NEWS

झमाडा कर्मियों ने निकाला जुलूस, सरकार के खिलाफ की नारेबाजी, झरिया-कतरास में बढ़ा जल संकट

Dhanbad : प्राधिकार कर्मचारी संघ से संबध भारतीय मजदूर संघ झारखंड प्रदेश की ओर से सोमवार को झमाडा के कर्मचारियों ने झमाडा कार्यालय से जुलूस निकाला और रणधीर वर्मा चौक तक होते हुए फिर झमाडा कार्यालय पहुंचा. इस दौरान अपनी मांगों को लेकर नारेबाजी भी की. इधर, झमाडा कर्मियों की हड़ताल के कारण झरिया- कतरास आदि इलाकों में जल संकट गहरा गया है. लोग बूंद- बूंद पानी के लिए कड़ी मशक्कत कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःरामगढ़ : #koylanchal में अपराधी बेलगाम, #gangwar और उग्रवाद में जा रहीं जानें

12 लाख लोग झेल रहे हैं जलसंकट

Catalyst IAS
ram janam hospital

झमाडा कर्मी चार दिनों से अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर जिससे पानी और सफाई कार्य बाधित हैं. इनकी मांग है कि छठा वेतन लागू किया जाय और बकाया 42 माह का वेतन भुगतान किया जाय. बता दें कि इन झमाडा कर्मियों को एक माह का वेतन छठा वेतन मान के साथ दिया गया. फिर उसे निरस्त कर दिया गया. इसीके विरोध के लगभग 800 झमाडा कर्मी हड़ताल पर चले गये. जिससे कोयलांचल की 12 लाख की आबादी को पानी के लिए परेशानी झेलनी पड़ रही है.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

पुलिस ने गेट पर भीड़ लगाने से किया मना

बता दें कि जुलूस से पहले झमाडा कर्मी अपने कार्यालय के समक्ष जुटे थे. पुलिस ने गेट पर भीड़ जुटाने से मना कर दिया. जिसको लेकर झमाड़ा कर्मी और पुलिस के बीच काफी देर तक विवाद होता रहा. काफी देर बाद कर्मी झमाडा कार्यालय से हटे. बता दें कि झमाडा कर्मी की हड़ताल की घोषणा के बाद प्रशासन द्वारा जल संयंत्र और कार्यालय में निषेधाज्ञा लगा दी गयी थी.

इसे भी पढ़ेंः NEWS WING STING: 70-80 हजार रुपया दो, समाज कल्याण विभाग में #JOB लो

मांगें पूरी होने तक रहेंगे हड़ताल पर

वहीं झमाडा कर्मी प्रेमानंद तिवारी का कहना है कि जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं होगी, हड़ताल जारी रहेगी. कहा कि जिला प्रसासन या झमाडा अधिकारी हमलोगों को वार्ता के लिए भी नही बुलाये हैं. उन्होंने कहा कि इस बार आर-पार की लड़ाई होगी. लोगों को पानी की दिक्कत हो रही है, इसमें हमलोगों का कोई दोष नहीं है. लोगों को चाहिए कि वे प्रशासन के समक्ष अपनी समस्या को रखें. हमलोग मांगें पूरी होने तक हड़ताल पर डटे रहेंगे.

इसे भी पढ़ेंः आंगनबाड़ी बहन सामने बेहोश होकर गिरी तो हेमंत ने कहा- एक भी महिला की मौत हुई तो सरकार को जीने नहीं देंगे

Related Articles

Back to top button