Khas-KhabarNationalOFFBEATOpinion

इंफोसिस के संस्थापक नारायणमूर्ति बोले- भारत की वास्तविकता भ्रष्टाचार और गंदी सड़कें, युवा इसे बदलें

Vijaynagram: दिग्गज आईटी कंपनी इंफोसिस के संस्थापक एनआर नारायणमूर्ति ने कहा है कि भारत की वास्तविकता है भ्रष्टाचार, गंदी सड़कें, प्रदूषण और कई बार बिजली की अनुपस्थिति है जबकि, सिंगापुर की वास्तविकता है साफ सड़कें, प्रदूषण मुक्त वातावरण और बहुत सारी ऊर्जा है. विजयनगरम जिले के राजम में जीएमआर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (जीएमआरआईटी) के रजत जयंती समारोह में छात्रों को संबोधित करते हुए उन्होंने छात्रों से कहा, “उस नई वास्तविकता को बनाने की ज़िम्मेदारी आपकी है. GMRIT की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में यह बात कही गई है. छात्रों को संबोधित करते हुए नारायण मूर्ति ने कहा कि हर कमी को बदलाव के अवसर के रूप में  देखना चाहिए और ‘खुद को एक नेता के रूप में कल्पना करते हुए उस कमी को दूर करने की कोशिश करनी चाहिए, न कि किसी की प्रतीक्षा करनी चाहिए.
इसे भी पढ़ें: Winter Session : रबिता पहाड़िया हत्याकांड पर सदन में जोरदार हंगामा, भाजपा विधायक रणधीर सिंह को किया मार्शल आउट

इंफोसिस संस्थापक बोले- युवा बदलाव लाने की मानसिकता विकसित करें

नारायण मूर्ति ने आगे कहा कि युवाओं को समाज में बदलाव लाने की मानसिकता विकसित करनी चाहिए, जनता, समाज और राष्ट्र के हित को अपने व्यक्तिगत हित से ऊपर रखना सीखना चाहिए. जीएमआर ग्रुप के अध्यक्ष जीएम राव का उदाहरण देते हुए उन्होंने छात्रों से उनसे प्रेरणा लेने और जब भी संभव हो एक उद्यमी बनने और अधिक रोजगार सृजित करने का आग्रह किया. उन्होने कहा, “अधिक नौकरियों का सृजन गरीबी को दूर करने और कम विशेषाधिकार प्राप्त लोगों की मदद करने का एकमात्र समाधान है.” इस दौरान जीएमआर समूह के अध्यक्ष जीएम राव ने कहा कि नारायण मूर्ति महत्वाकांक्षी युवाओं के लिए एक प्रेरणा हैं. उन्होने नारायण मूर्ति से कहा, “आप मेरी टीम, सभी छात्रों और फैकल्टी के लिए एक प्रेरणा हैं.” GMRIT की स्थापना 1997 में हुई थी. GMR ग्रुप की कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी आर्म – GMR वरलक्ष्मी फाउंडेशन (GMRVF) की ओर से संचालित संस्था अपनी स्थापना के 25 वें वर्ष का जश्न मना रही है.

Related Articles

Back to top button