा था जहां कुछ दिन इलाज होने के बाद पुलिस सुरक्षा में मृतक को रिम्स रांची भेजा गया. चार दिन पहले इलाज के क्रम में तूफान उर्फ राजकुमार किस्कू की मौत हुई. इधर इस मामले में एसपी अमित रेणु से संपर्क का प्रयास किया गया संपर्क नहीं हो पाया.

इसे भी पढ़ें: पीओके में भारतीय सेना का पिनप्वाइंट स्ट्राइक, आतंकी ठिकानों को कर रही है तबाह

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: