West Bengal

जाधवपुर विश्वविद्यालय के कुलपति ने अपने कर्तव्यों को दरकिनार कर दिया :  राज्यपाल धनखड़

Kolkata :  दिल्ली के जेएनयू विश्वविद्यालय में हुए हिंसक हमले के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समेत अन्य लोगों की प्रतिक्रियाओं पर राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने सवाल खड़ा किया है. उन्होंने करीब एक पखवाड़े पहले जाधवपुर विश्वविद्यालय में अपने साथ हुई रोक-टोक और घेराव की घटना का जिक्र किया है.

और पूछा है कि जो लोग आज जेएनयू पर हंगामा कर रहे हैं, उन्होंने जाधवपुर विश्वविद्यालय की घटना पर चुप्पी क्यों साध रखी थी? मंगलवार को राज्यपाल ने ट्वीट किया है. इसमें उन्होंने लिखा है, शिक्षण संस्थानों में हिंसा और अराजकता की स्थिति चिंताजनक है और इसे किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए.

एक पखवाड़े पहले जाधवपुर विश्वविद्यालय में जो कुछ भी हुआ था, उस पर वे लोग खामोश थे, जो आज जेएनयू घटना पर कड़ी निंदा कर रहे हैं.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ेंः #Chaibasa:75 हजार वेतन पानेवाला दारोगा 10 हजार रुपये घूस लेते पकड़ाया, केस कमजोर करने के लिए मांगी थी घूस

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

कुलपति ने अपने कर्तव्यों को दरकिनार कर दिया

अपने दूसरे ट्वीट में राज्य सरकार पर निष्क्रियता और विश्वविद्यालय प्रबंधन पर अकर्मण्यता का आरोप लगाते हुए राज्यपाल ने कहा कि जाधवपुर की घटना में विश्वविद्यालय के कुलपति ने अपने कर्तव्यों को दरकिनार कर दिया था और राज्य सरकार निष्क्रिय बनी हुई थी.

आखिर जाधवपुर विश्वविद्यालय की उस अराजक स्थिति और जेएनयू के मामले में दोहरा मापदंड क्यों अपनाया जा रहा है? जो लोग ऐसा कर रहे हैं उन्हें पहले अपने घर में सुधार की प्राथमिकता देने की रिति को अपनाना चाहिए. इसमें आत्ममंथन की जरूरत है.

इसे भी पढ़ेंः मनरेगा योजना में आठ माह से 17041.1 लाख रुपया बकाया, भुगतान नहीं कर रही सरकार

विश्वविद्यालय में प्रवेश नहीं करने दिया गया था

उल्लेखनीय है कि गत 24 दिसम्बर को जाधवपुर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह वाले दिन विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति के तौर पर राज्यपाल उसमें शामिल होने के लिए गए थे लेकिन उन्हें छात्रों ने बाहर ही रोक दिया था और विश्वविद्यालय में प्रवेश नहीं करने दिया गया था.

ढाई घंटे तक वह मजबूरन अपनी गाड़ी में बैठे रहे लेकिन उन्हें विश्वविद्यालय में प्रवेश दिलाने के लिए ना तो राज्य प्रशासन और ना ही विश्वविद्यालय प्रबंधन ने कोई पहल की थी. तब उन्होंने राज्य सरकार पर सवाल खड़ा किया था और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को चिट्ठी लिखकर इस अराजक स्थिति को टालने के लिए हस्तक्षेप की अपील की थी.

उन्होंने आरोप लगाया था कि सबकुछ राज्य सरकार के दबाव में किया गया है. अब जबकि जेएनयू में नकाबपोश लोगों ने हमले किए हैं, तब ममता बनर्जी इसका मुखर विरोध कर रही हैं. इस बीच राज्यपाल का यह ट्वीट परोक्ष तौर पर उन्हीं पर हमला माना जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंः NEWSWING EXCLUSIVE: ढुल्लू से रंगदारी मांगने वाले ने किया मानहानि मुकदमा, कहा – मेरी 10 करोड़ की संपत्ति हड़प ली

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button