National

जम्मू-कश्मीरः बाहरी छात्रों को घाटी छोड़ने का निर्देश, सामान जमा कर रहे लोग

Srinagar: जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों की अतिरक्त तैनाती, उसके बाद अमरनाथ यात्रा रद्द करना और पर्यटकों को जल्द से जल्द घाटी से लौट जाने का निर्देश मिलने के बाद से ही जम्मू-कश्मीर में टेंशन का माहौल है. इसी तनाव के माहौल में वहां पढ़ रहे छात्रों को भी घाटी छोड़ने का निर्शेश दिया गया है.

इसे भी पढ़ें – घुसपैठ की कोशिश कर रहे सात पाकिस्तानी आतंकियों को भारतीय सेना ने मार गिराया

पाकिस्तान की ओर से खतरे की आशंका के मद्देनजर राज्य प्रशासन ने बाहरी छात्रों, पर्यटकों और अमरनाथ यात्रियों को जल्दी बाहर जाने के लिए कहा है. इतनी अधिक संख्या में पर्यटकों के लौटने के लिए विमान कंपनियों की सीटें कम पढ़ गयी हैं. श्रीनगर से उड़ान भरनेवाली सभी फ्लाइटें फुल चल रही हैं और टिकटों के दाम भी बढ़ गये हैं. ऐसे में लोगों को वहां से जल्द से जल्द निकालने के लिए भारतीय़ वायुसेना की भी मदद ली जा रही है. भारतीय वायुसेना के विमानों से लोगों को एयरलिफ्ट किया जा रहा है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें – रांची पुलिस ने बड़ी साजिश को किया नाकाम, नगड़ी से विस्फोटकों का जखीरा बरामद

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

हॉस्टल खाली करने के निर्देश

तनाव भरे माहौल में श्रीनगर के एनआइटी प्रशासन ने छात्रों को घाटी छोड़ने का निर्देश जारी किया है. इसके अलावा गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक कॉलेज के प्रिंसिपल ने छात्रों को हॉस्टल खाली करने को कह दिया है. ये निर्देश राज्य में हजारों अतिरिक्त सुरक्षाकर्मियों की तैनाती के बाद दिये गये हैं. जिसके बाद ऐसे कयास लगाये जा रहे हैं कि बीजेपी अपना चुनावी वादा पूरा करने की दिशा में कदम बढ़ाते हुए राज्य में आर्टिकल 35 ए हटाने को लेकर बड़ा फैसला लेनेवाली है.

सामान जुटाने में लगे लोग

घाटी में फैले तनाव के बीच राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि आतंकवादियों से मिली हमले की धमकी के बाद एहतियातन उठाया गया कदम बताया है. उन्होंने कहा है कि मैं कल के बारे में नहीं जानता और कुछ भी मेरे हाथ में नहीं है लेकिन आज चिंता की कोई बात नहीं है. राज्यपाल लोगों को बार-बार यह बता रहे हैं कि चिंता की कोई बात नहीं है, पर लोगों पर इसका शायद ही असर हो रहा है. चिंतित लोगों ने रोजमर्रा की जरूरतों के सामानों को जमा करना शुरू कर दिया है. लोग दवाएं, खाद्य तेल, नमक, दाल-सब्जियां और अन्य जरूरत की चीजें इकट्ठा करने में जुट गये हैं.

पेट्रोल पंपों पर लंबी कतारें

कश्मीर में पेट्रोल पंपों पर लंबी कतारें देखने को मिल रही हैं. स्थानीय लोगों का कहना है कि पेट्रोल पंप पर ईंधन की किल्लत हो गयी है. इस वजह से उन्हें उत्तरी कश्मीर से ईंधन खरीदने जाना पड़ रहा है. लोगों के बीच इस बात की भी अफवाह है कि राज्य पुलिस के शस्त्र वापस ले लिये गये हैं. हालांकि, एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) मुनीर खान ने इसे खारिज कर दिया है.

इसे भी पढ़ें – कहानी एक ‘गांधी’ पसंद डायरेक्टर साहब की…

Related Articles

Back to top button