Ranchi

जनवरी 2019 के बाद पेट्रोल की कीमत में 3.27 रुपये की बढ़ोत्तरी, बढ़ी कीमतों पर किसी भी दल की नजर नहीं

Ranchi: लोकसभा चुनाव में महंगाई दलों के लिए एजेंडा नहीं है. पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों पर कोई भी दल प्रचार-प्रसार के दौरान एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप नहीं लगा रहे हैं.

आंकड़ों के अनुसार, एक जनवरी 2019 के बाद से लेकर अब तक पेट्रोल की कीमतों में 3.27 रुपये की बढ़ोत्तरी की गयी है. एक जनवरी को पेट्रोल की कीमत 68.02 रुपये प्रति लीटर थी. वह 18 अप्रैल को 71.29 रुपये हो गयी.

इसे भी पढ़ेंःशहीद हेमंत करकरे को लेकर साध्वी का विवादित बयान, कहा- उन्हें कर्मों की मिली सजा

एक मार्च से अब तक पेट्रोल की कीमतें 90 पैसे तक बढ़ायी गयी हैं. जानकारी के अनुसार, पेट्रोल को अब भी गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) से मुक्त रखा गया है.

झारखंड में भी पेट्रोल पर जीएसटी नहीं लगता है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी क्रूड ऑयल की कीमत 63 से 64 डॉलर प्रति बैरल है.

राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि पेट्रोल, डीजल की बढ़ती कीमतें अब बड़ी पार्टियों का मुद्दा नहीं बनती हैं. अब धर्म, हिंदू-मुस्लिम कार्ड, जातिगत गणना और कुछ स्थानीय मुद्दे ही चुनाव के दौरान सामने आते हैं.

इसे भी पढ़ेंः भारत ने पाकिस्तान के साथ एलओसी के जरिए होनेवाले व्यापार पर लगाई रोक

यहां तक की चुनावी घोषणापत्र में भी महंगाई अब गायब होने लगी है. लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दलों का एजेंडा चौकीदार चोर है, राफेल, किसानों और युवाओं को न्याय और परिवारवाद पर ही टिका हुआ है.

सत्ताधारी दल और विपक्ष सभी एक-दूसरे पर ताबड़तोड़ आरोप लगा रहे हैं. यहां तक की बजरंगबली, अली जैसे नारों के साथ जातिगत भावनाओं को भी भड़काने का काम पार्टियां लगातार कर रही हैं.

किसी भी दल ने यह चुनावी मुद्दा बनाने की कोशिश नहीं की है कि बढ़ते पेट्रोल, डीजल की कीमतों से कैसे सभी चीजें महंगी हो रही हैं, चाहे वह ट्रांसपोर्टेशन खर्च हो, यातायात हो अथवा अन्य सामग्रियों की खेप को पहुंचाने की बात हो.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड के उन उम्मीदवारों को जानिए जिनकी जीतने की संभावना है कम, लेकिन होंगे गेमचेंजर

पेट्रोलियम कंपनियां तय करती हैं दरों के बढ़ने और घटने की नीति

देश भर में पेट्रोलियम कंपनियां पेट्रोल, डीजल की कीमतों के बढ़ने और घटने पर फैसला लेती हैं. तत्कालीन यूपीए सरकार के कार्यकाल में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय की तरफ से पेट्रोल और डीजल की कीमतों को बढ़ाने और घटाने का फैसला लिया जाता था.

इसे बाद में पेट्रोलियम कंपनियों के हाथों सौंप दिया गया. यूपीए-2 में पेट्रोल, डीजल की कीमतों को भाजपा, वाम दलों और अन्य ने बड़ा चुनावी मुद्दा भी बनाया था.

क्या है रांची में पेट्रोल की कीमत

तारीख पेट्रोल की कीमत (रुपये/लीटर)
एक जनवरी 68.02
25 जनवरी 70.00
एक मार्च 70.39
11 मार्च 70.90
31 मार्च 71.18
1 अप्रैल 71.24
15 अप्रैल 71.33
18 अप्रैल 71.29

इसे भी पढ़ेंःसाध्वी प्रज्ञा के चुनाव लड़ने पर रोक की मांग, कोर्ट पहुंचे मालेगांव धमाके के पीड़ित के पिता

Related Articles

Back to top button