न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
Browsing Category

Opinion

मुस्लिम समाज- गुजरात में कितना आसान है मुसलमानों का घर खरीदना

MZ KHAN2017 में बड़ौदा के निलीपुरा गांव की नीलोफर पटेल चुनी सरपंच चनी गयी. ये गुजरात के लिए बिल्कुल अनोखी घटना है. क्योंकि ये हिन्दू आबादीवाला गांव है और मुस्लिम आबादी मात्र 120 है. गुजरात जैसे  राज्य में  जो लाख कोशिशों के बावजूद अभी भी…

बेरोजगारी के आंकड़ों का सवाल केंद्र सरकार के लिए परेशानी का सबब

Faisal Anuragरोजगार के सवाल पर केंद्र सरकार के लिए मुरली मनोहर जोशी की अध्यक्षता वाली संसदीय समिति   मुसीबत कर बायस बन गयी है. संसदीय समिति ने रोजगार के सवाल पर रिपोर्ट को अंतिम रूप दे दिया है. इस रिपोर्ट को संसद में पेश किया जाना है.…

जूतों की तरह पार्टी बदलने के खिलाफ थे महेंद्र सिंह

लाल लाल लाल लाल सलाम FAISAL ANURAG/ PRAVIN KUMARबगोदर की धरती पर उमड़नेवाले हजारों मेहनतकशों का हुजूम की जुबां पर अपने जन नेता की शहादत को याद करने का आज दिन है. गगनभेदी नारे के साथ जन नेता महेंद्र सिंह की याद में हजारों लोग बगोदर…

आधुनिक दौर का इंकलाबी शायर- कैफी आजमी

MZ KHAN  आवारा सजदे का वो शायर जिसने ज़ेहन व दिमाग़ को मुतासिर किया, जिसने सोचने-समझने पर मजबूर किया, जिसने बन्दिशों में भी रौशनख्याली के चिराग़ जलाये. दूसरे बनवास की वो नज़्में, जिसने शायर की पीड़ा को अंधेरे में रौशनी की एक हल्की सी झलक दिखायी…

सड़क दुर्घटनाओं के लिए मुख्यतः सरकारी नीतियां ही जिम्मेदार

Rajesh Dasसड़क सुरक्षा के लिए जागरूकता जरूरी है, परंतु ये उतनी ही कारगर हो सकती है, जितना एक जागे हुए व्यक्ति को जगाना और एक शिक्षित व्यक्ति को जागरूक करना. सरकार अगर सड़क दुर्घटना के शिकार लोगों के घरों के अंदर झांककर उनकी सिसकियां भर सुन…

राकेश अस्थाना से जुड़े मामले में सीवीसी की भूमिका ही संदिग्ध

Girish Malviyaशक की सुई अब सीवीसी केवी चौधरी की तरफ ही घूम गयी है. आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना से जुड़े मामले में सीवीसी की भूमिका ही संदिग्ध हो चली है, सीबीआई के अपदस्थ डायरेक्टर आलोक कुमार वर्मा बता रहे हैं कि सीवीसी केवी चौधरी 6 अक्टूबर…

बीजेपी फिर जातियों का व्यापक गठबंधन बनाने के लिए है प्रयासरत

Faisal Anuragजति वह हकीकत है, जो भारत के हर चुनाव में अहम हो जाती है. भारतीय जनता पार्टी एक बार फिर जहां जातियों का व्यापक गठबंधन बनाने के लिए प्रयासरत है, वहीं विपक्षी दलों के गठबंधनों ने कई चुनावी समीकरण को प्रभावित किया है. 1989 के बाद…

भाजपा के राष्ट्रवाद और कांग्रेस के जातिवाद से अलग हैं गुजराती मुसलमान

MZ KHAN 2014 के नवम्बर में ट्रेड यूनियन की कांफ्रेंस में 10 दिनों के लिए मेरा पहली बार गुजरात जाना हुआ था. कांफ्रेंस द्वारिका जैसे धार्मिक स्थल पर रखी गयी  थी जो चारों ओर समुंदर से घिरा हुआ है. अतिथियों को धर्मशालाओं में ठहराया गया था.…

आलोक वर्मा को लेकर जल्दबाजी में है सरकार

FAISAL ANURAGमात्र पचपन घंटों में ही आलोक  वर्मा को सीबीआई से हटा दिया गया. यह एक ऐसी घटना है जो बताती है कि सरकार बैकफुट पर है और मामूली तकनीकी आधार को मानक बनाकर अपनी बदहवासी को जता रही है. एक तो 77 दिनों तक सुप्रीम कोर्ट में आलोक वर्मा…

सवर्ण आरक्षण से बीजेपी एक बार फिर दिखा रही सपना

Faisal Anurag भारत की राजनीति 1990 की तरह एक बार फिर आरक्षण के सवाल पर केंद्रित हो गयी है और लोकसभा चुनाव का एक प्रमुख मुद्दा बन गया है. यह संदेश साफ हो जाने के बाद की तीन राज्यों के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की नारजगी से उभरे हालात को…