BokaroJharkhand

बेरमो : फंड भुगतान नहीं, प्रसाद कंपनी ने 3 माह से बंद कर रखा है पावर प्लांट का काम, 6 महीने से नहीं दे पा रही वेतन

Bermo :  बेरमो अनुमंडल के बोकारो थर्मल स्थित डीवीसी के 500 मेगावाट के पावर प्लांट में सिविल का काम करने वाली प्रसाद एंड कंपनी प्रोजेक्ट वर्क्स लिमिटेड का बकाया लगभग दो करोड़ रुपये भुगतान नहीं करने के कारण कंपनी का काम विगत जुलाई माह से पूरी तरह से बंद है.

Jharkhand Rai

फंड के अभाव में कंपनी अपने कामगारों व स्टाफ का अप्रैल माह से वेतन का भी भुगतान नहीं कर पायी है. इस संबंध में प्रसाद कंपनी के उपाध्यक्ष पीएन बनर्जी ने भेल कंपनी के कोलकाता स्थित ईडी को पत्र लिखकर कंपनी का बकाया भुगतान करने की मांग की है.

इसे भी पढ़ें : #NewTrafficRule पर खुल कर बोल रहे हैं- पढ़ें लोग क्या कह रहे हैं (हर घंटे जानें नये लोगों के विचार)

90 फीसदी कार्य पूरा

लिखे गये पत्र की प्रतिलिपि भेल के स्थानीय कंस्ट्रक्शन मैनेजर एस मंडल को भी दी गयी है. पत्र में कंपनी के उपाध्यक्ष ने लिखा है कि बोकारो थर्मल के 500 मेगावाट के पावर प्लांट में सिविल का 90 फीसदी कार्य कंपनी के द्वारा पूरा कर लिया गया है जिसके बावजूद कंपनी की बकाया राशि का भुगतान भेल कंपनी के द्वारा नहीं किया जा रहा है. भुगतान नहीं करने के कारण कंपनी शेष कार्य को पूरा नहीं कर पा रही है.

Samford

लिखा कि विगत 17 जुलाई को कंपनी की वार्ता कोलकाता में भेल प्रबंधक के साथ हुई थी. वार्ता में प्रसाद कंपनी ने तत्काल शेष काम को पूरा करने के लिए भेल से 31 जुलाई तक 50 लाख रुपये की मांग की थी.

50 की जगह 30 लाख 31 जुलाई तक देने की बात थी

भेल कंपनी के प्रबंधक ने 50 लाख के स्थान पर 30 लाख रुपये 31 जुलाई तक भुगतान करने की बात कही थी. परंतु सितंबर माह के एक सप्ताह गुजर जाने के बाद भी प्रसाद कंपनी को भेल कंपनी ने राशि का भुगतान नहीं किया गया है जिसके कारण कंपनी कार्य आरंभ नहीं कर पा रही है.

राशि के अभाव में प्रसाद कंपनी ने जुलाई माह से पावर प्लांट में निर्माण कार्य को बंद कर दिया है. कंपनी में काम करने वाले 40 कामगारों का वेतन भुगतान भी राशि के अभाव में विगत अप्रैल माह से नहीं किया जा सका है.

वेतन का भुगतान नहीं हो पाने के कारण कंपनी के कामगारों के समक्ष आर्थिक संकट उत्पन्न हो गया है.

इसे भी पढ़ें : #NewTrafficRule :  ड्राइविंग लाइसेंस के डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन व स्क्रूटनी के लिए घंटों लाइन में लगना पड़ रहा है

50 लाख के भुगतान की मांग

भेल कंपनी द्वारा प्रसाद कंपनी को भुगतान नहीं करने की स्थिति को देखते हुए प्रसाद कंपनी के उपाध्यक्ष पीएन बनर्जी ने विगत 27 अगस्त को डीवीसी के स्थानीय प्रोजेक्ट हेड कमलेश कुमार को पत्र लिखकर बकाया काम को पूरा करने के एवज में भेल कंपनी से 50 लाख रुपया भुगतान करवाने की मांग की है.

प्रोजेक्ट हेड को दिये गये पत्र की प्रतिलिपि भेल के स्थानीय कंस्ट्रक्शन मैनेजर एस मंडल, डीवीसी के डीजीएम तथा एसई सिविल को भी दी है. बावजूद प्रसाद कंपनी को भुगतान फंड नहीं रहने का रोना रोकर नहीं किया जा रहा है.

भुगतान नहीं मिलने के कारण कंपनी ने निर्माण कार्य बंद करवा रखा है. इस पूरे मामले पर जब भेल के स्थानीय एजीएम जीबी मल्लिक से पूछा गया तो उनका कहना था कि वे फिलहाल बाहर हैं.

भुगतान को लेकर हो रही है वार्ता

डीवीसी के प्रोजेक्ट हेड कमलेश कुमार ने कहा कि प्रसाद कंपनी का बकाया राशि को लेकर भेल कंपनी से वार्ता की जा रही है ताकि भुगतान मिलने के बाद प्रसाद कंपनी का पावर प्लांट में रोड निर्माण सहित अन्य अधूरा काम पूरा हो सके.

इसे भी पढ़ें : रांची यूनिवर्सिटी : बीएड के लगभग नौ हजार छात्र ई कल्याण स्कॉलरशिप फार्म भरने से वंचित हो सकते हैं

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: