न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कर्नाटक व गोवा के बाद अब झारखंड में “शुद्धिकरण” की बारी !

2,296

Surjit Singh

पिछले कुछ सालों में देश की राजनीति में “शुद्धिकरण” शब्द की चर्चा खूब होती है. इसका अर्थ यह होता है कि जब तक कोई राजनेता, सांसद या विधायक विपक्ष में है.

तब तक वह घपलेबाज है, परिवारवाद करता है, देश को तोड़ने वाली बात करता है. लेकिन जैसे ही वह राजनेता खास दल से जुड़ जाता है. पूरी तरह शुद्ध हो जाता है. राजनीतिक हलकों में इस पूरी प्रक्रिया को “शुद्धिकरण” कहा जाता है.

खैर यह “शुद्धिकरण” सही है. गलत है. नैतिक है. अनैतिक है. यही राजनीति की रीत है. इस पर चर्चा फिर कभी. फिलहाल, चर्चा कर्नाटक और गोवा के बाद झारखंड की.

इसे भी पढ़ेंःकर्नाटक संकटः विधायकों के इस्तीफे पर SC में सुनवाई आज, कुमारस्वामी ने बुलायी कैबिनेट मीटिंग

पिछले एक सप्ताह से कर्नाटक की राजनीति में हंगामा मचा हुआ है. कांग्रेस-जेडीएस सरकार संकट में है. कांग्रेस के 13 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं. कुछ का इस्तीफा स्वीकार हो चुका है. कुछ को नोटिस किया गया है.

बागी विधायकों की तस्वीर अखबारों में छप रही है. जिसमें वे होटल के हॉल में योगा करते दिख रहे हैं. यह संदेश हैं, उनके “शुद्धिकरण” का.

इस बीच 11 जुलाई को अखबारों में खबर है कि गोवा कांग्रेस में भी फूट पड़ गयी है. कांग्रेस के 10 विधायक अचानक विधानसभा अध्यक्ष के पास पहुंचे औऱ भाजपा में शामिल होने की जानकारी दी. 40 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 15 विधायक थे. अब सिर्फ पांच बचे हैं.

अब बात झारखंड की. राजनीतिक हलकों में इस बात की चर्चा शुरु हो गयी है कि कर्नाटक व गोवा के बाद अब झारखंड की बारी है. झारखंड में भी “शुद्धिकरण” का दौर जल्द ही शुरु होगा. चुनाव के पहले झामुमो और कांग्रेस में टूट की आशंका व्यक्त की जाने लगी है. इसके लिये कोशिशें शुरु हो गयी हैं.

रिश्ते, पावर, पैसे, संबंध सभी हथियारों का इस्तेमाल होना तय है. और जिन्हें अपने विधायकों को टूटने से बचाना है, वह शायद अपने हालात से वाकिफ ही नहीं है. इस कारण अपने चाल-चलन में बदलाव करना ही नहीं चाहते.

इसे भी पढ़ेंःगोवा कांग्रेस में फूट के बाद 15 में से 10 विधायक BJP में शामिल

विपक्षी दलों के हालात यह हैं कि, उनके विधायकों को अपने नेता से बात करने तक के लिये भी पहले दूसरी जगहों पर संपर्क साधने पड़ते हैं. इससे विधायकों में जबरदस्त नाराजगी है. कुछ मिलाकर भाजपा के लिये झारखंड में खुला मैदान है और विपक्षी दल वॉक ओवर देने की तैयारी में है.

झारखंड में भाजपा और आजसू का गठबंधन सत्ता में है.भाजपा के 37 विधायक हैं. जेवीएम से टूट कर आये 6 विधायकों को जोड़ दें, तो यह संख्या 43 होती है.

भाजपा का स्पष्ट बहुमत है. आजसू के 5 विधायक थे, जिनमें से विकास मुंडा ने पार्टी छोड़ दी. चंद्र प्रकाश चौधरी विधायक से सांसद बन गये. जबकि लोहरदगा से आजसू के विधायक कमल किशोर भगत की सदस्यता रद्द कर दी गयी है.

ऐसे में आजसू के दो विधायक बचे हैं. विपक्षी दल झामुमो के 19 और छह विधायक टूटने के बाद जेवीएम के दो विधायक हैं. वहीं कांग्रेस के 8 विधायक हैं.

इसे भी पढ़ेंःविपक्षी दलों के अस्तित्व पर संकट के गहराते बादल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: