HazaribaghTop Story

हजारीबागः देर रात अपहरणकर्ता के चंगुल से मुक्त हुआ JMM के केंद्रीय सचिव का पुत्र

Hazaribagh: जिले के उरीमारी से झामुमो नेता संजीव बेदिया का 18 वर्षीय पुत्र पीयूष देर रात अपहरणकर्ता के चंगुल से मुक्त हुआ. मिली जानकारी के अनुसार, पीयूष अपहरणकर्ता के चंगुल से भागकर देर रात अपने घर पहुंचा. पीयूष को अपहरणकर्ता ने परगढा के जंगल में रखा था.

इसी दौरान मौका देखकर वह फरार हो गया. अपराधियों ने काफी देर तक पीछा भी किया लेकिन पीयूष भागने में सफल रहा. बताया जा रहा है कि दो बाइक पर सवार होकर चार अपराधियों ने पीयूष को पता पूछने के लिए पास बुलाया. इसी दौरान कुछ सूंघा कर बेहोश कर दिया और बाइक में बैठा कर ले गए थे.

इसे भी पढ़ेंःजम्मू-कश्मीर के शोपियां में चार आतंकी ढेर, एक हफ्ते में 15 दहशतगर्दों का एनकाउंटर

Sanjeevani

अपहरण के बाद था हड़कंप

झामुमो के केंद्रीय सचिव व जिला परिषद सदस्य संजीव बेदिया का 18 वर्षीय पुत्र पीयूष रविवार को दोपहर से लापता हो गया था. उसके अपहरण होने की आशंका से पूरे इलाके में खलबली मच गयी थी. पीयूष रांची स्थित एक कॉलेज में बीए पार्ट वन का छात्र है. लापता होने की सूचना मिलने के बाद हजारीबाग के डीआइजी अमोल वेणुकांत होमकर और हजारीबाग एसपी एस कार्तिक सहित भारी संख्या में पुलिस बल संजीव बेदिया के उरीमारी जरजरा स्थित सीसीएल क्वॉर्टर पहुंचे और छानबीन में जुट गये थे. पुलिस अधिकारियों ने संजीव बेदिया, उनकी पत्नी व बेटे के दोस्तों से भी पूछताछ की थी.

इसे भी पढ़ेंःGurugram: मेदांता हॉस्पिटल के मालिक डॉ नरेश त्रेहान पर भ्रष्टाचार व मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज

रविवार की दोपहर से गायब था झामुमो नेता का पुत्र

झामुमो नेता संजीव बेदिया की पत्नी ने पुलिस अधिकारियों को बताया था कि दोपहर एक बजे उनका 18 वर्षीय पुत्र पीयूष क्वॉर्टर के बाहर बैठा था. दोपहर करीब दो बजे खाने के लिए पूछने बाहर आयी तो उसे गायब पाया. इसके बाद से उसका कोई पता नहीं चल पाया था. इसके बाद उन्होंने तत्काल इसकी सूचना अपने पति संजीव बेदिया को मोबाइल पर दी, जो उस वक्त रांची में थे.

सूचना पाकर वे भी सीधे अपने आवास पहुंचे और तत्काल इसकी सूचना पुलिस अधिकारियों को दी थी. सूचना के बाद पुलिस हरकत में आ गयी.पीयूष का मोबाइल बंद होने के कारण पुलिस को उसका लोकेशन खोजने में परेशानी आ रही थी. लेकिन देर रात वो खुद अपराधियों की कैद से भाग निकला.

इसे भी पढ़ेंःलॉकडाउन में डीवीसी के चार प्रोजेक्टों में जमा हुआ कोयले का व्यापक स्टॉक

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button