न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ईरान रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने यूएस ड्रोन को मार गिराया, अमेरिका ने स्वीकार किया

रिवोल्यूशनरी गार्ड के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खुमैनी ने बताया, गुरुवार की सुबह एक अमेरीकी ड्रोन को दक्षिणी ईरान के होर्मगान प्रांत में कोहंबोराक जिले के पास मार गिराया गया है

42

Tehran :   ईरान रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने गुरुवार को एक यूएस ड्रोन को मार गिराया है. अमेरिका ने स्वीकार किया है कि ईरान रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने ड्रोन को मार गिराया गया है.  हालांकि अमरीकी सेना ने कहा है कि उसका ड्रोन अंतरराष्ट्रीय जल के उपर था.  वहीं. ईरान रिवोल्यूशनरी गार्ड्स का आरोप है कि अमरीकी ड्रोन ने ईरान की सीमा का उल्लंघन किया था. इस घटना से ईरान और अमेरिका के बीच जंग के आसार बढ़ गया है.

mi banner add

ईरान के अर्धसैनिक रिवोल्यूशनरी गार्ड के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खुमैनी ने बताया कि गुरुवार की सुबह एक अमरीकी ड्रोन को दक्षिणी ईरान के होर्मगान प्रांत में कोहंबोराक जिले के पास मार गिराया गया है. यह ड्रोन ईरान के हवाई क्षेत्र में प्रवेश करने की कोशिश कर रहा था. कोहंबोराक तेहरान से लगभग 1,200 किलोमीटर (750 मील) दक्षिण-पूर्व में है और स्टॉर्म ऑफ होर्मुज के करीब है. ईरान की  रिवोल्यूशनरी गार्ड्स समाचार एजेंसी ने अर्धसैनिक रिवोल्यूशनरी गार्ड का हवाला देते हुए ड्रोन की पहचान RQ-4 ग्लोबल हॉक के रूप में की.

इसे भी पढ़ेंः  AN-32 विमान हादसा : तलाशी अभियान पूरा, सेना ने  सभी 13 शव बरामद किये

यह एक समुद्री गश्ती और टोही विमान था

रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने ड्रोन की पहचान RQ-4 ग्लोबल हॉक के रूप में की थी, लेकिन अमेरीकी सैन्य अधिकारी ने रॉयटर समाचार एजेंसी को बताया कि ड्रोन एक US नेवी MQ-4C ट्राइटन था.  यह एक समुद्री गश्ती और टोही विमान है जो कि RQ-4B ग्लोबल हॉक पर आधारित है. रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के कमांडर-इन-चीफ मेजर-जनरल होसैन सलामी ने कहा कि ड्रोन के मार गिराने से अमरीका को स्पष्ट संदेश गया है कि ईरान की सीमाएं पार न करें. बता दें कि  इससे पहले अमरीकी सेना ने   इस पर प्रतिक्रिया देते हुए इस घटना से इनकार किया था.

इसे भी पढ़ेंः राहुल गांधी का राफेल राग जारी, राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद कहा, मेरा रुख नहीं बदला, राफेल डील में चोरी हुई

अमेरिका ने 1000 अतिरिक्त सैनिकों को तैनात किया

Related Posts

मध्यस्थता विवाद पर बैकफुट पर अमेरिका, कहा- कश्मीर, भारत-पाकिस्तान के बीच का मसला

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के बाद व्हाइट हाउस ने भी दी सफाई

पिछले  सप्ताह ओमान की खाड़ी में दो तेल टैंकरों पर हमले को लेकर अमेरीकी सेना ने एक वीडियो जारी करते हुए ईरान पर आरोप लगाया था.  जवाब में  ईरान ने अमेरीकी सेना पर आरोप लगाया कि वह ईरान और उसके जल क्षेत्र की जासूसी कर रहा है. ईरान ने यह भी धमकी दी थी कि अगर अमेरीकी ड्रोन इस इलाके में दिखाई दिये  तो वह उन्हें मार गिरायेगा.  बीते सोमवार को अमेरीकी रक्षा विभाग ने कहा कि वह ईरानी बलों द्वारा शत्रुतापूर्ण व्यवहार के जवाब में इस क्षेत्र में 1,000 अतिरिक्त सैनिकों को तैनात कर रहा है.

अमेरिका ने आरोप लगाया था कि ईरान ने ओमान की खाड़ी में तेल टैंकरों पर हमला किया है. हालांकि तेहरान ने इस हमले से साफ इनकार किया था. अब इन सबके बीच ईरानी सेना रिवोल्यूशनरी गार्ड्स की ओर से अमरीकी ड्रोन RQ-4 ग्लोबल हॉक मार गिराने की घटना को अंजाम दिया गया है.

एक साल पहले ईरान के साथ परमाणु समझौते से अमेरिका ने खुद को अलग कर लिया था, जिसके बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है.  कुछ समय पहले सऊदी अरब के तेल प्रतिष्ठानों पर हुए हमले को लेकर अमरीका ने यमन में ईरान समर्थित हौती विद्रोहियों को जिम्मेदार बताया था. सऊदी ने बदला लेने के लिए हौती विद्रोहियों को निशाना बनाते हुए यमन पर मिसाइल हमला किया.

इसके बाद से गल्फ में तनाव की स्थिति बन गयी है.  सऊदी अरब ने भी तेल प्रतिष्ठानों पर हमले के लिए ईरान को दोषी माना है. ईरान और अमरीका के बीच बढ़ते संघर्ष से तेहरान की इस्लामिक रिवोल्यूशन के 40 साल बाद एक बार फिर से एक नये संघर्ष की आशंका बढ़ गयी है.

इसे भी पढ़ेंः गुजरात: दलित सरपंच के पति की पीट-पीटकर हत्या

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: