न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बेरमो : दामोदर नदी से बिना लीज के हो रहा बालू उठाव, पुलिस खामोश

नजर के सामने बालू उठाव पर भी पुलिस एवं खनन विभाग की चुप्पी कई सवाल सोचने पर मजबूर करती है.

58

Bermo : बेरमो अनुमंडल के बोकारो थर्मल एवं पेटरवार थाना अंतर्गत दामोदर नदी के बालू घाट से अवैध तरीके से बालू का उठाव जारी है. इसी बालू को बोकारो व हजारीबाग के विष्णुगढ़ प्रखंड में विकास कार्यों में लगाया जा रहा है. वहीं दामोदर नदी के बालू घाट से बिना लीज के ही बालू का उठाव किया जा रहा है. इसपर पुलिस एवं खनन विभाग की ओर से कोई कार्रवाई भी नहीं की जा रही है. नजर के सामने बालू उठाव पर भी पुलिस एवं खनन विभाग की चुप्पी कई सवाल सोचने पर मजबूर करती है.

रातभर चलता है अवैध ढुलाई का काम

अवैध तरीके से बालू उठाव का काम रात होते ही शुरू होता और सुबह के दस बजे तक यह जारी रहता है. बालू उठाव का खेल खेतको स्थित दामोदर नदी के बालू घाट से किया जाता है. रात होते  ही बालू घाट पर ट्रैक्टरों का जमावड़ा लग जाता है, जिससे अवैध ढुलाई की जाती है. बालू उठाव के काम में 50-100 की संख्या में ट्रैक्टर लगे रहते हैं. जिससे नदी के पास ही बालू को स्टॉक किया जाता है. फिर उसी स्टॉक किये गये बालू को जेसीबी से हाईवा पर लोड किया जाता है और बोकारो जिला मुख्यालय एवं हजारीबाग के विष्ण्गढ़ प्रखंड अंर्तगत नवादा में सप्लाई किया जाता है. जहां नहर एवं विकास के अन्य कार्यों में बालू को खपाया जाता है. इस अवैध काम में हर दिन लगभग 25-30 हाईवा बालू ढुलाई के काम में लगे रहते हैं. वहीं प्रति हाईवा बालू के बदले 12-16 हजार रुपये लिये जा रहे हैं.

5-10 हजार लेकर छोड़ देती है पुलिस

बालू की अवैध ढुलाई पुलिस के लिये कमाई का जरिया बना हुआ है. वहीं स्थानीय स्तर पर चलने वाले विकास के कार्यों के लिये दामोदर नदी से जो बालू रात के वक्त ठुलाई होती है. उसे पुलिस सुबह के वक्त पकड़ लेती है 5-10 हजार रूपये लेकर छोड़ भी देती है. हालांकि जब इसकी सूचना  पुलिस एवं प्रशासन के वरीय पदाधिकारियों को दी जाती है, तो थाना की पुलिस केस दर्ज करती है या फाईन के लिए खनन विभाग को लिखती है.

वर्तमान में बोकारो जिला में नहीं है बालू का लीज

बोकारो खनन विभाग के निरीक्षक विनोद प्रमाणिक की मानें तो वर्तमान में बोकारो जिला में किसी भी नदी के बालू घाट का लीज किसी के पास नहीं है. उनके अनुसार, इसके पूर्व चंदनक्यारी एवं तुरियो में बालू घाट का लीज था, जो समाप्त हो गया है. खनन विभाग के निरीक्षक से जब खेतको स्थित दामोदर नदी से बालू उठाव बारे में पूछा गया तो उनका कहना था कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है. साथ ही उन्होंने कहा कि , लेकिन फिर भी ऐसा हो रहा है तो इसकी जांच परीक्षा खत्म हेते ही करायी जायेगी. इस समय निरीक्षक परीक्षा की डयूटी में व्यस्त हैं.

कार्रवाई करने के लिए बनाया गया है टास्क फोर्स

जिले में कोयला,पत्थर एवं बालू के अवैध कारोबार को रोकने के लिए बोकारो डीसी के द्वारा एक टास्क फोर्स का गठन किया गया है. जिसमें चास एवं बोकारो के एसडीओ, वन विभाग एवं खनन विभाग के पदाधिकारी सहित कई अन्य पदाधिकारी शामिल हैं. लेकिन फिर भी अवैध बालू उठाव का काम धड़ल्ले से जारी है.

हालांकि जब इस बारे में बोकारो खनन विभाग के खनन पदाधिकारी गोपाल दास से बात करने की कोशिश की गयी तो उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया. फोन

इसे भी पढ़ें – एस्सेल इंफ्रा चोर है, उसका एक भी आदमी सही नहीं है : आशा लकड़ा

इसे भी पढ़ें – नव निर्मित विधानसभा के आसपास 75 करोड़ की लागत से लैंड स्केपिंग और वाटर फाउंटेन लगेगा

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: