BiharNational

हार्दिक को जिग्नेश, राजद समेत कई पार्टियों का मिला समर्थन

Ahmedabad: शनिवार 25 अगस्त से पटेल समुदाय के लिए आरक्षण की मांग को लेकर बेमियादी भूख हड़ताल पर बैठे पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को रविवार को तृणमूल कांग्रेस और राजद जैसी पार्टियों का समर्थन मिला. पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के प्रमुख पटेल पाटीदार समुदाय के लिए सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण के अलावा, राज्य के किसानों के लिए कर्ज माफी की भी मांग कर रहे हैं. इस उपवास आंदोलन के पहले दिन ही निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी  ने हार्दिक को समर्थन दिया था. तथा उपवास स्थल पर जा कर हार्दिक से मुलाकात भी की थी. आंदोलन को सम्बोधित करते हुए मेवाणी ने कहा कि संघर्ष अधिकारों के लिए अंतिम दम तक संघर्ष जारी रहेगा.

इसे भी पढ़ें- भाजपा के अजय मारू ने किया सीएनटी एक्ट का उल्लंघन? जमीन ली प्रेस खोलने के लिए, बना दिया मॉल

Catalyst IAS
ram janam hospital

जीतन राम मांझी ने की मुलाकात

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

पूर्व रेल मंत्री और तृणमूल कांग्रेस के नेता दिनेश त्रिवेदी और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के प्रतिनिधियों और बिहार के हिन्दुस्तान अवाम मोर्चे के नेता जीतन राम मांझी ने रविवार को पटेल के आवास पर उनसे मुलाकात की और अपना समर्थन दिया. अपने आवास पर ही पाटीदार नेता भूख हड़ताल पर हैं. गुजरात में कांग्रेस पहले ही पटेल की मांगों का समर्थन कर चुकी है .

इसे भी पढ़ें- ‘शौचालय’ से आ रही लाखों के घोटाले की बदबू

घर पर ही अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को अनिश्चितकाल भूख हड़ताल धरना के लिए अहमदाबाद पार्क में जगह न मिलने पर उन्होंने शनिवार 25 अगस्त से घर पर ही आंदोलन शुरू कर दिया है. हार्दिक के अनशन आंदोलन के कारण पूरे जिले में धारा 144 लगा दी गई है. आंदोलन के समर्थन में जा रहे लोगों को प्रशासन ने हिरासत में लिया है. जिसके कारण क्षेत्र का माहौल बिगड़ता जा रहा है. हार्दिक पटेल ने कहा कि प्रशासन के अनुमती देने तक वह अपने घर पर ही अनशन पर बैठेंगे.

इसे भी पढ़ें- सुषमा स्वराज ने कहा था इजरायल दौरे से रणधीर सिंह का नाम हटा किसानों को भेज दीजिए : डीएन चौधरी

हार्दिक पटेल ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि उपवास आंदोलन को रोकने के लिए अहमदाबाद में धारा-१४४ लागू हैं लेकिन कल अहमदाबाद में भाजपा ने बिना इजाज़त रेली निकालकर क़ानून व्यवस्था की धजिया उड़ाईं हैं।देखते है पुलिस क्या करती हैं. क़ानून सिर्फ़ आंदोलनकारी के लिए है, भाजपा के लिए नहीं, अब भी चुप है कुछ दलाल, चलो फिर मेरा भारत महान.

इसे भी पढ़ें- IAS महकमा भी विवादों से नहीं अछूता, ब्यूरोक्रेसी की सरकार से ठनी

हार्दिक को राखी बांधने के लिए महिलाओं की लम्बी कतार

रविवार, 25 अगस्त रक्षा बंधन के मौके पर हार्दिक को राखी बांधने के लिए बड़ी संख्या में महिलाएं उनके आवास पर मौजुद थी. हार्दिक ने अपने ट्विटर पर एक तस्वीर साझा करते हुए लिखा कि किसानों की क़र्ज़ा माफ़ी एवं आरक्षण को लेकर चल रहे उपवास आंदोलन के दूसरे दिन यानी की रक्षाबंधन के दिन मेरी छोटी बहन ने राखी बाँधकर मेरी लड़ाई में विजय होने का विश्वास जताया। जो व्यक्ति आत्मरक्षा में समर्थ है, वही दूसरों की रक्षा कर सकेगा!! रक्षाबंधन पर्व की सभी देशवासियों को बधाई.

Related Articles

Back to top button