न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बाढ़ से बेहाल बिहारः 33 लोगों की मौत, करीब 27 लाख आबादी प्रभावित

912

Patna: इन दिनों बिहार बाड़ का दंश झेल रहा है. राज्य के 12 जिलों में आयी बाढ़ के कारण अब तक 33 लोगों की मौत हो चुकी है. और 26 लाख 79 हजार 936 लोग प्रभावित हुए है.

27 लाख की आबादी प्रभावित

आपदा प्रबंधन विभाग से मंगलवार को प्राप्त जानकारी के मुताबिक बिहार के 12 जिलों शिवहर, सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, दरभंगा, सहरसा, सुपौल, किशनगंज, अररिया, पूर्णिया एवं कटिहार में अब तक 33 लोगों की मौत होने के साथ 26 लाख 79 हजार 936 लोग प्रभावित हुए है.

Sport House

बिहार में बाढ़ के कारण मरने वाले लोगों में सीतामढी के 11, अररिया के नौ, शिवहर के सात, किशनगंज के चार और सुपौल दो लोग शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंःकुलभूषण जाधव मामले में आज इंटरनेशनल कोर्ट सुनाएगा फैसला

बाढ़ प्रभावित 12 जिलों में कुल 185 राहत शिविर चलाए जा रहे हैं, जहां 1,12,653 लोग शरण लिए हुए हैं. उनके भोजन की व्यवस्था के लिए 812 सामुदायिक रसोई चलाई जा रही हैं.

Mayfair 2-1-2020

बाढ़ प्रभावित इलाके में राहत एवं बचाव कार्य के लिये एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की कुल 26 टीमों और 796 मानव बल को लगाया गया है तथा 125 मोटरबोट का इस्तेमाल किया जा रहा है.

सीएम ने किया हवाई सर्वेक्षण

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को पटना से बाल्मीकिनगर तक गंडक नदी के संवेदनशील तटबंधों का हवाई सर्वेक्षण किया.

हवाई सर्वेक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री ने विशेषकर गोपालगंज के निकट रूपनछाप एवं समहरा धार के निकट तटबंधों की विशेष निगरानी और आवश्यकतानुसार उनके सुदृढ़ीकरण का निर्देश दिया.

मुख्यमंत्री ने साथ ही बगहा शहर में नदी के किनारे रिवेटमेंट का भी हवाई सर्वेक्षण किया और जल संसाधन विभाग के अपर मुख्य सचिव निर्देश को उसके सुदृढ़ीकरण का दिया.

उन्होंने इसके बाद पश्चिम चम्पारण जिले के चनपटिया, नरकटियागंज तथा पूर्वी चम्पारण जिला के रमगढ़वा, सुगौली एवं बंजरिया इलाकों का भी हवाई सर्वेक्षण किया.

इसे भी पढ़ेंः25 लाख के इनामी माओवादी लीडर की पत्नी करती है मजदूरी, बच्चों की स्कूल फीस नहीं भर पा रही

इन इलाकों में नेपाल की तराई से निकलने वाली मसान, तिलावे, तिमर एवं मुख्यतः सिकरहना नदियों के पानी के कारण बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गयी है.

सर्वेक्षण के बाद समीक्षा

हवाई सर्वेक्षण से लौटने के बाद मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव, जल संसाधन विभाग के अपर मुख्य सचिव, आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव के साथ पश्चिम चम्पारण एवं पूर्वी चम्पारण में बाढ़ की स्थिति पर समीक्षा की.

मुख्यमंत्री ने आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव को निर्देश दिया कि वह बुधवार को पश्चिम चम्पारण एवं पूर्वी चम्पारण के जिलाधिकारियों के साथ हवाई सर्वेक्षण करें, ताकि जिलाधिकारी अपने जिले में बाढ़ की स्थिति से पूरी तरह अवगत हो सकें.

उन्होंने अविलम्ब राहत कार्य चलाये जाने का निर्देश दिया. साथ ही बाढ़ पीड़ितों को आवश्यकतानुसार निर्धारित सहायता राशि उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया.

हवाई सर्वेक्षण के दौरान मुख्यमंत्री के साथ मुख्य सचिव दीपक कुमार एवं जल संसाधन विभाग के अपर मुख्य सचिव अरूण कुमार सिंह भी मौजूद थे.

केंद्रीय जल आयोग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बिहार की कई नदियां गंडक, बूढ़ी गंडक, बागमती, अधवारा समूह, कमला बलान, कोसी, महानंदा और परमान नदी विभिन्न स्थानों पर मंगलवार सुबह खतरे के निशान से ऊपर बह रही थी .

वहीं मौसम विभाग के अनुसार, बिहार की सभी नदियों के जलग्रहण क्षेत्रों में बुधवार की सुबह तक हल्की बारिश की संभावना जतायी गयी है.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड पुलिस के अफसर अक्षम हैं या चुप रहने की कीमत वसूल रहे थे टीपीसी से

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like