JharkhandRanchi

सीएए और एनआरसी संविधान के विपरीत, दमन का रास्ता बंद कर इन कानूनों को वापस लें पीएम: भुनेश्वर

Ranchi: सीएए, एनआरसी और अब एनपीआर जो केंद्र सरकार लागू कर रही है, वो कहीं से भी संविधान के अनुसार नहीं है. ये कानून बिलकुल संविधान के विपरीत हैं. सरकार को समझना होगा कि देश की जनता को रोजगार शिक्षा जैसी चीजें चाहिए न कि नागरिकता. उक्त बातें भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव भुनेश्वर प्रसाद मेहता ने कहीं. वे शुक्रवार को प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे.

इसे भी पढ़ें – हेमंत के शपथ ग्रहण समारोह में प्रणब मुखर्जी, राहुल गांधी समेत कई दिग्गज करेंगे शिरकत

उन्होंने कहा कि इन कानूनों के कारण पूरे देश में आंदोलन हो रहा है. जिन राज्यों में बीजेपी की सरकार है वहां भी इन कानूनों को जबरन लागू किया गया. हालांकि इन राज्यों में आंदोलन काफी तेज है लेकिन सरकार इन आंदोलनों को दमनात्मक कार्रवाई कर दबा रही है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

स्पष्ट है कि बीजेपी सरकार मुख्य मुद्दों से जनता का ध्यान हटाने के लिए ऐसा कर रही है. जो गलत है. भुनेश्वर मेहता ने कहा कि बनारस में भाकपा और किसान सभा के नेता को जेल भेजा गया और जब जमानत मिली, तो दुबारा जेल भेज गया. बेंगलुरू में सीपीआइ कार्यालय में आग लगा दी गयी. पार्टी प्रधानमंत्री से मांग करती है कि वे दमन का रास्ता बंद करें और सीएए और एनआरसी को वापस लें.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें – पलामू : आलोक चौरसिया और के एन त्रिपाठी के बीच बढ़ा विवाद,आपस में भिड़ रहे हैं कार्यकर्ता

जनविरोधी सरकार को राज्य में मिली मात, धर्मनिरपेक्ष पार्टियों को बहुमत

उन्होंने कहा कि वर्तमान में देश की जो स्थिति है ऐसी स्थिति में झारखंड की जनता ने काफी अच्छा निर्णय लिया. जनता ने जनविरोधी सरकार को उखाड़ फेंका और धर्मनिरपेक्ष पार्टियों को बहुमत दिया. हालांकि सीपीआइ के चुनाव में प्रदर्शन पर उन्होंने चिंता व्यक्त की.

उन्होंने गठबंधन पार्टियों से उम्मीद करते हुए कहा कि जिन वायदों के साथ पार्टी ने चुनाव जीता है उसे पूरा करें और जनता की उम्मीद पर खरा उतरें. जिसमें विस्थापितों के अधिकार की रक्षा, किसानों की कर्ज माफी, भूमि अधिग्रहण कानून, 2013 को लागू करने एवं उपजाऊ जमीन के अधिग्रहण पर रोक, सीएनटी एक्ट की रक्षा, पलायन पर रोक, झारखंड सरकार के विभिन्न विभागों में खाली जगहों को समय सीमा पर भरने का काम करें.

उन्होंने कहा कि नयी सरकार राज्य में सांप्रदायिक सौहार्द स्थापित करें. इस दौरान पार्टी कार्यालय में स्थापना दिवस भी मनाया गया.

इसे भी पढ़ें – #Garhwa : सरकारी आवासीय विद्यालय की छात्रा के मां बनने के मामले में एएनएम के बाद विद्यालय का अध्यक्ष गिरफ्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button