Lead NewsNationalTOP SLIDERTRENDING

BIG NEWS : NCPCR का निर्देश,  दारुल उलूम देवबंद की ओर से जारी हो रहे गैरकानूनी फतवों की हो जांच, UP सरकार तुरंत करे कार्रवाई

योगी सरकार को 10 दिनों के भीतर कार्रवाई रिपोर्ट देने का निर्देश दिया

New Delhi : राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने दारुल उलूम देवबंद की ओर से जारी फतवों को लेकर सख्त रुख अपनाया है. आयोग ने यूपी सरकार को निर्देश दिया है कि वह कथित तौर पर गैरकानूनी और भ्रम फैलाने वाले फतवों को लेकर दारुल उलूम देवबंद की वेबसाइट की जांच करे.

क्या है मामला

बच्चों के अधिकारों से इस शीर्ष संस्थान ने शनिवार को यूपी के मुख्य सचिव से कहा कि जब तक इस तरह की सामग्री हटा नहीं ली जाती, तब तक इसका एक्सेस ब्लॉक कर दिया जाए, ताकि यह आम लोगों की पहुंच से दूर हो जाए. एनसीपीसीआर ने कहा कि वह यह कार्रवाई उन शिकायतों के मिलने के बाद कर रही है, जिनमें आरोप लगाया गया है कि दारुल उलूम की वेबसाइट में ऐसे कई फतवे जारी किए गए हैं, जो कि देश के कानूनों के सीधे तौर पर खिलाफ हैं.

इसे भी पढ़ें :अंतरराष्ट्रीय कराटे प्रतियोगिता में भारतीय टीम के खाते में झारखंड के खिलाड़ियों ने जोड़े 15 पदक

यूपी के मुख्य सचिव को लिखी चिट्ठी

आयोग ने यूपी के मुख्य सचिव को लिखी चिट्ठी में कहा कि मामले में बाल अधिकार संरक्षण आयोग अधिनियम की धारा 13 (1) (जे) के तहत शिकायतों का संज्ञान लिया गया. वेबसाइट की जांच करने के बाद पाया गया कि लोगों द्वारा उठाए गए मसलों पर दिए गए स्पष्टीकरण और जवाब देश के कानूनों और अधिनियमों के अनुरूप नहीं हैं.

एनसीपीसीआर की तरफ से कहा गया है कि इस तरह के बयान बच्चों के अधिकारों के विपरीत हैं. वेबसाइट तक खुली पहुंच उनके लिए हानिकारक हैं. इसलिए, अनुरोध है कि इस संगठन की वेबसाइट की पूरी तरह से जांच की जाए, ऐसी किसी भी सामग्री को तुरंत हटा दिया जाए.

इसे भी पढ़ें :कोरोना का साइडइफेक्ट: पढ़ रहे लेकिन लेसन नहीं रहता याद, पढ़ाई भी अब नहीं करना चाहते बच्चे

वेबसाइट के एक्सेस को प्रतिबंधित किया जाये

चिट्ठी में मांग की गई है कि जब तक गैरकानूनी बयानों के प्रसार और हिंसा, दुर्व्यवहार, उपेक्षा, उत्पीड़न, बच्चों के खिलाफ भेदभाव की घटनाओं को रोकने के लिए ऐसी सामग्री को हटाया नहीं जाता है तब तक वेबसाइट के एक्सेस को प्रतिबंधित किया जा सकता है.

आयोग ने राज्य सरकार को भारत के संविधान, भारतीय दंड संहिता (आईपीसी), किशोर न्याय अधिनियम-2015 और शिक्षा के अधिकार अधिनियम-2009 के प्रावधानों का कथित रूप से उल्लंघन करने के लिए संस्थान के खिलाफ जरूरी कार्रवाई करने के लिये भी कहा है. साथ ही 10 दिनों के भीतर कार्रवाई रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : स्कूली पाठ्यक्रम बदलने की तैयारी तेज, 10 प्लस टू की जगह फाइव प्लस थ्री प्लस थ्री प्लस फोर का पैटर्न होगा लागू

Advt

Related Articles

Back to top button