Crime NewsJharkhandRanchi

अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड के 19 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है मुख्य आरोपी लोकेश चौधरी

विज्ञापन

Ranchi: अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड के 19 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस की गिरफ्त से हत्याकांड के मुख्य आरोपी लोकेश चौधरी और एमके सिंह दूर हैं.

अरगोड़ा पुलिस हत्याकांड के अन्य दोनों आरोपियों धर्मेंद्र तिवारी और सुनील कुमार को 5 दिनों के लिए रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है.

बता दें कि 19 मार्च को धर्मेंद्र तिवारी ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था और इससे पहले 15 मार्च को सुनील कुमार को बोकारो से पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था. वहीं 20 मार्च को चालक शंकर को पुलिस ने जेल भेजा था.

advt

इस मामले में अब तक तीन लोग जेल जा चुके हैं. लोकेश और आइबी ऑफिसर बन रुपये उड़ाने की कोशिश करने वाला एमके सिंह फिलहाल फरार हैं.

इसे भी पढ़ेंः राजधानी में नाम बदल कर रह रहे हैं नक्सली और नक्सली समर्थक

 कुर्की जब्ती करने का वारंट के बाद भी पुलिस नहीं कर रही है कुर्की

अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड के मुख्य आरोपी आरोपित लोकेश चौधरी घटना के 19 दिन के बाद भी पुलिस की  गिरफ्त से बाहर है.

बताया जा रहा है कि कुर्की जब्ती करने का वारंट मिलने के बाद भी पुलिस मुख्य आरोपी लोकेश चौधरी के घर कुर्की जब्ती करने की कार्रवाई नहीं कर रही है.

adv

 अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड की पूरी स्थिति नहीं हो पायी है स्पष्ट

6 मार्च की शाम अशोक नगर रोड नंबर एक में एक निजी चैनल के कार्यालय में अग्रवाल ब्रदर्स की गोली मारकर की गयी हत्या के मामले में अब तक पूरी स्थिति स्पष्ट नहीं हो पायी है.

एमके सिंह और लोकेश चौधरी की गिरफ्तारी के बाद ही हत्याकांड की स्थिति पूरी तरह से स्पष्ट हो पायेगी. पुलिस के द्वारा रिमांड में लिये गये सुनील कुमार और धर्मेंद्र तिवारी को आमने-सामने बैठाकर और अलग-अलग भी पूछताछ की गयी है.

इसे भी पढ़ेंः जनता तय करे, उन्हें आतंकियों को ‘जी’ और ‘साहब’ बोलने वाला चाहिए या सेना के पराक्रम को सराहने वालाः बीजेपी

 25 लाख रुपये को हड़पने के चलते की गयी थी हत्या

गिरफ्तार हुए लोकेश चौधरी के निजी बॉडीगार्ड सुनील कुमार ने पुलिस को बताया था कि व्यवसायी हेमंत अग्रवाल और महेंद्र अग्रवाल की हत्या 25 लाख रुपये हड़पने के लिए की गयी थी. इसके लिए अपने दोस्त और बॉडीगार्ड से आइबी की फर्जी रेड कराई थी.

एमके सिंह और धर्मेंद्र तिवारी ने अग्रवाल बंधुओं पर गोली चलायी थी. निजी न्यूज चैनल कार्यालय में दोनों भाइयों की हत्या के बाद लोकेश, एमके सिंह और उनके दोनों अंगरक्षक सीसीटीवी फुटेज की डीवीआर लेकर भाग फरार हो गये थे. अपने टी-शर्ट पर लगे खून को छुपाने के लिए डीवीआर के साथ जला डाला था.

इसे भी पढ़ेंः आप से गठबंधन पर दिल्ली कांग्रेस में दो फाड़, राहुल गांधी पर छोड़ा अंतिम फैसला

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button