Crime NewsJharkhandJharkhand StoryKhas-KhabarLead NewsRanchiTOP SLIDERTop Story

झारखंड में भी खपता है तस्करी के सोने चांदी,पकड़े गये तस्कर के निशानदेही पर कार्रवाई

Ranchi: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बीते बुधवार को म्यांमार और बांग्लादेश से अवैध सोना लाने वाले रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए तीन किलो 800 ग्राम सोना, 12 किलो सोने के आभूषण, 671 किलो चांदी और एक करोड़ 41 लाख रुपये नकद जब्त किए हैं. तस्कर म्यांमार से सोना-चांदी पहले बांग्लादेश उसके बाद कलकत्ता लाता था. यहां से माल को झारखंड और छत्तीसगढ़ के अलग-अलग शहरों में खपाने के लिए भेजता था. एजेंसी को जांच में इस बात की जानकारी मिली कि छत्तीसगढ़ और आसपास के राज्यों में बड़े पैमाने पर तस्करों का एक गिरोह सक्रिय है.

इसे भी पढ़े: झारखंड में कोर्ट फी संशोधन विधेयक पर हाईकोर्ट ने सरकार से मांगा मंतव्य,17 को अगली सुनवाई

जनवरी महीने में गिरफ्तारी के बाद हुआ था खुलासा

बता दे कि जनवरी 2022 में राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआइ) की इंदौर जोनल यूनिट ने 3.33 किलोग्राम सोने के साथ एक तस्कर को गिरफ्तार किया था. तस्कर कोलकाता से सोना लेकर नागपुर की तरफ जा रहा था. जांच में पता चला कि तस्करी का यह सिंडिकेट भारी मात्रा में विदेशी मूल के सोने की तस्करी में संलिप्त है जिसके लिए हवाला चैनलों के माध्यम से भुगतान किया गया है. बांग्लादेश की ओर से सीमा पार करवाकर विदेशी सोने को भारत में लाया जाता है. सोने को ज्वैलर्स के जरिए देश के बड़े शहरों में भेजा जाता है और गहनों के रूप में खपा दिया जाता है. ईडी के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार पिछले काफी समय से तस्करी का सोना खरीदने, मनीलॉन्ड्रिंग करने और पॉलिटिकल फंडिग करने की जानकारी मिल रही थी. वहीं कारोबारियों द्वारा हवाला के जरिए ब्याज पर रकम चलाने के इनपुट मिले थे. इसकी पुख्ता जानकारी मिलने के बाद कार्रवाई की गई है. तस्करी के जरिए खपाए जाने वाले सोना, हीरा और प्लेटिनियम से मिली राशि को मनीलॉन्ड्रिंग के लिए खपाया जाता था. इसका हिस्सा राजनीतिक लोगों तक पहुंचाया जा रहा था.

महानगरों से लेकर विदेशों तक आपूर्ति
देशभर के महानगरों में सोना-चांदी की मूर्तियां और अन्य सामानों के आपूर्ति से संबंधित दस्तावेज ईडी के हाथ लगे है. बताया जाता है कि तस्करी कर कोलकाता और विशाखापट्नम से सोना मंगवाने के बाद यहां मूर्तियों की ढलाई की जाती थी. तस्करी करने वालों गिरोह के लोगों द्वारा छत्तीसगढ़ में सिंडीकेट चलाने वाले करीब 30 कारोबारियों द्वारा सोना-चांदी और प्लेटिनम खरीदी करने के इनपुट मिले हैं. उन्हे कीमती धातु खरीदने के बाद मनीलॉन्ड्रिंग कर रकम एकत्रित की जाती थी. साथ ही हवाला के जरिए उन्हें रकम का भुगतान किया जाता था. तस्करी कर लाए गए सोना-चांदी और प्लेटिनम को छत्तीसगढ़ के साथ ही झारखंड, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, ओडिशा और तेंलगाना में खपाए जाने के इनपुट मिले हैं.

Sanjeevani

16.5 करोड़ का 42 किलो सोना पकड़ा गया था
तीन वर्ष पूर्व डायरेक्टर ऑफ रेवेन्यू इंटेलीजेंस (डीआरआई) ने रायपुर, कोलकाता और मुंबई में तस्करी कर लाया गया 16.5 करोड़ का 42 किलो सोना और गहने जब्त किये था. पकड़ा गया सोना बांग्लादेश से तस्करी कर लाया गया था. डीआरआई टीम ने सोने की तस्करी करने वाले सिंडिकेट का भंडाफोड़ करते हुए 10 लोगों को गिरफ्तार किया था.

Related Articles

Back to top button